55 साल के कांग्रेस राज के मुकाबले मोदी सरकार के 6 साल के कार्यकाल में हुए ऐतिहासिक विकास कार्य: नितिन गड़करी

लखवाड़ परियोजना से राजस्थान की 34 हजार हैक्टेयर जमीन होगी सिंचित: नितिन गड़करी


कोई हमारी देश की सीमाओं की तरफ आँख उठाकर देखेगा तो हम उसी भाषा में जवाब देंगे: नितिन गड़करी


मोदी सरकार के शानदार कोरोना प्रबंधन की दुनियाभर में हो रही प्रशंसा: डाॅ. सतीश पूनियां

कोरोना काल में राजस्थान में 1 करोड़ 90 लाख लोगों
तक भाजपा कार्यकर्ताओं ने पहुँचाया भोजन: डाॅ. सतीश पूनियां


कोरोना काल में राजस्थान भाजपा के कार्यकर्ताओं ने सेवा कार्यों से बनाया नया इतिहास: गजेन्द्र सिंह शेखावत


गरीबों के कल्याण के लिए काम कर रही है मोदी सरकार: अर्जुनराम मेघवाल


जयपुर।

भारतीय जनता पार्टी राजस्थान की तीसरी वर्चुअल जनसंवाद रैली को केन्द्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गड़करी ने सम्बोधित करते हुए कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण के संकट से पूरा विश्व जूझ रहा है लेकिन भारत ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कुशल नेतृत्व में इस मुकाबले का जिस तरह से सामना किया है उसके लिये मैं सभी को धन्यवाद देता हूँ।

गडकरी ने कहा कि ऐसा किसी ने भी नहीं सोचा था कि ऐसे संकट का हमें सामना करना पड़ेगा। यह एक चुनौती है जो हमारे सामने खड़ी है, जिसका हमें डटकर मुकाबला करना है।

गड़करी ने कहा कि पूरे विश्व के वैज्ञानिक वैक्सीन की खोज में जुटे हैं लेकिन वह दिन दूर नहीं जब हम इस वैक्सीन की खोज कर लेंगे। तब तक हमें कोरोना संक्रमण से बचाव वाले नियमों की पालना करनी है।

उन्होंने कहा कि हमारे देश में यह कोई पहला संकट नहीं है, इससे पहले भी हमारे देश ने कई संकट देखे हैं। गड़करी ने राजस्थान का जिक्र करते हुये कहा कि राजस्थान की भूमि वीरों की भूमि है।

राजस्थान के पूर्वजों ने इतिहास को बचाने के लिये अपने प्राणों की आहूति दी।
राजस्थान के सूरवीरों की वीरता एवं शौर्य गाथाओं की प्रशंसा करते हुए गड़करी ने कहा कि इतिहास खून, संघर्ष और बलिदान से लिखा जाता है और ऐसा ही राजस्थान के सूरवीरों ने करके दिखाया है, जिस पर पूरे देश को गर्व है।

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान से तीन बार लड़ाई हो चुकी है तो वहीं चीन से भी एक बार लड़ाई हो चुकी है और इन सभी युद्धों में दुश्मन को मुँह की खानी पड़ी।

उन्होंने मोदी सरकार के ‘‘सबका साथ-सबका विकास’’ के लक्ष्य की प्रशंसा करते हुए कहा कि कांग्रेस के 55 साल के राज के मुकाबले मोदी सरकार के 6 साल के कार्यकाल में तेजी से ऐतिहासिक विकास कार्य हुए हैं और यह 6 साल देश के विकास के लिए गौरवशाली इतिहास है।

