Video: अनशन पर बैठे किसान नेता रामपाल जाट और दूसरे किसान

जयपुर।

चना खरीद को लेकर सरकार के तमाम प्रयास के बावजूद तय सीमा तक भी चना नहीं खरीदने के चलते किसान अनशन पर बैठने को मजबूर हो गए हैं। अजमेर रोड पर महला में पुलिस द्वारा रोके जाने के बाद किसान महापंचायत राष्ट्रीय अध्यक्ष रामपाल जाट ने उपवास चालू किया है। (Google samachar hindi)

जाट का कहना है कि रास्ते पर चलना सभी का अधिकार है। पुलिस प्रशासन द्वारा रोकने के बाद किसान महापंचायत के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामपाल जाट ने पुलिस प्रशासन को चेतावनी देते हुए कहा कि आप संयमता रहे, आप द्वारा बल दिखाना चाहते हो, तो हम भी सत्य, अहिंसा, न्याय के आधार पर चलेंगे, परंतु किसानों से कहते हुए कहा कि पहले चना खरीद आन्दोलन सम्पूर्ण हो। (Google samachar hindi)

साथ ही जाट ने कहा कि हम चना बेचने आए हैं, किसी से हाथापाई करने नहीं आए सरकार हमारा हक हमें प्रदान करें।
उन्होंने कहा कि अभी श्रावन मास है, खेतों में भी बिजाई, बुआई का कार्य चल रहा है। (Google samachar hindi)

किसान बिजाई, बुआई के कार्य को छोड़कर सड़कों पर हैं। सरकार अपना अड़ियल रवैए को छोड़कर तुरंत किसानों के चने की तुलाई करवाएं। अनावश्यक रूप से किसानों को पुलिस द्वारा रोकने के कारण किसान महापंचायत के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामपाल जाट अनशन पर बैठ गए हैं। साथ ही यह फैसला अनशन का अन्य किसान भी ले सकते हैं। (Google samachar hindi)

उल्लेखनीय है कि न्यूनतम समर्थन मूल्य पर राजस्थान में अभी भी तय मात्रा 25% के बजाय केवल 21% से अधिक खरीद हुई है, जिसको लेकर किसान उद्वेलित हैं और आंदोलन कर रहे हैं। (Google samachar hindi)

यह भी पढ़ें :  कोरोना से लड़ने के लिए राजस्थान सरकार ने मांगे प्राइवेट हॉस्पिटल

किसानों की फसल को लेकर 18 मार्च के बाद में रजिस्ट्रेशन नहीं हुआ है और चने की तुलाई नहीं होने के कारण बाजार में बेचने से प्रति क्विंटल अन्नदाता को कम से कम ₹1000 का नुकसान उठाना पड़ रहा है। (Google samachar hindi)