सोशल मीडिया पोस्ट में अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां को गायब करने वाले भाजपा नेताओं की अब खैर नहीं

-पार्टी का प्रोटोकॉल तोड़कर कोई चर्चा में तो जरुर हो सकता है, लेकिन इससे पार्टी और संगठन को कमजोर नहीं किया जा सकता: डॉ. सतीश पूनियां

-भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने पेश की सादगी की मिशाल, पंक्चर की दूकान पर की वीडियो कॉन्फ्रेंस को संबोधित।

जयपुर।

भाजपा में कई दिनों से प्रदेश नेतृत्व की फोटो बैनर में नहीं लगाने को लेकर भाजपा अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने इसको व्यक्ति विशेष के प्रति लगाव कहा है। उन्होंने कहा है कि इस तरह के कार्य करने वालों को बक्शा नहीं जाएगा।

सोशल मीडिया पोस्ट्स से गायब किए जाने के सवाल पर पूर्व मंत्रियों और कुछ विधायकों को लेकर भाजपा अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने ऐसे सभी नेताओं को स्पष्ट संदेश दे दिया है।

उन्होंने कहा कि जहां तक बैनर की लड़ाई का सवाल है, हो सकता है कि व्यक्ति की व्यक्ति में निष्ठा हो, कोई किसी का नेतृत्व स्वीकार करता है कोई नहीं करता है, लेकिन पार्टी का अपना एक प्रोटोकॉल होता है उसकी पालना निश्चित तौर पर सबको करनी चाहिए।

मर्यादा में रहें नेता

उन्होंने कहा कि कुछ लोग कई बार नरेंद्र मोदी और अमित शाह को भी भूल जाते हैं, तो इसके लिए हम कोई संज्ञान तो नहीं बढ़ाएंगे, लेकिन अपना विवेक है पार्टी के प्रोटोकॉल का पालन करें, किसी तरह के भ्रम में न रहें, और इसको लड़ाई का तो कम से कम जरिया नहीं बनाएं, अपनी भावना व्यक्त करें, लेकिन मर्यादा में रहें, इसके तरह की चर्चा जरुर होती है, लेकिन इससे पहले पार्टी और संगठन को कमजोर नहीं कर सकती।

पंक्चर की दुकान से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग

इससे पहले आमेर विधायक डॉ. पूनियां ने अपने विधानसभा क्षेत्र के दौरे पर कार्यक्रमों की व्यवस्तता के बीच हरमाड़ा थाने के पास पंक्चर की दुकान में ही बैठकर पंचायती राज की वीडियो कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया।

यह भी पढ़ें :  तहसीलदार का फरमान: घर में लगा मधुमक्खियों का छत्ता हटाओ, नहीं तो मतदान के वक्त यह जिम्मेदारी होगी-

सोमवार को सुबह ही अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां आमेर विधानसभा क्षेत्र के दौरे पर निकले थे। इस दौरान पंचायती राज विषय से संबंधित कार्यकर्ताओं की वीडियो कांफ्रेंस में जुड़कर संबोधित करना था, तो ऐसे में वीडियो कांफ्रेंस का समय होने पर पास में ही स्थित पंक्चर की दुकान में ही बैठकर वीडियो कॉन्फ्रेंस में सम्मिलित हो गए।

कांग्रेस राज में तो फिल्में बन गई थीं

कांग्रेस पार्टी के द्वारा डीजल और पेट्रोल के बढ़ते दामों को लेकर जयपुर में कलेक्ट्री सर्किल के पास जो धरना प्रदर्शन दिया गया उसको लेकर भाजपा अध्यक्ष डॉ सतीश पूनियां ने का है कि कांग्रेस के राज में तो महंगाई को लेकर गाने बन गए थे और फिल्में बन गई थी।

यूपीए के टाइम पर गाने बनते थे, महंगाई डायन खाए जात है। डॉ. पूनियां ने इंदिरा गांधी के राज का जिक्र करते हुए कहा कि नारे लगते थे, “इंदिरा के खेल, खा गई राशन-तेल।”

उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी आज जिस तरह का आचरण कर रही है उसे ऐसा लगता है कि उनके द्वारा डीजल पेट्रोल बहुत निचले दामों पर दिए गए थे।

कांग्रेस ने बीते 6 माह में 5 बार वेट बढ़ाया

उन्होंने बढ़ते डीजल पेट्रोल के दामों पर कहा कि इसमें तीन चार फैक्टर काम करते हैं, जिसमें अंतरराष्ट्रीय बाजार में तेल की कीमतें, देश की अर्थव्यवस्था और इसके साथ ही इसमें एक बड़ा हिस्सा सब्सिडी का है।

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार की धरातल पर लाई गई योजनाओं में उज्जवला योजना प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना और आम आदमी के लिए जनधन खाता खुलवाना इस तरह के कई कार्य हैं, कोरोनावायरस के काल में भी केंद्र सरकार ने करीब 7 करोड उज्जवला गैस कनेक्शन को फ्री सिलेंडर उपलब्ध करवाए हैं, जो लगातार तीन महीने तक दिए गए हैं।

यह भी पढ़ें :  राजस्थान सरकार का बजट: छोटी-छोटी घोषणाओं के बजट में क्या कुछ है, पढ़िए

उन्होंने कांग्रेस पर सरकार के द्वारा धरना प्रदर्शन किए जाने को लेकर कहा कि कांग्रेस तो इसके लिए बिल्कुल भी योग्य नहीं है, क्योंकि पिछले 6 महीने में 5 बार वेट बढ़ाया गया है।

हरियाणा में दाम कम क्यों हैं?

