बेनीवाल द्वारा गहलोत सरकार को बचाने के आरोपों से घिरीं वसुंधरा दिनभर सफाई देने में जुटी रहीं

जयपुर। राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष वसुंधरा राजे के लिए राजस्थान का राजनीतिक संग्राम अब सफाई देने का कारण बन गया है लगातार पांच दिन कर राज्य के सियासी घटनाक्रम पर चुप्पी साधे रहने वाली वसुंधरा राजे ने शनिवार को दिन भर खुद पर लगे आरोपों के मामले में सफाई देने का ही काम किया।

पिछले करीब 1 सप्ताह से राजस्थान की राजनीति में जो घटनाक्रम चल रहा है उसमें लगातार 6 दिन से चुप्पी साधे हुई बैठी पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे भी कूद पड़ी हैं। वसुंधरा राजे ने ट्वीट कर लिखा “यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि कांग्रेस के आंतरिक कलह का नुकसान आज राजस्थान की जनता को उठाना पड़ रहा है।

ऐसे समय में जब हमारे प्रदेश में कोरोना से 500 से अधिक मौतें हो चुकी है तथा करीब 28000 लोग कोरोनावायरस पॉजिटिव हैं, ऐसे समय में किसानों के खेतों पर टिड्डियां लगातार हमले कर रही हैं, ऐसे समय में जब हमारी महिलाओं के खिलाफ अपराध ने सीमाएं लांग दी हैं, ऐसे समय में जब प्रदेशभर में बिजली समस्या चरम पर है और यह तो केवल मैं कुछ ही समय बिता रही हूं।

कांग्रेस, भाजपा और भाजपा नेतृत्व पर आरोप लगाने का प्रयास कर रही है। सरकार के लिए सिर्फ और सिर्फ जनता का हित सर्वोपरि होना चाहिए। कभी जनता के बारे में सोचिए।”

माना जा रहा है कि भाजपा केंद्रीय नेतृत्व के द्वारा लगातार वसुंधरा राजे की चुप्पी पर उनको सक्रिय रहने और गहलोत सरकार पर हमलावर होने के लिए कहा गया है।

सूत्रों का दावा है कि लगातार एक सप्ताह तक चुप रहने और उनके खेमे के द्वारा सरकार बचाव करने के आरोपों के बाद भाजपा केंद्रीय नेतृत्व के द्वारा पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को फटकार भी लगाई गई है।

यह भी पढ़ें :  लॉक डाउनलोड करने और मॉडिफाइड लोग डाउन करने वाली देश की पहली सरकार बनी अशोक गहलोत की सरकार

गौरतलब है कि राजस्थान की सरकार पिछले 6 दिन से दिल्ली रोड पर स्थित मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की स्वामित्व वाली एक होटल में कैद है और राज्य में उपमुख्यमंत्री के अलावा दो मंत्रियों को मंत्रिमंडल से बर्खास्त कर दिया गया है।

राज्य की सरकार अल्पमत में बताई जा रही है। ऐसे वक्त में वसुंधरा राजे के लगातार चुप्पी के सवाल खड़े हो रहे थे। आज वसुंधरा राजे ने अपनी चुप्पी तोड़ते हुए परोक्ष रूप से अशोक गहलोत सरकार पर हमला बोला है।

इसके बाद शाम के करीब 6 बजे राजे ने अपनी चुप्पी और भाजपा के साथ नहीं होने के आरोपों पर सफाई देते हूए ट्वीट कर लिखा, की “राजस्थान के राजनीतिक घटनाक्रम पर कुछ लोग बिना किसी तथ्यों के भ्रम फैलाने की लगातार कोशिश कर रहे हैं।

मैं पिछले तीन दशक से पार्टी की एक निष्ठावान कार्यकर्ता के रूप में जनता की सेवा करती आई हूं और पार्टी एवं उसकी विचारधारा के साथ खड़ी हूं।”