राज्यसभा चुनाव से पहले हनुमान बेनीवाल का ऐलान, बीजेपी को समर्थन देने और गहलोत के दबाव देने की बात पर यह कहा…

जयपुर।

राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक और नागौर के सांसद हनुमान बेनीवाल ने राज्यसभा चुनाव को लेकर अपनी तरफ से स्पष्ट ऐलान कर दिया है।

बीजेपी को समर्थन देने की बात पर हनुमान बेनीवाल ने कहा है कि वह पहले से ही संसद में भाजपा के साथ हैं और राज्यसभा चुनाव में भी साथ रहेंगे।

इससे पहले रविवार को सुबह करीब 10:00 बजे नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया के सिविल लाइन स्थित सरकारी निवास पर हनुमान बेनीवाल, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनिया, प्रदेश संगठन महामंत्री चंद्रशेखर, नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र सिंह राठौड़, राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष पुखराज गर्ग की मुलाकात हुई।

इसके बाद उपस्थित पत्रकारों से बात करते हुए हनुमान बेनीवाल ने कहा कि अशोक गहलोत पूरी तरह से विफल हो चुके हैं और अपनी विफलताओं का ठीकरा विपक्ष के तौर पर भाजपा पर छोड़ना चाहते हैं, जबकि हकीकत यह है कि लोकतंत्र में अशोक गहलोत का कभी विश्वास रहा ही नहीं।

इतना ही नहीं, हनुमान बेनीवाल ने कहा कि अशोक गहलोत की सरकार अब लंबे समय की नहीं है और जिस तरह से दीपक बुझने से पहले फड़फड़ाता है, उसी तरह से अशोक गहलोत भी दिल मिलाए हुए हैं और लोकतंत्र की हत्या कर रहे हैं, पूरी सरकार को एक होटल में बंधक बना लिया है।

उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के 72 विधायक हैं, जबकि उनके तीन विधायक भाजपा के उम्मीदवार के पक्ष में वोट करेंगे। उन्होंने कहा कि अशोक गहलोत ने उनकी पार्टी के दो दलित विधायकों को कांग्रेस को समर्थन देने की अफवाह फैलाई, जिसके लिए वह कड़े शब्दों में गहलोत के निंदा करते हैं।

यह भी पढ़ें :  अशोक गहलोत को 27 सितंबर को हाई कोर्ट में तलब, किसानों के मामले में लगा झटका

हमेशा की भांति एक बार फिर से हनुमान बेनीवाल ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को प्रदेश की जनता के साथ धोखा करने वाला नेता करार दिया।

उन्होंने कहा कि धोखे से मुख्यमंत्री बने अशोक गहलोत की सरकार डेढ़ साल में प्रदेश की जनता के साथ अन्याय कर रही है और अब इसका निपटारा होने का समय आ गया है।

सांसद बेनीवाल ने कहा कि अशोक गहलोत उनके बेटे के हार से अब तक बौखलाए हुए हैं और इसके कारण उनके फोन टेप करने और विभिन्न तरह के प्रलोभन देने का कार्य खुलेआम कर रहे हैं, जिसका वह विरोध करते रहेंगे।

उन्होंने इस अवसर पर यह भी कहा कि अशोक गहलोत की सरकार तमाम तरह की विफलता अपने साथ लिए हुए हैं और इस लॉकडाउन के बाद भारतीय जनता पार्टी और राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी मिलकर राजधानी में बड़ा आंदोलन करेगी।

इस अवसर पर भाजपा के अध्यक्ष डॉ सतीश पूनिया ने कहा कि राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी बीजेपी के समर्थक पार्टी है और राज्यसभा चुनाव में भी बीजेपी के साथ हैं।

उन्होंने कहा कि सांसद हनुमान बेनीवाल के साथ मीटिंग विधायक दल की बैठक से पहले होने वाली एक औपचारिक बैठक मात्र थी, जिसमें किसी तरह की और कोई बात नहीं हुई है।

इस अवसर पर हनुमान बेनीवाल ने कहा कि उनकी पार्टी के दो अनुसूचित जनजाति समुदाय से आने वाले विधायक साथियों को डराने, धमकाने और विभिन्न तरह के प्रलोभन देने का काम भी अशोक गहलोत सरकार ने किया है, लेकिन उनके पार्टी पूरी तरह से भाजपा के साथ है।

इसी के साथ राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष और विधायक पुखराज गर्ग ने कहा कि हनुमान बेनीवाल के निर्देश के मुताबिक पार्टी के तीनों विधायक भाजपा के उम्मीदवारों को वोट करेंगे और अशोक गहलोत सरकार के किसी भी दबाव में नहीं आने वाले हैं।

यह भी पढ़ें :  भाजपा विधायकों ने पूर्व लोकसभा सांसद सीआर चौधरी को राज्यसभा भेजने की मांग उठाई