कोरोनाकाल में जनता से कोसों दूर कांग्रेस, सारा श्रेय ले उड़े भाजपा अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां

कोरोनाकाल में जनता से कोसों दूर कांग्रेस, सारा श्रेय ले उड़े भाजपा अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां

जयपुर।
जब 18 मार्च को राजस्थान में सरकारी लॉक डाउन शुरू हुआ, तब कांग्रेस संभवत: अपने घरों में घुसी होगी और निकली तब है, जब कांग्रेस कार्यालय में कबूतरों ने डेरा जमा लिया था। मजेदार बात यह है कि संगठन तो घरों में दुबका ही, सत्ता भी महलों में दुबक गई।

नतीजा यह हुआ कि जनता के सामने केवल आईएएस, आईपीएस, आरएएस, आरपीएस अधिकारियों, सरकारी कर्मचारियों, पुलिस के कमिर्यों, डॉक्टरों, नर्सों और सफाईकर्मियों के अलावा कांग्रेस या फिर सत्ता के सत्ताधारी, कोई भी नजर नहीं आया।

दूसरी ओर जब 24 मार्च को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशभर में कोरोनावायरस के कारण लॉक डाउन पूरे देश में लागू किया, तो भाजपा के पास भी घरों में दुबककर सारा माजरा सत्ता के हवाले छोड़ देने का अवसर था, किंतु भाजपा के नये-नवेले अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने ऐसा नहीं किया, बल्कि आपदा को अवसर में बदला और जुट गए जनता की सेवा में।

पहले अपने घरों से खाना बनावाया। भाजपा के पदाधिकारियों और अन्य कार्यकर्ताओं ने इसका अनुसरण किया। फिर जनता रसोई शुरू की। लगातार कार्यकर्ताओं से वीडियो कॉन्फ्रेंस और वीडियो ओवर ब्रिज के माध्यम से संपर्क किया, उनको एकजुट किया। डॉ. पूनियां ने इस आपदा के समय अपने कार्यकर्ताओं को संगठित कर उनको जनता की सेवा में झौंक दिया।

अब अनलॉक को दूसरा दौर चल रहा है। आज स्कूल, कॉलेज, सिनेमाहॉल, होटल्स,धार्मिक स्थलों को छोड़कर तकरीबन सभी जगह चहल पहल शुरू हो चुकी है। ऐसे समय में राज्य सरकार पूरी तरह से ढीली हो गई है। भले ही अन्नपूर्णा रसोई का नाम बदकर इंदिरा रसोई कर दिया हो, लेकिन खाना कहीं नजर नहीं आता है।

यह भी पढ़ें :  जयपुर में आंधी, तूफान, बरसात, लगातार तीसरे दिन मौसम की मार

आज भी भाजपा के पदाधिकारी और आम कार्यकर्ताओं के द्वारा गरीबों को खाना समेत अन्य जरुरी चीजें उपलब्ध करवाने का काम किया जा रहा है, लेकिन सरकार या कांग्रेस संगठन कहीं नहीं दिख रहा है।

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा तीन बार डॉ. सतीश पूनियां से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये जारी रिपोर्ट ले चुके हैं। इतना ही नहीं, खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को राजस्थान के अध्यक्ष डॉ. पूनियां से पॉवर प्रजेंटेशन के द्वारा पूरी जानकारी ली तो उन्होंने डॉ. पूनियां की टीम की जमकर तारीफ की है।

40 से ज्यादा बार फेसबुक लाइव और कितनी ही बार वीडियो प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिये भाजपा अपने द्वारा किये जा रहे कार्यों का ब्यौरा जनता के सामने रखने में कामयाब रही, जबकि देशभर में 100 वर्चुअल रैलियों के जरिये भाजपा ने मोदी की दूसरी सरकार के एक साल के कार्यकाल की उपलब्धियों को भी जनता के सामने रख दिया।

जिनमें से राजस्थान में 14 जून को स्मृति इरानी की, 20 जून को जेपी नड्डा की और 27 जून को नितिन गडकरी की वर्चुअल रैली में लाखों की तादात में लोगों ने रैली से जुड़कर भाजपा और केंद्र सरकार के द्वारा किए गए कार्यों को सुना।

इधर, राजस्थान के अध्यक्ष डॉ. पूनियां ने लगातार अपनी टीम को एकजुट कर राज्य की विरोधी विचार वाली सत्ता को कई मोर्चों पर झुकाने का काम किया। हालांकि, तमाम प्रयासों के बाद भी सरकार को अपराधों के मामले में कुंभकर्णी नींद से नहीं जगाया जा सका है।

भाजपा अध्यक्ष की सबसे बड़ी कामयाबी यह रही है कि 18-18 घंटे काम करने के बाद जब शनिवार को उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी को अपना रिपोर्ट कार्ड प्रस्तुत किया और मोदी ने उनकी भूरी-भूरी प्रसंशा की तो मानो उनकी सारी मेहनत का फल मिल गया।

यह भी पढ़ें :  Video: महिला डॉक्टर के बाल खींचे, लातें मारीं, बाथरुम में जाकर जान बचाई