एयरपोर्ट का शक्तिशाली हेलीकॉप्टर mi-17 करेगा राजस्थान में टिड्डी दल का खात्मा

नई दिल्ली

पाकिस्तान के सिंध प्रांत और खैबर पख्तूनख्वा प्रांत से पश्चिमी राजस्थान में प्रवेश करने वाले टिड्डियों के बड़े दल पर हमला करने के लिए इस बार भारतीय वायु सेना ने अपना विशेष हेलीकाप्टर सरकार को दिया है।

रूस से आया किया गया mi-17 हेलीकॉप्टर एयरफोर्स का खास हेलीकॉप्टर है, जिसकी मदद से अब राजस्थान में टिड्डी दल को नियंत्रित करने और उसके खात्मे के लिए तैयारी शुरू कर दी है।

प्राइवेट हेलीकॉप्टर से 8 गुना ज्यादा शक्तिशाली और एक साथ 800 लीटर स्प्रे के साथ 250 हेक्टेयर जमीन पर स्प्रे करने की क्षमता रखने वाले इस हेलीकॉप्टर को जोधपुर एयरबेस पर तैनात कर दिया गया है। एयरफोर्स ने ऐसे 3 हेलीकॉप्टर तैयार किए हैं।

आठ गुणा अधिक शक्तिशाली

एयरफोर्स के इस शक्तिशाली हेलीकॉप्टर की क्षमता प्राइवेट हेलीकॉप्टर से 8 गुना ज्यादा है और इस हेलीकॉप्टर में दो इंजन के साथ दो पायलट और 24 जवान एक साथ सवार होकर 4000 किलो वजन ले जाने की क्षमता भी हैं।

एयरफोर्स के इस हेलीकॉप्टर की एक और खास बात यह है कि यह केवल 40 मिनट के भीतर 250 हेक्टेयर जमीन पर स्प्रे करके टिड्डियों के बड़े दल को खत्म कर सकता है। इस हेलीकॉप्टर को जोधपुर एयरवेज के अलावा फलौदी में भी तैनात किया गया है।

ब्रिटेन की कंपनी से किया था करार

इससे पहले एयरपोर्ट्स में ब्रिटेन की एक कंपनी के साथ करार किया गया था, जिसने नोजल और स्प्रे लगाने के लिए बात हुई थी। लेकिन कोरोना की वजह से काम नहीं हो पाया। आखिरकार एयरपोर्ट के द्वारा चंडीगढ़ में खुद के स्तर पर ही इसको तैयार करके उतारा गया है।

यह भी पढ़ें :  स्वाइन फ्लू से एक और मौत, सच छिपा रहा है विभाग

आपको बता दें कि 1 दिन पहले ही केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी के द्वारा नोएडा से हेलीकॉप्टर की रवानगी की गई है, जिसके द्वारा टिड्डी दल को खत्म करने का कार्य किया जाएगा।

5 निजी हेलीकॉप्टर किराए पर

सरकार ने 5 निजी कंपनी के हेलीकॉप्टर किराए पर लिए हैं, जिन पर 1.25 करोड़ पर खर्च आएगा और 60 दिन के भीतर कम से कम 100 घंटे तक यह हेलीकॉप्टर उड़कर टिड्डियों पर कीटनाशक का स्प्रे करेंगे। इनपर एक बार में करीब सवा करोड़ रुपये का खर्च आया है।

जोधपुर में दो यूनिट तैनात

मंगलवार को भेजा गया हेलीकॉप्टर बाड़मेर एयरबेस पर तैनात होगा और वहां से इसके द्वारा जैसलमेर, जोधपुर, नागौर समेत पश्चिमी राजस्थान के उन इलाकों में कंप्रेसर स्प्रे किया जा सकेगा, जहां पर पाकिस्तान से टिड्डियों के आने की संभावना होती है।

निजी हेलीकॉप्टर की क्षमता

निजी कंपनी के जो हेलीकॉप्टर किराए पर लिए गए हैं उनमें 250 लेटर कीटनाशक ले जाने की क्षमता है और एक बार में अधिकतम 50 हेक्टेयर जमीन पर स्प्रे किया जा सकता है। केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी का कहना है कि 24 ड्रोन की मदद से भी स्प्रे किया जा रहा है।

राजस्थान में टिड्डियों का खतरा और बढ़ेगा

इधर, विश्व स्वास्थ्य संगठन के फूड एंड एग्रीकल्चर ऑर्गेनाइजेशन मुताबिक पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा और सिंध प्रांत में टिड्डी होने अंडे देने शुरू कर दिए हैं और एक बड़ी खेप जो कि खैबर पख्तूनख्वा से चिड़ियों की तैयार होकर राजस्थान में प्रवेश करने की तरफ है। इसलिए राज्य में तेजी से टिड्डियों का खतरा बढ़ेगा और इसके लिए राजस्थान सरकार समेत भारत सरकार को चेतावनी दे दी गई है।