गड़करी ने कहा कि 1952 में नेहरू मंत्रिमण्डल से इस्तीफा देकर डाॅ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने जनसंघ की स्थापना की और उनका लक्ष्य था ‘‘एक देश-एक विधान-एक निशान’’ जिसको पूरा करने का ऐतिहासिक काम कश्मीर से अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी कर मोदी सरकार ने किया है एवं इसी के साथ डाॅ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी का सपना भी मोदी सरकार ने साकार किया है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार आतंकवाद के सामने घुटने टेकती थी और मोदी सरकार ने देश की कमान सम्भालते ही आतंकवाद को खत्म करने के लिए कई बड़े आॅपरेशन किये एवं देश के अन्दर से नक्सलवाद को खत्म करने की दिशा में बड़ी सफलता हासिल की है। 

गड़करी ने कहा कि मोदी सरकार आतंकवाद को जड़ से खत्म करने के लिए प्रयासरत है, जिसमें हमंे जरूर सफलता मिलेगी।

हम किसी देश की जमीन पर कब्जा नहीं करना चाहते, हमारे पड़ौसी नेपाल, भूटान एवं बांग्लादेश का हम पूरा सम्मान करते है और जरूरत पड़ने पर हरसम्भव मदद करते है।

उन्होंने कहा कि हम किसी पर आक्रमण नहीं करना चाहते, लेकिन कोई हमारी सीमाओं की तरफ आँख उठाकर देखेगा तो हमें उसी भाषा में जवाब देना आता है, जिसके लिए हम पूर्ण रूप से तैयार है। 

उन्होंने कहा कि सरदार वल्लभभाई पटेल ने देश के सभी राजाओं से संवाद कर देश के एकीकरण के लिए ऐतिहासिक काम किया। इसलिए हम उन्हें बड़े सम्मान और आदर के साथ ‘‘लौह पुरूष’’ कहते हैं। 

गड़करी ने सड़क परियोजनाओं एवं सिंचाई परियोजनाओं की जानकारी देते हुए बताया कि राजस्थान में मोदी सरकार तेजी से जाल बिछा रही है, जिसमें राष्ट्रीय राजमार्ग एवं रिंग रोड़ सहित तमाम परियोजनाऐं शामिल है और लखवाड़ बहुउद्देशीय परियोजना के पूरा होने पर प्रदेश की 34 हजार हैक्टेयर जमीन को सिंचाई की सुविधा मिलेगी और राजस्थान के 8 जिलों को पीने का शुद्ध पानी मिलेगा।

यह भी पढ़ें :  गहलोत सरकार ने LDC के 603 पदों पर सरकारी नौकरी निकाली, आप भी करें आवेदन

उन्होंने कहा कि लखवाड़ बहुउद्देशीय परियोजना में 28 अगस्त, 2018 को छः राज्यों के बीच समझौता हस्ताक्षर हो गया है, 5747 करोड़ की लागत वाली इस परियोजना में राज्य सरकारों द्वारा उनकी जल उपयोगिता के हिसाब में धन दिया जाएगा।

इस परियोजना से नाॅन मानसून सीजन में भी जलापूर्ति 165 प्रतिशत बढ़ जायेगी। इस परियोजना से राजस्थान, उत्तराखण्ड, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश के लोगों को 79 एमसीएम शुद्ध पेयजल मिल सकेगा। 

उन्होंने कहा कि किशाऊ बहुउद्देशीय परियोजना से राजस्थान, हरियाणा और उत्तर प्रदेश की 97 हजार हैक्टेयर जमीन सिंचित होगी। इसमें राजस्थान समेत छः राज्यों को 617 एमसीएम शुद्ध पेयजल उपलब्ध होगा।

इस परियोजना से पेयजल उपलब्ध होने के साथ ही बिजली का उत्पादन भी होगा। गड़करी ने कहा कि ताजेवाला बैराज से झुन्झुनूं और सीकर जिलों के लिए 312 एमसीएम पेयजल उपलब्ध होगा।

इस परियोजना से झुन्झुनूं की लगभग 63 हजार हैक्टेयर भूमि एवं चूरू की 37 हजार हैक्टेयर भूमि की सिंचाई होगी। उन्होंने कहा कि राजस्थान को ओखला बैराज से यमुना नदी के पानी की उपलब्धता में बढ़ोतरी हो गई है। 

