कांग्रेस में नेहरू-गाँधी खानदान के चापलूस नेताओं को सत्ता में भागीदारी मिलती रही, नई लीडरशिप हाशिये पर रही: डाॅ. पूनियां

मुख्यमंत्री गहलोत की सरकार लोगों के मन से उतर चुकी है, ज्यादा दिन तक नहीं चलने वाली: डाॅ. सतीश पूनियां

विधायकों का विश्वास खो चुके हैं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत: डाॅ. पूनियां
 
कांग्रेस सरकार का चले जाना ही राजस्थान की जनता के हक और हित में है: डाॅ. पूनियां
 

जयपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष डाॅ. सतीश पूनियां ने प्रदेश में चल रहे सियासी घटनाक्रम पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी के विचार एवं व्यवहार से उसका आधार खत्म होता जा रहा है, जिसका कारण है नेहरू-गाँधी खानदान, उसी वंशवाद की परम्परा के आधार पर पार्टी चली और नई लीडरशिप को उभरने नहीं दिया गया।

पत्रकारों के सवालों के जवाब देते हुये उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार, जातिवाद और अराजकता की बुनियाद पर राज करती रही कांग्रेस को 2014 के चुनाव में जनता ने कांग्रेस को केन्द्र की सत्ता से मुक्त कर दिया, 2019 में भी यही साबित हुआ।

डाॅ. पूनियां ने मुख्यमंत्री गहलोत पर निशाना साधते हुए कहा कि राजस्थान में कांग्रेस 2008 में अल्पमत में थी, जिसने बसपा के विधायकों को तोड़कर अपनी सत्ता बचाई, 2018 में भी यही खेल हुआ और अब राज्य सरकार की बुनियाद अन्तर्कलह एवं अन्तर्विरोध पर है।

हो सकता है किन्ही कारणों से राज्यसभा चुनाव के समय डैमेज कंट्रोल किया गया हो, अब उनकी फूट भी उजागर हो गई, डैमेज कंट्रोल भी उजागर हो गया, आखिर कांग्रेस में ऐसी परिस्थिति क्यों बनी, इस बारे में मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस आलाकमान बताये।

उन्होंने कहा कि बाबू जगजीवन राम, माधवराज सिंधिया, राजेश पायलट, नरसिम्हा राव जैसे दिग्गज नेताओं की कांग्रेस में उपेक्षा हुई थी, समय रहते पीढ़ी का बदलाव नहीं हुआ, नेहरू-गाँधी खानदान के जो चापलूस लोग थे उन्हें ही सत्ता में भागीदारी मिलती गई, बाकि लोगों को हाशिये पर रखा गया, कांग्रेस में जब नये नेतृत्व की बात आती है तो नये नेतृत्व पर प्रश्न खड़े किये जाते हैं और शंका की जाती है।

यह भी पढ़ें :  राज्यसभा चुनाव से पहले हनुमान बेनीवाल का ऐलान, बीजेपी को समर्थन देने और गहलोत के दबाव देने की बात पर यह कहा...

कांग्रेस में नये नेतृत्व को लेकर पूछे गये सवाल पर डाॅ. पूनियां ने कहा कि कांग्रेस में नई पीढ़ी के नेताओं में विरोध एवं आक्रोश था, चाहे वे मिलिंद देवड़ा हो, सचिन पायलट हों, ज्योतिरादित्य सिंधिया, इसलिये यह साबित हो गया कि युग के हिसाब से कांग्रेस ने अपने आपको बदला नहीं और इन्हीं कारणों से देश के राजनीतिक नक्शे से कांग्रेस गायब हो गई।

उन्होंने कहा कि, मुख्यमंत्री गहलोत की सरकार प्रदेश के लोगों के मन से उतर चुकी है, यह शुरू से ही निरपेक्ष बहुमत की सरकार नहीं थी, इस सरकार का चले जाना ही राजस्थान की जनता के हक एवं हित में है, हम अपनी परिस्थितियों को देखेंगे, क्या परिस्थितियां बनती हैं, उम्मीद है कि सकारात्मक परिणाम सामने आयंेगे, हमारी पार्टी के केन्द्रीय नेतृत्व के निर्देशों की हम पालना करेंगे।