उन्होंने कहा कि राजस्थान के लोग हरियाणा से बड़े पैमाने पर डीजल और पेट्रोल की खरीद करते हैं यदि हरियाणा और राजस्थान में पेट्रोल की कीमतों में अंतर नहीं होता तो राजस्थान के लोग हरियाणा से इंधन नहीं खरीदते हैं।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार अपने गिरेबान में नहीं झांकती है, लेकिन केंद्र सरकार से सवाल करती है इसके साथ ही कहा कि सरकार तो इस मामले में कदम उठाएगी ही उठाएगी किंतु राज्य की कांग्रेस सरकार को अपनी कथनी और करनी में अंतर को निश्चित रूप से देखना चाहिए।

गैंगरेप और बलात्कार के लिए दोषी कौन

इसके साथ ही राजस्थान में बढ़ती हुई आपराधिक घटनाओं को लेकर भाजपा अध्यक्ष ने कहा है कि राज्य में मुख्यमंत्री और गृहमंत्री दोनों अशोक गहलोत हैं और बावजूद इसके भले ही छोटे अपराधों की घटनाएं घट रही हो लेकिन बड़े पैमाने पर गैंगरेप और बलात्कार की घटनाओं ने पूरे प्रदेश को देश भर में बदनाम कर के रख दिया है।

उन्होंने अलवर के मेवात क्षेत्र में एक नाबालिग लड़की के साथ रेप करने के बाद न्यायालय में बयान देने से पहले ही उसके पिता को मार कर पेड़ पर टांगने की घटना का भी जिक्र किया।

खुद सरकार ही तोड़ रही है कानून

कोरोनावायरस की वैश्विक महामारी के तमाम गाइडलाइंस का उल्लंघन करते हुए कांग्रेस पार्टी के द्वारा धरना प्रदर्शन करने और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करने को लेकर भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि एक तरफ जहां सरकार भीलवाड़ा में विवाह का कार्यक्रम आयोजित करने पर एक व्यक्ति पर 6 लाख का जुर्माना लगा देती है, तो दूसरी तरफ खुद सरकार और संगठन मिलकर तमाम तरह की पाबंदियों को तोड़कर कानून को धता बताने का काम करते हैं।

यह भी पढ़ें :  गुरु घासीदास केंद्रीय विश्वविद्यालय में उड़ रही है यूजीसी के निर्देशों की धज्जियां

नाम बदलने के अलावा कुछ नहीं किया

भामाशाह योजना बंद होने के साथ ही केंद्र सरकार के द्वारा आयुष्मान भारत योजना को भी राजस्थान में लागू नहीं किए जाने के सवाल पर बोलते हुए भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि पिछले डेढ़ साल के दौरान सरकार ने केवल योजनाओं के नाम बदलने का काम किया है, जबकि आम आदमी को 30 हजार से लेकर 3 लाख तक की चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करवाने वाली भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना को ठंडे बस्ते में डालकर मरीजों को परेशानी में डाल दिया है।

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सरकार ने केवल योजनाओं के नाम बदले हैं और काम कुछ नहीं किया है। उन्होंने कहा कि पिछली सरकार के द्वारा आम आदमी को अन्नपूर्णा रसोई योजना के तहत 5 रुपये में नाश्ता और 8 रुपये में खाना दिए जाने की योजना को बदलकर भले ही इंदिरा रसोई कर दिया हो, लेकिन डेढ़ साल के दौरान इस योजना को बंद करके गरीबों के साथ अन्याय किया है।

एक लाख का चैक भेंट किया

राजकुमार हरदयाल सिंह त्रैलोक्य राज्य लक्ष्मी देवी चैरिटेबल ट्रस्ट के सचिव पवन मोदी ने भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां को एक लाख रुपये राशि का चेक सौपा।

राजकुमार हरदयाल सिंह त्रैलोक्य राज्य लक्ष्मी देवी चैरिटेबल ट्रस्ट श्रीभवन सीकर की प्रबंध कार्यकारिणी द्वारा राव राजा कल्याण सिंह बहादुर की 134वीं जयंती के शुभ अवसर पर राष्ट्रीय आपदा कोविड-19 हेतु पीएम केयर्स फंड में एक लाख रुपये राशि का राशि देने का निर्णय लिया गया।