गड़करी ने कहा कि दिल्ली-मुम्बई एक्सप्रेस-वे का काम चल रहा है, जिसकी लम्बाई 1260 किलोमीटर, जो 8-लेन एक्सेस कन्ट्रोल है। इसमें भूमि अधिग्रहण में होने वाले खर्च में 15 हजार करोड़ की बचत हुई है।

इस एक्सप्रेस-वे में वे-साइड सुविधाएं विकसित की जा रही हैं, जिससे आने-जाने वालों को सुरक्षित सफर के लिए सुविधाऐं मिल सके। उन्होंने कहा कि राजस्थान में दिल्ली-मुम्बई एक्सप्रेस-वे में 23 हजार करोड़ की लागत से 374 किलोमीटर 8 लेन मार्ग राजस्थान में बनेगा।

यह एक्सप्रेस-वे अलवर, भरतपुर, दौसा, सवाईमाधोपुर, बूंदी, कोटा, झालावाड़ से होकर गुजरेगा। 

गड़करी ने कहा कि 25 हजार करोड़ की लागत से 982 किलोमीटर का संगरिया-संचोर-संथालपुर ग्रीनफील्ड एक्सप्रेस-वे बन रहा है। यह एक्सप्रेस-वे हनुमानगढ़, श्रीगंगानगर, बीकानेर, जोधपुर, बाड़मेर, जालौर से होकर गुजरेगा।

उन्होंने कहा कि चम्बल एक्सप्रेस-वे से राजस्थान और उत्तर प्रदेश के बीच सीधा सम्पर्क मार्ग हो जाएगा। 6 हजार करोड़ की लागत से 280 किलोमीटर लम्बा बनाया जा रहा यह एक्सप्रेस-वे चम्बल नदी के समानांतर शिवपुरी, भिण्ड, मुरैना से होकर कोटा (राजस्थान) तक जायेगा। 

गड़करी ने कहा कि जयपुर रिंग रोड़ का 97 प्रतिशत, उदयपुर बाईपास का 82 प्रतिशत, जोधपुर रिंग रोड़ 40 प्रतिशत, बीकानेर-सूरतगढ़ मार्ग 90 प्रतिशत, कुंडाल-झाड़ोल मार्ग 60 प्रतिशत कार्य पूर्ण हो चुका है।

इन सभी सड़क मार्गों के इस साल के आखिरी तक और वर्ष 2021 एवं वर्ष 2022 के आखिरी तक सभी कार्य पूर्ण हो जायेंगे।

उन्होंने कहा कि अजमेर-नागौर मार्ग, पुष्कर बाईपास का निर्माण, नागौर-बीकानेर मार्ग के कार्य जारी हो चुके हैं, जिनका कार्य दिसम्बर 2022 तक पूर्ण हो जायेगा।

साथ ही रास-ब्यावर-आसींद मार्ग का टेंडर हो चुका है और ब्यावर से गोमती मार्ग के लिए एसएफसी स्वीकृत हो चुकी है, जिनका कार्य दिसम्बर 2022 तक पूर्ण हो जायेगा। 

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष डाॅ. सतीश पूनियां ने कहा कि केन्द्रीय सड़क व परिवहन मंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष नितिन गड़करी देश की युवा राजनीति के नक्षत्र के तौर पर उभरे और अपनी कार्यशैली और कुशल संगठन क्षमता से देशभर में पार्टी की मजबूती के लिए काम किया। 

डाॅ. पूनियां ने कहा कि जैसे नागपुर के संतरे की खुशबू पूरे देशभर में फैली है, उसी तरह नितिन गड़करी की विकास को लेकर कुशल एवं दूरदर्शी कार्यशैली भी देशभर में प्रसिद्ध है, जिन्होंने महाराष्ट्र से लेकर देशभर में सड़कों का जाल बिछाया और गाँवों को शहरों से जोड़ने का अनूठा काम किया, जिससे शहरों के साथ ग्रामीण अर्थव्यवस्था को भी मजबूती मिली है।

डाॅ. पूनियां ने कहा कि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी. नड्डा की वर्चुअल रैली से प्रदेशभर से करीब 70 लाख लोग जुड़े और आज मुझे पूरी उम्मीद है कि नितिन गड़करी की रैली दर्शकों के मामले मंे करोड़पति साबित होगी।

यह भी पढ़ें :  वसुंधरा राजे, रीटा चौधरी, मुकेश भाखर, कृष्णा पूनियां जैसे 36 विधायकों का खाता बन्द पड़ा है!

