मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर भारी रोडवेज सीएमडी आईएएस नवीन जैन

जयपुर।

राजस्थान रोडवेज़ सीएमडी नवीन जैन की तानाशाही मुख्यमंत्री के आदेश पर भारी भी भारी पड़ती नजर आ रही है। राज्य सरकार के तमाम निर्देशों और केंद्र सरकार की गाइड लाइन को धत्ता बताकर राज्य के एक आईएएस ने मनमर्जी कर नियमों धज्जियां उड़ा दीं।

सरकारी आदेशों को रोडवेज प्रबंधन ने दरकिनार कर सोशल डिस्टनसिंग और मास्क पहनना भी उचित नहीं समझा। कोविड-19 को लेकर सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क लगाने के नियमों की भी रोडवेज सिवमडी नवीन जैन ने धज्जियां उड़ा दीं।

IMG 20200709 WA0012

असल में आईएएस नवीन जैन ने रोडवेज मुख्यालय में दो पारियों में ट्रेनिंग कार्यक्रम रखा था, जिसकी अब तस्वीरें बाहर आने पर हड़कंप मच गया है। बताया जा रहा है कि जोधपुर, कोटा, सीकर और उदयपुर जोन के लोगों का प्रशिक्षण सुबह
10 बजे से दोपहर 1 बजे तक था।

जिसमें करीब 60 से 70 लोगों का प्रशिक्षण रखा गया था। खास बात यह है कि क्या एक ही कक्ष में प्रशिक्षण कार्यक्रम रखना गंभीर लापरवाही नहीं है?

इसके बाद दूसरी पारी में अजमेर, भरतपुर, बीकानेर और जयपुर जोन का प्रशिक्षण दोपहर 2 बजे से 5 बजे रखा गया था। इन प्रशिक्षण कार्यक्रम के लिए रोडवेज़ के राज्य के सभी 52 आगारों से 2- 2 प्रतिनिधि बुलाये गए थे, जिसमें एक प्रबंधक स्तर और एक सहायक स्तर का कर्मचारी था।

IMG 20200709 WA0013

रोडवेज के ही लोगों का कहना है कि क्या राजस्थान राज्य पथ परिवहन में पोपबाई का राज चल रहा है, जहां पर सरकारी दिशा निर्देश की पालना नहीं हो रही है?इस ट्रेनिंग कार्यक्रम के चलते जयपुर स्थित मुख्यालय में सुबह से शाम तक दोनों पारियों में 60 से 70 लोगों का जमावड़ा रहा।

यह भी पढ़ें :  राजस्थान विवि समेत 200 कॉलेजों में प्रवेश एक जून से

मजेदार बात यह है कि रोडवेज के खुद सीएमडी नवीन जैन भी बिना मास्क के प्रशिक्षण देखते रहे। बता दें समूचे प्रदेश में इस समय धारा 144 लागू है, जिसके तहत एक साथ 4 से अधिक लोग इखट्टा नहीं हो सकते।

ऐसा नहीं मानने पर संबंधित अधिकारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जाती है। सवाल यह उठता है कि अब रोडवेज़ अफसरों पर एफआईआर कौन दर्ज करवाएगा?