27 C
Jaipur
मंगलवार, अगस्त 11, 2020

राजनीतिक चर्चाओं में फिर से 1993 का वो सियासी हादसा ताजा हो गया

- Advertisement -
- Advertisement -

जयपुर। राजस्थान की राजनीति में जिस तरह से 24 जुलाई को राजस्थान हाई कोर्ट की डबल बेंच का फैसला आया और उसके बाद दिल्ली रोड पर स्थित मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के स्वामित्व वाली एक होटल से सीएम अशोक गहलोत, उनका पूरा मंत्रिमंडल और उनको समर्थन देने वाले तमाम विधायकों को दो बसों में भरकर राजभवन में लाया गया और जिस तरह से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के द्वारा राज्यपाल कलराज मिश्र को मीडिया के माध्यम से चेतावनी देते हुए कहा गया कि अगर राज्यपाल ने विधानसभा सत्र आहूत करने के निर्देश नहीं दिए तो प्रदेश की जनता राजभवन को घेर लेगी और उसकी जिम्मेदारी हमारी नहीं होगी।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के इस बयान के बाद राजभान में दो बसों में भरकर तमाम मंत्रियों और विधायकों को लाया गया और राजभवन परिसर में ही मंत्रियों विधायकों के द्वारा राज्यपाल और केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी की गई। राजभवन परिसर में ही मंत्री और विधायक धरने पर बैठे।

उसके बाद राजनीतिक हलकों में 1993 का वह राजनीतिक घटनाक्रम फिर से ताजा हो गया। उस वक्त कांग्रेस के 76 विधायक जीतकर आये थे।

वरिष्ठ पत्रकार नारायण बारेठ बताते हैं कि तत्कालीन भाजपा नेता स्वर्गीय भैरों सिंह शेखावत के द्वारा भारतीय जनता पार्टी के 95 और 11 निर्दलीय विधायकों के साथ राजभवन गए थे और तत्कालीन राज्यपाल बलिराम भगत के द्वारा तत्कालीन केंद्र सरकार के दबाव में विधानसभा का सत्र नहीं बुलाने और सरकार को अल्पमत में बताने का प्रयास किया गया था।

तब पूरा सियासी ड्रामा कुल 3 दिन तक चला था। उसी तरह से एक बार फिर से राजभवन में पूरी गतिविधि ने राजनीति के जानकारों को सोचने पर मजबूर कर दिया। जयपुर में बरसों से राजनीति को नजदीक से देख रहे कुछ वरिष्ठ पत्रकार बताते हैं कि तब निर्दलीय विधायकों के साथ भारतीय जनता पार्टी के तत्कालीन नेता भैरों सिंह शेखावत ने राज्यपाल बलिराम भगत के समक्ष अपनी सरकार गठन के लिए दावा पेश किया गया था।

लेकिन उन्होंने बहुमत नहीं होने का हवाला देते हुए भैरों सिंह शेखावत की सरकार के गठन से इंकार कर दिया था, तब भी राजभवन में शुक्रवार ही की तरह हाई प्रोफाइल पॉलिटिकल ड्रामा चला था।

तब 1993 में तत्कालीन भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी एक विशेष विमान से जयपुर आए थे और राजभवन में बलिराम भगत से मुलाकात की थी।

इसके साथ ही भाजपा के ही वरिष्ठ नेता अटल बिहारी वाजपेई ने तत्कालीन राष्ट्रपति से मुलाकात करके पूरे संवैधानिक संकट को टालने के लिए गुहार लगाई थी।

इसके बाद राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा के द्वारा तत्कालीन राज्यपाल बलिराम भगत को निर्देश दिए गए थे कि सबसे बड़ा दल होने के नाते भाजपा के नेता भैरोंसिंह शेखावत को सरकार गठन के लिए आमंत्रित किया जाए।

उसके बाद भैरों सिंह शेखावत की सरकार बनी और पूरे 5 साल तक चली थी। तब कुल 22 मंत्री बने, जिनमें से 10 निर्दलीय विधायक थे।

शुक्रवार को दिल्ली रोड पर स्थित अशोक गहलोत के स्वामित्व वाली होटल से लेकर राजभवन में कलराज मिश्र के सामने सरकार के मंत्रियों और विधायकों के द्वारा नारेबाजी करने देर रात तक धरने पर बैठने और मुख्यमंत्री के द्वारा ही संवैधानिक पद पर बैठे हुए राज्यपाल को एक तरह से चेतावनी देने के बाद राजनीति के जानकारों ने 1993 का वो राजनीतिक हादसा याद किया।

- Advertisement -
राजनीतिक चर्चाओं में फिर से 1993 का वो सियासी हादसा ताजा हो गया 3
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

एयर इंडिया एक्सप्रेस विमान के नुकसान का दावा मंजूर : बीमा अधिकारी

चेन्नई, 10 अगस्त (आईएएनएस)। कोझिकोड में शुक्रवार की रात दुर्घटनाग्रस्त हुए एयर इंडिया एक्सप्रेस की प्रमुख पुनर्बीमा कंपनी ने कुल नुकसान के लिए किए...
- Advertisement -

कोरोना प्रकोप के बीच 5 राज्यों में गर्भपात की गोलियों की अत्यधिक कमी

नई दिल्ली, 10 अगस्त (आईएएनएस)। कोरोनावायरस प्रकोप के बीच दिल्ली, पंजाब, तमिलनाडु, हरियाणा और मध्य प्रदेश में स्टॉक की कमी के कारण पूरे देश...

रिया को खतरनाक मीडिया ट्रायल का निशाना बनाया जा रहा है : स्वरा भास्कर

मुंबई, 10 अगस्त (आईएएनएस)। अभिनेत्री स्वरा भास्कर का मानना है कि सुशांत सिंह राजपूत के मामले में रिया चक्रवर्ती को एक खतरनाक मीडिया ट्रायल...

दर्शन रावल ने एक तरफा का रीप्राइज वर्जन रिलीज किया

मुंबई, 10 अगस्त (आईएएनएस)। गायक दर्शन रावल ने अपने नए ट्रैक एक तरफा के रीप्राइज वर्जन को रिलीज किया, उनका कहना है कि यह...

Related news

आत्म-निर्भर भारत पर निबंध लिखेंगे देशभर के छात्र

नई दिल्ली, 6 अगस्त (आईएएनएस)। स्वतंत्रता दिवस समारोह के उपलक्ष्य में माईगव के साथ साझेदारी में शिक्षा मंत्रालय देश भर में स्कूली छात्रों के...

NRC (National Register of citizen) और CAB (Citizenship Ammendment Bill) के बाद क्या हैं PCB और UCC…?

New delhiकेंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा इसी सप्ताह नागरिकता संशोधन विधेयक (Citizenship Ammendment Bill), यानी CAB पास करवाने के बाद गुरुवार...

हर 100 साल में आती है महामारी, 1720, 1820, 1920 और अब 2020 में भयानक Covid-19

रामगोपाल जाट कोरोना वायरस की चपेट में अब पूरी दुनिया आ चुकी है। सबसे ज्यादा करीब 5500 मौतें चीन में हुई है। चीन के एक...

वसुंधरा-गहलोत दोनों एक दूसरे के भ्रष्टाचार पर पर्दा डालते हैं: बेनीवाल

जयपुर। राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक और नागौर से सांसद हनुमान बेनीवाल ने एक बार फिर से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व...
- Advertisement -