कोरोना काल में प्रदेशभर में भारतीय जनता पार्टी के सेवा कार्यों के बारे में जानकारी देते हुए डाॅ. सतीश पूनियां ने कहा कि मुझे गर्व है कि मैं भारतीय जनता पार्टी का कार्यकर्ता हूँ और लाखों पार्टी कार्यकर्ताओं ने इस कोरोना महामारी में 1 करोड़ 90 लाख लोगों तक भोजन पहुँचाया।

60 लाख लोगों तक राशन सामग्री पहुँचायी, 1 करोड़ मास्क एवं 50 करोड़ रूपये पूरे प्रदेशभर से पीएम केयर फण्ड में योगदान दिया गया एवं वर्षपूर्ति के साथ पूरी सिद्धत के साथ पार्टी कार्यकर्ता सेवा कार्य कर रहे है। 

डाॅ. पूनियां ने कहा कि कोरोना काल में राजस्थान में भारतीय जनता पार्टी ने अनेकों नवाचार किये, जिनमें वर्चुअल माध्यम से नाई, धोबी इत्यादि सभी समाज के लोगों से संवाद किया और उनकी समस्याएं जानी एवं समाधान की दिशा में पूरे प्रयास किये। मैंने स्वयं ने करीब डेढ़ लाख लोगों से वर्चुअल माध्यम से संवाद किया।

उन्होंने भारतीय जनता युवा मोर्चा की प्रशंसा करते हुए कहा कि कोरोना जैसे काल में कार्यकर्ताओं ने रक्तदाताओं की सूची तैयार कर विभिन्न अस्पतालों को सौंपी, जिनको जरूरत पड़ने पर रक्त उपलब्ध करवाया जायेगा। 

राज्य सरकार पर निशाना साधते हुए डाॅ. पूनियां ने कहा कि प्रदेश में कानून व्यवस्था एकदम ठप्प है, अपराधों का ग्राफ तेजी से बढ़ रहा है, प्रदेश में महिलाऐं एवं बालिकाऐं सुरक्षित नहीं है।

बालोतनगर, रामगढ़, टोंक जिले के बाछेड़ा, सवाईमाधोपुर सहित प्रदेश के कई स्थानों पर छेड़छाड़ एवं गैंगरेप की वारदातें हुई हैं। लेकिन सरकार ऐसे मामलों पर कतई गम्भीर नहीं है। अपराधी पकड़ से बाहर है। 

केन्द्र की मोदी सरकार की प्रशंसा करते हुए डाॅ. पूनियां ने कहा कि 1888 करोड़ रूपये कोविड प्रबंधन के लिए राज्य सरकार को दिए।

इसके अलावा 2715 करोड़ डीएमएफटी के माध्यम से राज्य सरकार को दिये, प्रदेश के 72 लाख किसानों के खातों में पैसा भेजा गया, एसडीआरएफ के माध्यम से राज्य सरकार को 700 करोड़ से अधिक की राशि दी गई।

मैं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से पूछना चाहता हूँ कि आप प्रदेश की जनता को क्यों गुमराह करते है, क्यों झूठ बोलते हैं, क्यों आप नहीं बताते कि केन्द्र से राज्य को कितनी राशि मिली है?

