ऐसी नाकारा और निकम्मी सरकार को सत्ता में रहने का कोई हक नहीं है: डॉ. पूनिया

जयपुर। राजस्थान विधानसभा में सत्र की शुरुआत के साथ ही भारतीय जनता पार्टी अध्यक्ष डॉ सतीश पूनिया ने सरकार के ऊपर तगड़ा हमला बोला। उन्होंने कहा कि जैसे नाकारा और निकम्मी सरकार को सत्ता में रहने का कोई हक नहीं है।

राजस्थान में अपराध के आंकड़ों बलात्कार, गैंगरेप और तमाम आपराधिक आंकड़ों के साथ बेहतरीन प्रस्तुति के साथ सरकार पर हमला करते हुए भाजपा अध्यक्ष ने सरकार को विधानसभा में जमकर लताड़ा।

विधानसभा में दिया गया पूरा स्पीच

राजस्थान की जनता से बहुत सारे दृश्य इस दौरान देखे, फेयरमाउंट की इटैलियन डिस, अंताक्षरी, संगीत संध्या, क्रिकेट
इस दौरान ऐसी चीखें भी थीं, जिसमें गैंगरेप, कोरोना की मौतों की बात कौन करेगा।

सूर्यगढ़ के मांगडियाणार (जैसलमेर)
कलाकारों ने बड़ी दिलेरी से कहा, वेबफा तेरा यूं मुस्कराना, भूल जाने के काबिल नहीं दुनिया के आंकड़ों पर नजर डालें तो दुनिया की पहली सरकार होगी, जो लगभग महीनेभर से बाडे में बंद रही।

बात तो लोकतंत्र की कर रहे थी, यह सरकार बाड़े से चल रही थी, चल रही थी या नहीं चल रही थी, वो तो यह आंकड़े बतायेंगे, लेकिन जिस तरीके से राजस्थान की जनता ने दृश्य देखा।

आप बात लोकतंत्र की करते हैं, जिस विचार से आते हैं, देश में सबसे पहले अनुच्छेद 356 का दुरुपयोग कांग्रेस सरकार ने किया, यहां बहुत लोग बैठे हैं, जो लोग पीछे बैठे हैं, उनके पुरखे, पूर्वज एवं बुजुर्ग लोग 1975 में कांग्रेस द्वारा देश पर थोपे गये आपातकाल में जिल्लत का शिकार 90 महीने तक हुये।

लोकतंत्र की बात करते-करते 19 महीने तक जेल तक की यातना को कैसे भूल पायेंगे, आपके पाप धुल जायेंगे, जब तक पीढ़ियां रहेंगी, हिन्दुस्तान एवं प्रदेश की जनता आपसे जवाब मांगती रहेंगी।

यह भी पढ़ें :  सचिन ने गहलोत-मलिंगा के आरोपों का दिया जवाब

आप दंभ भरते हो जनमत का, 2008 और 2018 में यही दृश्य था, राजस्थान का जुगाड़ मशहूर है, उस जुगाड़ के लिए जादूगर भी मशहूर हैं, किस तरह से 2008, 2018 में फैसला कानून करेगा।

बीएसपी की पूरी पार्टी को कभी बकरा बंडी बताते हो, कभी हॉर्स ट्रेडिंग करते हो, लेकिन आप तो पूरे हाथी को ही गटक गये, मुख्यमंत्री एलिफेंट ट्रेडिंग के आविष्कारक हैं।


साल 2018 के विधानसभा चुनाव में लोकलुभावन वादे करके भोलेभाले किसानों को कांग्रेस के महान राष्ट्रीय नेता राहुल गांधी ने जालोर की एक जनसभा में कहा था कि, सरकार बनने के 10 दिन के अंदर प्रदेश के किसानों का कर्ज मा देंगे, लेकिन कहां गया वादा, राजजस्थान का किसान आपसे जवाब मांगेंगे।


25 से अधिक रोजगार लंबित हैं, 4 हजार से अधिक पदों के मामले कोर्ट में अटके हैं, राजस्थान का बेरोजगार युवा आपसे जवाब मांग रहे हैं, लेकिन आपके पास जवाब नहीं हैं।


