आईपीएस पंकज चौधरी की पत्नी मुकुल चौधरी ने लगाई पीआईएल, सफाईकर्मियों के लिए पेश की मिसाल

जयपुर।

आईपीएस पंकज चौधरी की पत्नी मुकुल चौधरी ने प्रदेश भर के सफाईकर्मियों के लिए पीपीई किट मास्क और अन्य स्वास्थ्य सुरक्षा उपकरणों के लिए राजस्थान हाईकोर्ट की डबल बेंच में पीआईएल लगाई, जिसपर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने केंद्र सरकार और राज्य सरकार से जवाब मांगा है।

उल्लेखनीय है कि राजस्थान में सफाई कर्मियों और नियमित तौर पर कचरा एकत्रित करने वाले लोगों के पास कोरोना जैसी महामारी के दौरान भी पीपीई किट नहीं होने मास्क की अनुपलब्धता और अन्य स्वास्थ्य सुरक्षा उपकरणों की अनदेखी किए जाने के बाद मुकुल चौधरी ने राजस्थान हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर की है।

इस जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए राजस्थान हाई कोर्ट की डबल बेंच ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार, राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार से 3 जुलाई तक जवाब पेश करने को कहा है।

जनहित याचिका दायर करने वाली मुकुल चौधरी का कहना है कि राजस्थान में सफाई कर्मियों के लिए राज्य सरकार ने जिस तरह से अनदेखी करने का कार्य किया है और इसके चलते कोविड-19 की वैश्विक महामारी के दौरान भी उनकी जान से खेलने का षड्यंत्र किया जा रहा है, जो अक्षम्य है और इसी से क्षुब्ध होकर उन्होंने यह जनहित याचिका लगाई है।

मुकुल चौधरी की जनहित याचिका पर पैरवी करने के लिए सुप्रीम कोर्ट व राजस्थान हाईकोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता मेहमूद प्रचा, सुनील वशिष्ठ और सुरकेश लखवानी ने पैरवी की है। हाई कोर्ट के प्रधान जज इंद्रजीत मोहंती और जज एसके शर्मा ने यह निर्देश दिया है।

उल्लेखनीय है कि आईपीएस पंकज चौधरी को पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सरकार के द्वारा षड्यंत्र कर बर्खास्त करने की लोक सेवा आयोग में शिकायत की गई थी, जिस पर वर्तमान सरकार के मुखिया अशोक गहलोत के द्वारा मोहर लगवा कर बर्खास्त करवाने का कार्य किया गया था। पंकज चौधरी का मामला भी न्यायालय में विचाराधीन है, जिसपर निर्णय होना बाकी है।

यह भी पढ़ें :  वसुंधरा राजे की हुई विदाई, रमन सिंह और शिवराज सिंह भी प्रदेशों से हुए विदा