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुये डाॅ. सतीश पूनियां ने कहा कि भाजपा की इस वर्चुअल रैली में कोटा, अजमेर और उदयपुर संभाग के कार्यकर्ता शामिल हुये हैं।

पूनियां ने राजस्थान कांग्रेस सरकार पर निशाना साधते हुये कहा कि खुद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने विधायक की कीमत 35 करोड़ रूपये बतायी थी और विधायकों को 10 दिन तक होटल में कैद रखा, जिसकी वजह पार्टी और सरकार में आंतरिक कलह थी।

उन्होंने कहा कि एक विधायक ने मुझ पर विशेषाधिकार हनन का आरोप लगाया हैं। मैं पूछना चाहता हूँ कि जब मुख्यमंत्री ने प्रदेश के प्रति विधायक की कीमत 35 करोड़ रूपये लगायी थी, तो विशेषाधिकार हनन और मानहानि का मामला तो खुद मुख्यमंत्री पर बनता है, जो कि पहले ही लगा देना चाहिए था।

कांग्रेस की सियासत, तिकड़मबाजी और बदनीयती जनता देख रही है। पूनियां ने कहा कि कांग्रेस द्वारा आरोप लगाया जा रहा है कि केन्द्र सरकार भेदभाव करती है, मदद नहीं करती है इस पर उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने जनता के हित में कई कार्य किये हैं।

इतना ही कई अहम मुद्दों का भी समाधान किया है जिनकी प्रशंसा चहुँओर हो रही है। मोदी सरकार द्वारा देशभर में शानदार कोरोना प्रबंधन के कारण कोरोना पर लगाम लगाई जा सकी, जिसकी प्रशंसा ना केवल दुनियाभर के देश बल्कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी की है और इसी कोरोना के कुशल प्रबंधन के कारण भारत को विश्व स्वास्थ्य संगठन का कार्यकारी अध्यक्ष बनने का अवसर मिला है, जो हम सभी देशवासियों के लिए गर्व की बात है।

राज्य सरकार पर निशाना साधते हुए डाॅ. पूनियां ने कहा कि मेवाड़ में महाराणा प्रताप की जयंती को नहीं मनाने दिया गया, उनकी मूर्ति से मालाऐं उतार ली गई और उसके दो दिन पहले राजीव गाँधी की जयंती को मनाया गया।

यह भी पढ़ें :  उदयपुर में फंसे 23 इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स को बस जम्मू-कश्मीर लेकर रवाना

इससे स्पष्ट होता है कि मुख्यमंत्री गहलोत की सरकार के लिए महाराणा प्रताप की महानता कोई मायने नहीं रखती।

डाॅ. पूनियां ने कहा कि मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में बुनियादी विकास के तेजी से कार्य हुए और मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में भगवान श्रीराम मन्दिर का अयोध्या में निर्माण का मार्ग प्रशस्त हुआ, अनुच्छेद 370 व 35ए को निष्प्रभावी कर कश्मीर को पूरी आजादी दी एवं विकास के नये रास्ते खोले, मुस्लिम माताओं-बहिनों को तीन तलाक से आजादी दिलायी, अल्पसंख्याकों हिन्दू, सिक्ख, जैन, पारसी इत्यादि को स्वाभिमान के साथ सम्मान देने के लिए नागरिकता संशोधन कानून लाया गया।

केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने ‘‘वर्चुअल जनसंवाद रैली’’ में सभी का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी. नड्डा, गृहमंत्री अमित शाह के मार्गदर्शन में तकनीकी के माध्यम से वर्चुअल रैलियाँ कर नया इतिहास बनाया है।

उन्होंने कहा कि देशभर में ‘‘वर्चुअल रैलियाँ’’ हो रही हैं, इसमें 100 रैलियों में से राजस्थान में तीन रैलियाँ आयोजित हुई है। कोरोना काल में राजस्थान भाजपा के कार्यकर्ताओं ने नया इतिहास बनाया।

शायद दुनिया में किसी राजनैतिक पार्टी के कार्यकर्ताओं ने नहीं सोचा था कि इस आपदा की घड़ी में समूह में आना सम्भव नहीं है। 

