हनुमान बेनीवाल ने नैतिकता के नाते अशोक गहलोत से त्यागपत्र देने को कहा

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की जादूगरी बेकार होती हुई नजर आ रही है। पहली बार अशोक गहलोत को भारतीय जनता पार्टी, राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी और खुद के ही दल से पार्टी अध्यक्ष व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के द्वारा चौतरफा घेरा जा रहा है।

लगातार तीसरे दिन नागौर के सांसद और राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक हनुमान बेनीवाल ने ट्वीट करके मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को उनकी नीतियों के लिए पूरी तरह से नेस्तनाबूद कर दिया है।

अपनी ही पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष और खुद की सरकार के उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के द्वारा बगावत करने और 30 से अधिक कांग्रेस के विधायक साथ लेकर अलग होने के दावे के दूसरे दिन राजस्थान में कांग्रेस के युवा विधायक मुकेश भाकर ने भी बगावत कर दी है।

दूसरी तरफ भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ सतीश पूनिया के द्वारा कहा गया है कि अगर उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट और कोई भी कांग्रेस के विधायक भारतीय जनता पार्टी में शामिल होना चाहते हैं तो उनका स्वागत किया जाता है।

इधर हनुमान बेनीवाल ने एक के बाद एक लगातार पांच ट्वीट करके प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से नैतिकता के नाते इस्तीफा मांग लिया है। उन्होंने कहा है कि 2018 की चुनाव के वक्त राज्य की जनता ने सचिन पायलट को बहुमत दिया था, लेकिन आलाकमान के समक्ष चमचागिरी करके गहलोत मुख्यमंत्री बन गए।

इन पांच ट्वीट से गहलोत को लताड़ा

जो सरकार कल खुद की एजेंसी SOG का इस्तेमाल खुद के मंत्रियों, विधायको को Notice देकर दबाव बनाने में कर रही थी वो ही सरकार आज Income Tax आदि की कार्यवाही का नाम लेकर केंद्र सरकार पर झूठे आरोप लगा रही है , यह बात @ashokgehlot51 शासन के दोहरे चरित्र को दर्शा रही है !

यह भी पढ़ें :  ‘‘वोकल फाॅर लोकल मेक इट ग्लोबल’’ अभियान व्यवसायियों और उद्योगों को सशक्त बनायेगा: डाॅ. पूनियां

अशोक गहलोतजी को खुद की पार्टी के विधायकों पर ही भरोसा नही रहा ऐसे में पुलिस व अन्य माध्यमो से वो @INCRajasthan के विधायकों पर दबाव बना रहे है,उनकी बाड़ाबंदी कर रहे है, गहलोत जी आपमे जरा सी भी नैतिकित बची है तो आपको खुद आगे आकर त्याग पत्र दे देना चाहिए !

राजस्थान में 2018 के विधानसभा चुनावो के बाद जब सरकार का गठन हुआ तब श्री @SachinPilot ही सीएम पद के असली हकदार थे,मगर दिल्ली में कुछ नेताओं की परिक्रमा व चाटुकारिता करके गहलोत जी सीएम बन गए !

राजस्थान में अपराध चरम पर है,विकास के कोई कार्य हुए नही और अपने कृतव्य को भुलाकर सीएम @ashokgehlot51
जी हफ्ते में 4 दिन दिल्ली में खुद की कुर्सी बचाने में लगे रहते है और 18 महीनों से दिल्ली में उनकी परिक्रमा लगाने का क्रम से लगातार जारी है !

राजस्थान के किसान व जवान @INCIndia के थोपे गए मुख्यमंत्री से व आलाकमान से त्रस्त है,युवाओं व किसानों के लिए किसी प्रकार की कोई कारगर नीति बनाने में @RajGovOfficial अब तक पूर्ण रुप से नाकाम रही !