डाॅ. पूनियां ने कहा कि राजस्थान की कांग्रेस सरकार ने पौने दो साल जितने वादे आमजन से किये किसी भी वादे को पूरा नहीं किया, वादों पर खरी नहीं उतरी, बेहतर होता किसानों के कर्ज माफ करते, अपराधों पर लगाम लगाते, बेरोजगारों को रोजगार देते, लेकिन एक भी काम नहीं किया, सिर्फ लीपापोती की और बयानबाजी की।

कोरोना प्रबंधन को सम्भालने के बजाय पूरी सरकारी मशीनरी अशोक गहलोत की सरकार को बचाने में लगा रखी है, इसलिए यह सरकार लोगों के मन से भी उतर चुकी है, बहुमत का सिर्फ बनाबटी आँकड़ा दिखता है। मुझे लगता है कि अभी कुछ पर्दे के पीछे है, बहुत कुछ होना बाकि है, मन से उतरी हुई सरकार बहुत ज्यादा नहीं चलती।

यह भी पढ़ें :  राजस्थान के सिंधिया, यानी पायलट के लिए यह नेता बन सकता है दिग्विजय सिंह?

कांग्रेस के आरोपों पर उन्होंने कहा कि पौन दो साल से कांग्रेस नेता सिर्फ आरोप लगा रहे हैं, जनहित के कार्यों एवं प्रदेश के विकास के मुद्दों पर उनका कोई ध्यान नहीं है, मेरी उनको नसीहत है कि आरोप लगाने के बजाय काम पर ध्यान दें, आरोपों में कोई दम नहीं है।

उन्होंने कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि वे आरोप भाजपा पर लगा रहे थे, लेकिन साबित हो गया कि झगड़ा उनका अपना था, तोहमत हम पर लगा रहे हैं। उनके आलाकमान में दम होता, सूझबूझ होती और बुद्धिकौशल होता तो ऐसी नौबत नहीं आती, जो परिस्थितियां बनीं हैं।

डाॅ. पूनियां ने कहा कि अब साबित हो गया है कि देश को चलाने में राष्ट्रवाद का विचार, राष्ट्रवाद के विचार के कारक भारतीय जनता पार्टी, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह एक अच्छा शासन चला सकते हैं, यह सिद्ध हो गया है। अब कांग्रेस पार्टी के नेता सोनिया गाँधी, राहुल गाँधी और प्रियंका गाँधी के नाम पर राजनैतिक तौर पर लोगों के दिलों में जगह नहीं बना सकते हैं।

प्रदेश में कांग्रेस सरकार के विधायकों के संख्याबल को लेकर पूछे गये सवाल पर उन्होंने कहा कि कांग्रेस द्वारा बराबर दावे किये गये कि उनकी पार्टी एकजुट है, राज्यसभा चुनाव में उनके प्रत्याशियों को 120 से अधिक वोट मिले, लेकिन आज यह संख्या कम क्यों हुई, कम होने के क्या कारण हैं?

वो पहले कह रहे थे कि हम सब एक हैं, हमें कोई खतरा नहीं है, कांग्रेस के पास कितना संख्याबल है यह सबके सामने आ जाएगा।

यह भी पढ़ें :  आबादी के अनुसार मिले जाट समाज को टिकट

कांग्रेस सरकार द्वारा विधायकों की बाडाबंदी पर डाॅ. पूनियां ने कहा कि जितने विधायकों का वह दावा कर रहे थे उतने नहीं पहुँचे, पुलिस की घेराबंदी से देर रात विधायकों को उनके आवासों से जबरन बाड़ाबंदी में पहुँचाया गया।

विधायकों के घरों के बाहर पुलिस का पहरा बिठाया गया, उससे साबित हो गया है कि विधायकों को जबरन डरा-धमकाकर बाडाबंदी में ले जाया गया है।