उन्होंने कहा कि ऐसे समय में विचारधारा के प्रचार-प्रसार के लिए भाजपा जैसी राजनैतिक पार्टी जो कि कार्यकर्ताओं के साथ सतत् सम्पर्क के माध्यम से जनता के साथ प्रत्यक्ष संवाद बनाये हुए है।

उन्होंने पार्टी के राजस्थान नेतृत्व एवं कार्यकर्ताओं का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि कोरोना काल में करोड़ों लोगों की सेवा कर जो ऐतिहासिक काम किये हैं उन पर हम सभी नेताओं और पार्टी कार्यकर्ताओं को गर्व है। 

उन्होंने कहा कि डिजिटल माध्यम का बेहतर उपयोग कर भाजपा आई.टी. सेल ने सफलतम वर्चुअल रैलियाँ आयोजित की है और लगातार वीडियो काँफ्रेंस के माध्यम से संवाद की श्रृंखला भी जारी है, इसके लिए मैं आई.टी. सेल के कुशल तकनीकी प्रबंधन की प्रशंसा करता हूँ। 

केन्द्रीय मंत्री अर्जुनराम मेघवाल ने वर्चुअल जनसंवाद रैली को सम्बोधित करते हुए कहा कि आज इन्टरनेशनल एमएसएमई दिवस है, सभी उद्यमियों को शुभकामनाएं देता हूँ और उनके कारोबार के बढ़ने की कामना करता हूँ।

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार गरीबों को समर्पित है, गरीबों के कल्याण के लिए काम कर रही है। 

उन्होंने कहा कि देश की आजादी के लिए अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई लड़ने वाले आदिवासी योद्धाओं के म्यूजियम मोदी सरकार देशभर में बना रही है। वहीं डाॅ. भीमराव अम्बेडकर से जुडे़ पाँच प्रमुख स्थानों को पंचतीर्थ घोषित कर मोदी सरकार ने ऐतिहासिक काम किया है।

मेघवाल ने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में आदिवासी बच्चों को आगे बढ़ाने के लिए मोदी सरकार 450 नवोदय विद्यालय खोलने जा रही है। 

प्रदेश भाजपा कार्यालय में शनिवार को राजस्थान जनसंवाद रैली का तीसरा चरण आयोजित किया गया, जिसमें मंच पर भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डाॅ. सतीश पूनियां, केन्द्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत, अर्जुनराम मेघवाल, कैलाश चैधरी एवं उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ मुख्य अतिथि के तौर पर कार्यक्रम में शामिल हुए। 

भाजपा प्रदेश कार्यालय में पास में ही अन्य मंच पर भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय सह-संगठन महामंत्री वी. सतीश, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं प्रदेश प्रभारी अविनाश राय खन्ना, प्रदेश महामंत्री (संगठन) चन्द्रशेखर, पूर्व प्रदेशाध्यक्ष डाॅ. अरूण चतुर्वेदी ने शिरकत की।

‘‘राजस्थान जनसंवाद रैली’’ में धौलपुर से वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे, उदयपुर से नेता प्रतिपक्ष गुलाबचन्द कटारिया, राजसमंद से सांसद दीया कुमारी, बाँसवाड़ा से सांसद कनकमल कटारा ने शिरकत की। 

जयपुर स्थित भाजपा प्रदेश कार्यालय से आयोजित हुई इस रैली में भाजपा के जयपुर शहर सांसद रामचरण बोहरा, राज्यसभा सांसद रामकुमार वर्मा, राजेन्द्र गहलोत, प्रदेश महामंत्री भजनलाल शर्मा, वीरमदेव सिंह जैसास, प्रदेश मंत्री मुकेश दाधीच, प्रदेश मीडिया प्रभारी विमल कटियार, भाजयुमो प्रदेशाध्यक्ष अशोक सैनी एवं अन्य सांसद, विधायक, सहित कई वरिष्ठ कार्यकर्ताओं ने भी भाग लिया।