नोटिस के खिलाफ पायलट गुट की तरफ से डबल बैंच में याचिका पर सुनवाई आज शाम 7:30 बजे

जयपुर। राजस्थान विधानसभा के अध्यक्ष डॉ सीपी जोशी की तरफ से पूर्व मुख्यमंत्री सचिन पायलट और उनके खेमे के 19 विधायकों की सदस्यता रद्द करने को लेकर जारी किए गए नोटिस के विरुद्ध हाई कोर्ट की डबल बेंच में सुनवाई शाम 7:30 बजे होगी।

इससे पहले सभी 19 जनों की ओर से एडवोकेट हरीश साल्वे के द्वारा राजस्थान हाईकोर्ट में अपील दायर की गई थी, जिस पर 5:00 बजे सुनवाई होनी थी, लेकिन इनके द्वारा ही संशोधित अपील पेश किए जाने के बाद कोर्ट ने सुनवाई का समय 2:30 घंटे और बढ़ा दिया।

उल्लेखनीय है कि 4 दिन से लगातार राजस्थान में बड़ा राजनीतिक ड्रामा चल रहा है। सचिन पायलट और उनके खेमे के माने जाने वाले अन्य 19 विधायक सरकार से समर्थन वापस ले चुके हैं और राज्य की सरकार को अल्पमत में बता चुके हैं।

दूसरी तरफ मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और यातायात मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास के अलावा चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा भी दावा कर चुके हैं कि सरकार के समर्थन में 109 विधायक हैं और सरकार को कोई नहीं गिरा सकता।

इसके साथ ही कांग्रेस पार्टी और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के तमाम मंत्रियों और प्रभारी अविनाश पांडे के द्वारा सचिन पायलट और उनके खेमे में शामिल सभी विधायकों को वापस सरकार के समर्थन में आने की अपील की गई है।

सबकी नजरें राजस्थान हाई कोर्ट की डबल बेंच में सुनवाई 7:30 बजे होगी। यदि इस मामले में कोर्ट की तरफ से स्टे दे दिया जाता है, तो यह तय मानकर चलिए कि सचिन पायलट खेमे के तरफ से राज्यपाल के समक्ष फ्लोर टेस्ट की मांग की जा सकती है।

यह भी पढ़ें :  अशोक गहलोत सरकार बचाने के जुगाड़ में लगे हैं, इनकी सरकार और सभाएं भी जुगाड़ की हैं : डॉ. पूनियां

जैसी की संभावना है फ्लोर टेस्ट में यदि अशोक गहलोत सरकार बहुमत साबित नहीं कर पाई तो मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उनके पूरे मंत्रिमंडल को इस्तीफा देना होगा और इसके बाद राज्यपाल की भूमिका बहुत अहम हो जाएगी।

दूसरी ओर भारतीय जनता पार्टी लगातार वेट एंड वॉच कर रही है। सारे राजनीतिक घटनाक्रम को लेकर पार्टी की तरफ से केवल यही कहा जा रहा है कि गहलोत सरकार की अराजकता चरम पर है और इस सरकार को गिराने के लिए पार्टी हर संभव प्रयास करेंगे।