भाजपा लाएगी गहलोत सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव, बढ़ सकती हैं राजस्थान सरकार की मुश्किलें

जयपुर। राजस्थान विधानसभा का सत्र शुक्रवार से शुरू होने जा रहा है। उससे पहले गुरुवार को भारतीय जनता पार्टी विधायक दल की भाजपा मुख्यालय में बैठक हुई, जिसमें भारतीय जनता पार्टी के बीकानेर से विधायक सिद्धि कुमारी को छोड़कर सभी विधायक शामिल हुए।

भारतीय जनता पार्टी ने विधायक दल की बैठक के बाद बताया कि सरकार के खिलाफ शुक्रवार को विधानसभा सत्र शुरू होते ही अविश्वास प्रस्ताव लाया जाएगा।

दूसरी तरफ कांग्रेस विधायक दल की बैठक में सचिन पायलट समेत सभी 19 विधायक शामिल नहीं हुए और अशोक गहलोत के साथ 102 विधायकों की बैठक हुई।

जानकारी में आया है कि अशोक गहलोत सरकार ने भी तय किया है कि शुक्रवार को सरकार खुद ही विधानसभा में विश्वास प्रस्ताव लाएगी, ताकि भाजपा के अविश्वास प्रस्ताव का मुकाबला किया जा सके।

इससे पहले विधायक दल की बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने उनको लेकर मीडिया में चल रही खबरों को लेकर गहरी नाराजगी जताई है। उन्होंने कहा है कि कुछ पत्रकार उनके खिलाफ लगातार खबरें लिख रहे हैं।

जबकि, असलियत यह है कि वसुंधरा राजे के पब्लिक रिलेशन सेल की तरफ से लगातार विभिन्न अखबारों और टीवी चैनल स्कोर इस तरह की खबरें दी जा रही है, जिससे बताया जा सके कि वसुंधरा राजे की भाजपा में बहुत अहमियत है।

एक सामान्य विधायक की तरह वसुंधरा राजे ने भाजपा विधायक दल की बैठक में हिस्सा लिया और फिर मीडिया से बात करें बिना ही गाड़ी में बैठकर निकल गई।

विधायक दल की बैठक से निकलकर वसुंधरा राजे सिविल लाइन स्थित अपने सरकारी निवास पर गई और वहां पहुंच कर उन्होंने ट्वीट किया कि कुछ मीडिया संस्थानों के द्वारा उनके खिलाफ खबरें प्रसारित की जा रही हैं, जबकि वह भाजपा के निष्ठावान कार्यकर्ता हैं।

यह भी पढ़ें :  हनुमान बेनीवाल ने चलाया 'वसुंधरा-गहलोत गठजोड़' अभियान, ट्विटर पर रहा एक नम्बर