सचिन पायलट के खौफ में अशोक गहलोत सरकार फिर से होटल में कैद

जयपुर। राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट का खौफ अभी भी राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की सरकार को सता रहा है।

1 महीने से होटलों में कैद अशोक गहलोत की सरकार एक बार फिर से जैसलमेर की सूर्यगढ़ होटल से निकलकर जयपुर के फेयर माउंट होटल में कैद हो गई है।

जैसलमेर से जयपुर पहुंची सरकार

अशोक गहलोत आज खुद जोधपुर में रहे हैं लेकिन प्लेन से जैसलमेर जयपुर पहुंचे कांग्रेस के विधायक और मंत्री एयरपोर्ट से सीधे बस उनके द्वारा दिल्ली रोड पर स्थित फेयर माउंट होटल में चले गए।

पायलट के साथी विधायकों ने सुनी समस्याएं

दूसरी तरफ उपमुख्यमंत्री रहे हैं सचिन पायलट के साथ ही सभी गुल ने इस विधायक अपने अपने क्षेत्र में चले गए हैं। बताया जा रहा है कि कुछ विधायकों ने अपने क्षेत्र में जनता के साथ मुलाकात भी की है और उनकी समस्याएं सुनने का कार्य भी किया है।

पायलट से क्यों डरते हैं गहलोत?

हालांकि सचिन पायलट के द्वारा कांग्रेस आलाकमान के साथ मुलाकात होने के बाद दोनों नेताओं के बीच झगड़ा खत्म होने की बात कही जा रही थी, लेकिन लगता है अशोक गहलोत की सरकार को अब भी पूर्व उपमुख्यमंत्री रहे सचिन पायलट के द्वारा डराता कम नहीं हो रहा है।

भाजपा का डर है या पायलट?

सवाल यह उठता है कि आखिर ऐसा क्या कारण है कि राजस्थान के भीतर ही मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को अपने मंत्री और विधायकों के ऊपर भरोसा नहीं रहा है, जिनको सचिन पायलट और भाजपा के द्वारा खरीदे जाने के आरोप लगाते रहे हैं।

यह भी पढ़ें :  SC-ST आरक्षण उत्तराखंड की तत्कालीन कांग्रेस सरकार खत्म करना चाहती थी, अब लेने के देने पड़ रहे हैं

आखिर इतना डर क्यों है?

दूसरी तरफ एक सवाल यह भी उठता है कि जब सचिन पायलट और अशोक गहलोत के बीच कांग्रेस आलाकमान के द्वारा सुलह कराने का प्रस्ताव तैयार किया जा चुका है तो फिर अशोक गहलोत को अपने समर्थक विधायकों को लेकर इतनी सुरक्षा क्यों है?