राजस्थान के बारे में कहा जाने लगा कि यह अपराधों की राजधानी बनती जा रही है, सालभर में 2 लाख से अधिक मुकदमे दर्ज हुये, भ्रष्टाचार के मामले 445 मामले, 293 में गिरफ्तार किया है, आप की नाक के नीचे ष्टाचार हो रहा हैं।


राजस्थान को अपराध की दुनिया में धकेला है, प्रतिशत….
खुद को दलितों का हिमायती मानते हो, दलित उत्पीड़न की वारदातें 92 प्रतिशत बढ़ीं, एससी-एसटी उत्पीड़न की वारदातों में 100 प्रतिशत से अधिक बढ़ोतरी हुई।

आपका सर शर्म से झुक जायेगा, आप महिला हितैषी होने की बात करते हो, 122 प्रतिशत उत्पीड़न बढ़ोतरी, राजस्थान की जनता आपसे जवाब मांगेगी। सड़क पर जवाब देना होगा।

यह भी पढ़ें :  बैचेन गहलोत ने सिंधिया के बहाने पायलट को चेतावनी दी है?

1957 में कम्यूनिस्ट पार्टी की सरकार को गिराने का काम कांग्रेस ने किया, एक लंबी फेहरिस्त है चुनी हुई सरकारों को गिराने की, एक के बाद एक सरकारें गिरने लगी तो उस समय एक पूर्व प्रधानमंत्री ने उस समय के तत्कालीन गृहमंत्री से कहा था कि जब एक के बाद एक सरकारें कत्ल होती गई तो कृपाण आप अंदर रख लीजिये, कितनी सरकारें हलाल करेंगे, किस बात का जवाब मांगते हैं।


प्रदेश के 20 जिलों में टिडि्डयों ने हमला किया, 90 हजार हैक्टेयर में फसलों को नुकसान हुआ है, जब पता चला कि कांग्रेस सरकार एवं उसके विधायक फेयरमाउंट से जयपुर से सूर्यगढ़ के जैसलमेर पहुंच गये।

जैसलमेर तो आगे तो कोई जगह थी नहीं, आप इतने निठल्ले हो गये थे, तो मैंने सैकड़ों पीपे भिजवाये थे, कि जिन्हें बजाकर कम से कम कुछ टिड्‌डी तो भगा सकते हैं।


मैं निवेदन करना चाह रहा हूं, जिस तरीके से आज राजस्थान में कोरोना 56 हजार से अधिक केस, 800 से अधिक मौत, बेटी अस्पताल में चीखती रही, कोरोना से जंग लडते हुये पिता दम तोड़ता रहा।

कोरोना प्रबंधन की बात करते हो, 29 मार्च को जो घटिया पीपीई किट खरीद, एन 95 मास्क का सवाईमानसिंह अस्पताल से गायब होना, उनकी खरीद में अनियमितता होना मुख्यमंत्री जवाब दें कि, पौने दो साल में फितरत ऐसी प्रदेश की जनता को राहत देने का कोई काम नहीं किया।

प्रदेश में सभी विकास कार्य ठप्प पड़े हैं। सदन को इस्तेमाल अपनी भडास कहां निकालें, मन की बातें कहां निकालें जरिया नहीं मिलता, किसी से नजर नहीं मिलती, किसी से नजरिया नहीं मिलता, ऐसी सरकार को चलाकर करेंगे भी क्या, किसी से नजर नहीं मिलती, किसी से नजरिया नहीं मिलता।

यह भी पढ़ें :  नगर निकाय चुनाव: जयपुर, जोधपुर और कोटा में निगम चुनाव को लेकर सबसे बड़ी खबर, तब होंगे निकाय चुनाव

प्रधानमंत्री, गृहमंत्री और भाजपा पर झूठे आरोप लगाकर आप अपने पापों से छुप नहीं सकते, आप उन पापों को ढंक नहीं सकते।

इस तरीके से सहकारी संघवाद का नारा लेकर, आप ही ने कहा था 8 करोड़ की राजस्थान की जनता राजभवन को घेर लेगी, आपके पास जवाब है किसका, आप क्यों पलटे?

आपने प्रदेश की एसओजी, एसीबी और पुलिस को इंस्ट्रूमेंट की तरह इस्तेमाल किया, जिस तरह से आपने अपनी सरकार पर भरोसा नहीं किया।