सदन में बचाव करते रहे पायलट, गहलोत ने शेर पढ़कर आखिर में कस दिया तंज

जयपुर। एक तरफ जहां पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट विपक्ष के हमलों से खुद को और सरकार को बचाने का प्रयास कर रहे थे, तो दूसरी तरफ मुख्यमंत्री अशोक गहलोत नहीं अपने भाषण के आखिरी में शेर पढ़कर खुद सचिन पायलट पर ही हमला कर दिया।

नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया जहां सचिन पायलट के बहाने सरकार के ऊपर हमला कर रहे थे। उनके पंचायती राज मंत्री रहते हुए राजस्थान को एक नंबर लाने के दावे कर रहे थे, तो दूसरी तरफ सचिन पायलट ने उनको रोकते हुए कहा कि यह वक्त अविश्वास प्रस्ताव पर बोलने का है, उनके ऊपर बोलने का नहीं है।

सदन में ऐसा लग रहा था कि सचिन पायलट पक्ष और विपक्ष में से किसी को भी खुद के बहाने मजाक का विषय बनाने से रोकने का प्रयास किया जा रहा था, लेकिन मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने भाषण के आखिरी में एक शेर पढ़कर सचिन पायलट पर ही तंग कर दिया।

जिस चीज की उम्मीद थी वही विधानसभा में हुआ। विधानसभा में एक तरफ जहां विपक्ष सरकार के दो टुकड़े जताने का प्रयास करता रहा, वहीं खुद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के भाषण से स्पष्ट हो गया कि सरकार में अभी भी दो टुकड़े हैं।

यह भी पढ़ें :  BJP सांसद ने अपनी ही पार्टी के विधायक को जूते से कूटा