मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की जा सकती है विधायकी!

जयपुर। बीजेपी विधायकों ने मुख्यमंत्री के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का नोटिस दिया है। पार्टी के 5 विधायकों ने आज विधानसभा में सीएम गहलोत के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का नोटिस दिया है, जिसपर 10 जनों के हस्ताक्षर हैं।

भाजपा के सांगानेर से विधायक अशोक लाहोटी, रामगंजमंडी से मदन दिलावर, अजमेर उत्तर से वासुदेव देवनानी, चोमू से रामलाल शर्मा, सूरतगढ़ से सुभाष पूनिया और फुलेरा से निर्मल कुमावत ने विधानसभा में पहुंचकर आज सीएम गहलोत के खिलाफ नोटिस दिया है।

प्रथम प्रस्तावक नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया के अलावा प्रस्तावक मदनलाल दिलावर, प्रताप सिंह सिंघवी, सुभाष पूनियां, निर्मल कुमावत, बलबीर लूथरा, वासुदेव देवनानी, अशोक लाहोटी, संतोष बावरी और रामलाल शर्मा साथ रहे है।

आज दोपहर पहले करीब 11 बजे बीजेपी का प्रतिनिधिमण्डल विधानसभा सचिव से मिला और नोटिस दिया है। यह मामला राज्यसभा चुनाव के दौरान कथित तौर पर भाजपा द्वारा 35 करोड़ में विधायकों की खरीद-फरोख्त वाले बयान से जुड़ा है।

उल्लेखनीय है कि 19 जून को हुए राज्यसभा चुनाव से पहले भाजपा और कांग्रेस की तरफ से एक दूसरे के खिलाफ जोरदार आरोप लगाए गए थे, जिनमें मुख्यमंत्री के द्वारा भाजपा पर 35 करोड रुपए में कांग्रेस के विधायकों को प्रलोभन देकर खरीदने के आरोप लगाए गए थे।

इससे पहले भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सतीश पुनिया के खिलाफ कांग्रेस समर्थित निर्दलीय विधायक संयम लोढ़ा के द्वारा भी विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव विधानसभा अध्यक्ष को दिया गया था।

यह भी पढ़ें :  पायलट ने गहलोत सरकार को आइना दिखाया, महिला सुरक्षा का वादा याद दिलाया