गहलोत सरकार के कैबिनेट मंत्री ने माना उनके ऊपर राजनीतिक प्रतिबंध

रामगोपाल जाट

राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अगुवाई वाली राज्य सरकार पिछले 6 दिन से दिल्ली रोड पर स्थित जेडब्ल्यू मैरियट होटल में कैद है। इस दौरान प्रमुख विपक्षी पार्टी भाजपा की तरफ से राजनीतिक प्रतिबंध लगाए जाने के आरोप सुर्खियों में रहे हैं, किंतु पहली बार खुद गहलोत सरकार के कैबिनेट मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने इस बात को सार्वजनिक रूप से स्वीकार किया है।

Screenshot 20200615 122612 Facebook 1

शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने फेसबुक पोस्ट “सियासी बंदिशों के बीच काम नहीं रुकना चाहिए” लिखते हुए अपनी 5 फोटो भी अपलोड की हैं, जिसमें वह खुद होटल जेडब्ल्यू मैरियट में शिक्षा विभाग से संबंधित जरूरी कामकाज निपटाते हुए नजर आ रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि 18 जून से राजस्थान में दसवीं और बारहवीं कक्षा के बच्चे हुए विषयों की परीक्षाएं फिर से प्रारंभ हो रही हैं, जिसके लिए शिक्षा विभाग तैयारी में जुटा हुआ है।

गौरतलब है कि राजस्थान में तीन राज्यसभा सीटों के लिए 19 जून को मतदान होगा। उससे 10 दिन पहले से ही भाजपा के द्वारा तोड़फोड़ किए जाने का आरोप लगाते हुए प्रदेश कांग्रेस कमेटी और राज्य की सरकार की तरफ से खुद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अपने सभी विधायकों निर्दलीय विधायकों और दो छोटी पार्टियों के विधायकों को होटल मेरियट में बाड़ाबंदी करके रखे हुए हैं।

कैबिनेट मंत्री रमेश मीणा यह नाराजगी

इस बीच पुलिस ने बात यह है कि प्रदेश की कांग्रेस सरकार में कैबिनेट मंत्री रमेश मीणा अभी तक भी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से खासे नाराज नजर आ रहे हैं, वह होटल मेरियट नहीं पहुंचे हैं। जिसके कारण कई तरह की राजनीतिक चर्चाएं हो रही हैं।

यह भी पढ़ें :  महिला सशक्तिकरण के लिए सिर्फ घूंघट क्यों हटे, बुर्का क्यों नहीं??

पूर्व मंत्री और सांगोद से विधायक भरत सिंह ने बकायदा प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष सचिन पायलट को पत्र लिखकर अपनी नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा है कि जिन राज्यसभा उम्मीदवारों को हम चुनकर भेजते हैं, वो जीतने के बाद विधायकों को पहचानते भी नहीं हैं।