डॉ. सतीश पूनियां को फ्री हैंड, कार्यकारिणी में 75% नवाचार होना तय

जयपुर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कोरोनावायरस प्रदेश भाजपा के किए गए कार्यों की प्रशंसा राजनीति खेल में बहुत कुछ इशारा कर रही है।

भाजपा की राजनैतिक जाने वाले इसे पार्टी में प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनिया के बढ़ते कद से जोड़कर देख रहे हैं।

इसे देखते हुए माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में डॉ. पूनियां को पार्टी राष्ट्रीय नेतृत्व पूरा फ्री हैंड देने के मूड में हैं। यही फ्री हैंड डॉ. पूनियां के आने वाली प्रदेश टीम में भी दिखाई देगा।

अब तक घोषित की गई जिलों की टीमें पूरी तरह से संघनिष्ठ माने जाने वाले अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के नेताओं को दी गई। प्रदेश टीम में भी इसी प्रकार के नाम सुनाई दे रहे हैं।

हालांकि, टीम के लिए अभी और इंतजार करना पड़ सकता है। संभावना जताई जा रही है कि इस मामले में पार्टी सूत्रों की मानें तो कई नेताओं को जिम्मेदारी दी जा सकती है, लेकिन इस टीम में भी वही शामिल होंगे, जिन्हें प्रदेश नेतृत्व की तरफ से प्रस्तावित किया जा रहा है।

हालांकि दिग्गज नेता ओम प्रकाश माथुर और पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को लेकर फैसला केंद्रीय नेतृत्व के बड़े नेता करेंगे। इसके अलावा किसी भी नाम को प्रदेश के नेताओं की सहमति के बाद ही शामिल किया जाएगा।

कार्यकारिणी में कुछ नए नाम होंगे, तो कुछ पुराने संघ नेताओं और जातिगत समीकरण से तय होंगे। डॉ. पूनियां की टीम में स्थान उनकी पसंद से तय किए जाएंगे।

महिला राजनेताओं में सांसद दिया कुमारी, मंजू शर्मा जैसे नामों को शामिल किया जा सकता है। इसके अलावा राव राजेंद्र सिंह, मदन दिलावर, वासुदेव देवनानी, पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अरुण चतुर्वेदी, रामलाल शर्मा, जितेंद्र गोठवाल, राज्यसभा सांसद राजेंद्र गहलोत, ओंकार सिंह लक्खावत का नाम भी चर्चा में है।

यह भी पढ़ें :  शांतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न हुए स्टाफ क्लब के चुनाव

प्रदेश की मुख्य टीम के बाद 5 मोर्चों की टीम में बदलाव होगा। जिसमें युवा मोर्चा, महिला मोर्चा, अनुसूचित जाति मोर्चा, अनुसूचित जनजाति मोर्चा और ओबीसी मोर्चा शामिल है। इसके अलावा प्रकोष्ठ में भी जिम्मेदारी बदली जाएगी।