रालोपा-भाजपा का गठबंधन टूटने की कगार पर

hanuman beniwal prakash jawdekar
hanuman beniwal prakash jawdekar

—मंत्री नहीं बनाए जाने से नाराज नजर आ रहे हैं हनुमान बेनीवाल
जयपुर।
विधानसभा चुनाव से ठीक 20 दिन पहले बनी राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी और 1982 में स्थापित भारतीय जनता पार्टी के बीच लोकसभा चुनाव से पहले हुआ गठबंधन टूटने की कगार पर है।

हालांकि, इस बारे में अभी तक किसी नेता का बयान नहीं आया है, लेकिन मंगलवार को विधानसभा में विधायक पद से इस्तीफा देने के बाद मीडिया से बात करते हुए नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल के तेवर यही कह रहे हैं।

एक सवाल के जवाब में बेनीवाल ने कहा कि उनको मंत्री बनने का शौक नहीं है, उन्होंने केवल नरेंद्र मोदी को फिर से प्रधानमंत्री बनाने के लिए गठबंधन किया था, जो मिशन पूरा हो चुका है।

एक अन्य सवाल के जवाब में बेनीवाल ने कहा कि उनका गठबधंन लोकसभा चुनाव के लिए हुआ था, जो आगे रहेगा या नहीं, इसको लेकर भविष्य बताएगा।

याद दिला दें कि बेनीवाल ने परिणाम से पहले कई बार कहा था कि उनका भाजपा के साथ गठबंधन बना रहेगा, लेकिन मंगलवार को बेनीवाल के द्वारा जिस तरह से बदली हुई भाषा में जवाब दिया गया, उससे साफ है कि वह भाजपा से खुश नहीं हैं।

आपको बता दें कि अगले 6 माह के भीतर खींवसर में उप चुनाव होने हैं, जिसमें यदि भाजपा ने अपना उम्मीदवार उतारने की जिद की, तो बेनीवाल भाजपा का साथ छोड़ सकते हैं।

गौरतलब यह भी है कि हनुमान बेनीवाल को मंत्री नहीं बनाए जाने से उनके समर्थक खासे गुस्सा हैं, जबकि बेनीवाल ने कहा है कि उन्होंने मंत्री बनने के लिए गठबंधन नहीं किया था।

यह भी पढ़ें :  गहलोत सरकार के 22 माह का रिपोर्ट कार्ड झूठ का पिटारा: राठौड़

पत्रकारों के एक प्रश्न के उत्तर में बेनीवाल ने कहा कि राजस्थान में रालोपा बनी रहेगी, उसका किसी पार्टी में विलय नहीं किया जा रहा है। इससे भी साफ है कि बेनीवाल ने सख्त रुख अपना लिया है।

फिलहाल खींवसर में होने वाले उप चुनाव तक इस गठबंधन के भविष्य का इंतजार करना होगा, क्योंकि तभी उम्मीदवारी को लेकर मामला साफ हो पाएगा।