हमारी सरकार गिरी तो मोदी-भाजपा होंगे जिम्मेदार, गहलोत ने मोदी को लिखा पत्र

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर प्रदेश में पिछले कई दिनों से चल रहे सियासी संग्राम को लेकर भाजपा को आईना दिखाया है।

गहलोत ने साफ कर दिया है कि कोरोना काल में यदि उनकी सरकार गिराई जाती है तो इसके जिम्मेदार मोदी और भाजपा होंगे। मध्यप्रदेश सरकार गिराने पर भी भाजपा की बदनामी हुई थी।


गहलोत ने पत्र में लिखा है कि सच्चाई, स्वस्थ लोकतांत्रिक परंपराओं व संवैधानिक मूल्यों की जीत होगी और हमारी सरकार सुशासन देते हुए अपना कार्यकाल पूरा करेगी।


यह पत्र 19 जुलाई को लिखा गया। पत्र में गहलोत ने कहा कि मैं आपका ध्यान राज्यों में चुनी हुई सरकारों को लोकतांत्रिक मर्यादाओं के विपरीत हॉर्स ट्रेडिंग के माध्यम से गिराने के लिए किए जा रहे कुत्सित प्रयासों की ओर दिलाना चाहता हूं।

हमारे संविधान में बहुदलीय व्यवस्था के कारण राज्यों और केंद्र में अलग-अलग दलों की सरकारें चुनी जाती रही है। यही हमारे लोकतंत्र की खूबसूरती है।


1985 में बनाए गए दलबदल निरोधक कानून और इसमें किए गए संशोधन की भावनाओं और जनहित को दरकिनार कर पिछले कुछ समय से लोकतांत्रिक तरीकों से चुनी हुई राज्य सरकारों को अस्थिर करने का प्रयास किया जा रहा है।

यह जनमत का अपमान और संवैधानिक मूल्यों की अवहेलना है। कर्नाटक और मध्यप्रदेश में हुए घटनाक्रम इसके उदाहरण है।


कोरोना महामारी के समय राजस्थान की चुनी हुई सरकार को गिराने का प्रयास किया जा रहा है। इस कृत्य में केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, भाजपा के अन्य नेता और हमारे दल के अति महत्वाकांक्षी नेता शामिल है।

यह भी पढ़ें :  राजस्थान में नहीं आया कोई आगे, यूपी के कुशाग्र पांडे ने लगवाई पहली कोरोना डोज

इनमें से एक भंवर लाल शर्मा ने तो भाजपा के वरिष्ठ नेता स्व. भैरोंसिंह शेखावत की सरकार को भी विधायकों की खरीद-फरोख्त कर गिराने का प्रयास किया था।


उस समय धनराशि कई विधायकों तक पहुंच चुकी थी और मैने मुख्य विपक्षी दल के प्रदेशाध्यक्ष होने के नाते तत्कालीन राज्यपाल बलिराम भगत और प्रधानमंत्री पीवी नरसिम्हा राव से मिलकर विरोध किया कि इस प्रकार खरीद-फरोख्त करके चुनी हुई सरकार को गिराना लोकतांत्रिक मूल्यों के विरुद्ध है।


मुझे अफसोस है कि जिस समय आम जनता के जीवन और आजीविका को बचाने की जिम्मेदारी सरकारों पर है, उस समय केंद्र में सत्ता पक्ष कोरोना प्रबंधन प्राथमिकता को छोड़कर कांग्रेस की राज्य सरकार को गिराने के षडयंत्र में मुख्य भूमिका निभा रहा है।

कोरोना काल में मध्यप्रदेश की सरकार को गिराने पर आपकी पार्टी की देशभर में बदनामी हुई थी। मुझे पता नहीं कि किस हद तक यह सब आपकी जानकारी में है अथवा आपको गुमराह किया जा रहा है। इतिहास ऐसे कृत्य में भागीदार बनने वालों को कभी माफ नहीं करेगा।