गहलोत ने मीडिया के सामने किया शक्ति प्रदर्शन, 100 से ज्यादा MLA जुटाकर दिखाया विक्ट्री साइन

जयपुर। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष और प्रदेश के उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के पार्टी छोड़ने के प्रकरण में एक लेटेस्ट अपडेट सामने आई है। मुख्यमंत्री आवास पर बड़ी हलचलत देखने को मिल रही है। अपनी शक्ति का अहसास कराने के लिए मीडिया को भी अंदर प्रवेश दिया जा रहा है।

सीएम आवास पर कांग्रेस और निर्दलीय विधायकों की संख्या का शक्ति प्रदर्शन किया जा रहा है। सीएम अशोक गहलोत की ओर से लगातार 100 से अधिक विधायकों के समर्थन की बात कही जा रही थी।

वहीं सीएम गहलोत सहित कांग्रेस के दिग्गज नेताओं ने मीडिया को विक्ट्री निशान भी दिखाया। बताया जा रहा है कि प्रदेश कांग्रेस की तरफ से अध्यक्ष सचिन पायलट को कारण बताओ नोटिस दिया जा सकता है या फिर शाम तक पार्टी से बर्खास्त किया जा सकता है।

विधायक दल की बैठक में 17 विधायक नहीं पहुंचे

वहीं दूसरी कांग्रेस विधायक दल की बैठक में 17 विधायक नहीं पहुंचे हैं। इनमें मुरारी लाल मीना, जीआर खटाना, इंद्राज गुर्जर, हरीश मीणा, दीपेंद्र शेखावत, भंवरलाल शर्मा, विजेंद्र ओला, पीआर मीणा, राकेश पारीक, रमेश मीणा, विश्वेंद्र सिंह, रामनिवास गावड़िया, मुकेश भाकर, हेमाराम चौधरी, गजेंद्र शक्तावत, अमर सिंह जाटव और सुरेश चौधरी शामिल और खुद सचिन पायलट भी शामिल हैं।

इसके साथ ही चाकसू विधायक वेद प्रकाश सोलंकी भी CMR नहीं आये हैं। साथ ही तीन निर्दलीय विधायक भी बैठक में नहीं पहुंचे।

25 से अधिक विधायक उनके साथ बैठे

काग्रेस ने आखिरी बार सचिन पायलट से अपील की है कि वो बैठक में शामिल हों और यहां आकर मतभेदों का समाधान करें, लेकिन सचिन पायलट ने दो टूक कहा है कि वो जयपुर नहीं आएंगे, 25 से अधिक विधायक उनके साथ बैठे हैं। ऐसे में राजस्थान में जारी ये सियासी घमासान कहां जाकर रुकता है।

यह भी पढ़ें :  Health डिपार्टमेंट के डायरेक्टर के आदेश पर भारी CMHO

भाजपा शाम तक करेगी कोई ऐलान

इधर, भारतीय जनता पार्टी की तरफ से अभी तक इस मामले को लेकर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी गई है। जबकि सुबह ही एक टीवी चैनल के साथ बात करते हुए भाजपा के अध्यक्ष डॉ सतीश पूनिया ने कहा कि यह कांग्रेस की अंदरूनी लड़ाई है और अगर सचिन पायलट भाजपा में आते हैं तो उनका स्वागत करते हैं।