गैंगस्टर आनंदपाल के जानी दुश्मन को 7 साल बाद मिली 20 दिन की पैरोल

जयपुर/सीकर।

राजस्थान हाईकोर्ट ने 3 साल पहले एनकाउंटर में मारे जा चुके कुख्यात गैंगस्टर आनंदपाल सिंह के जानी दुश्मन गैंगस्टर राजू ठेठ को 7 साल बाद 20 दिन की पैरोल पर रिहा करने के आदेश दिए हैं।

गैंगस्टर राजू ठेहट को पैरोल मिलने से पुलिस महकमें में जोरदार चर्चा और आशंका का माहौल है। इसमें पुलिस ने पैरोल के दौरान अपराध की आशंका जताई थी।

क्यों है अपराध की संभावना?

आपको बता दें कि कुख्यात अपराधी आनंदपाल व राजू ठेहट की गैंग में आपसी दुश्मनी रही है। इस वहज से गैंगवार में एक दूसरे गैंग के कई गुर्गे मारे जा चुके हैं। राजस्थान हाईकोर्ट जस्टिस सबीना, जस्टिस सीके सोनगरा की खण्डपीठ ने पेरोल पर रिहा करने के आदेश दिए हैं।

हालांकि, सरकार और पुलिस ने पैरोल पर रिहा नहीं करने का अनुरोध किया था, लेकिन कोर्ट में उनकी एक न चली। सीकर जिला पैरोल कमेटी ने भी ठेहट को पैरोल देने से इंकार किया था।

इससे पहले सीकर पुलिस अधीक्षक ने भी राजू ठेठ को पैरोल को लेकर आशंका जताई थी। सीकर पुलिस अधीक्षक ने ठेहट को पैरोल मिलने पर गंभीर अपराध कारित होने की आशंका जताई थी।

इसके साथ ही राजू ठेहट के पैरोल से फरार होने की भी पुलिस ने आशंका जताई थी। इतना ही नहीं, अपितु सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग ने भी पैरोल स्वीकृत करने की अनुशंसा से इनकार किया था।

राजस्थान हाईकोर्ट में राजकीय अधिवक्ता एनएस गुर्जर ने भी विरोध जताया था। लेकिन कोर्ट ने राजू ठेठ के जेल में बिताए 7 साल की अवधि और व्यवहार के आधार पर पैरोल दी है।

यह भी पढ़ें :  जन समस्याओं का प्राथमिकता से निस्तारण हो सरकार की प्राथमिकता - बेनीवाल