अशोक गहलोत की पुलिस पर भड़के हनुमान बेनीवाल

-कहा: जिले में दलित युवकों का हत्याकांड अमानवीय कृत्य, जिले में पुलिस का इकबाल खत्म, डबल मर्डर पर सांसद बेनीवाल ने नागौर एसपी व जिले की पुलिस पर खड़े किए सवालिया निशान, सीएस व पुलिस अधिकारियों से की वार्ता।
नेशनल दुनिया, नागौर/जयपुर।

राजस्थान के मुख्यमंत्री और गृह मंत्री अशोक गहलोत की पुलिस पर राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक और नागौर के सांसद हनुमान बेनीवाल एक बार फिर से भड़क उठे हैं।


गुरुवार देर रात नागौर जिले के मकराना – खाटु मुख्य सड़क पर बिणजारी फांटे के पास कालवा गांव के दलित युवक राजेश मेघवाल व मुकेश नायक की हत्या करके फेंके गए शवों के प्रकरण में नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल ने जिले के पुलिस अधीक्षक व पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान खड़ा किया।

सांसद ने कहा कि नागौर जैसे बड़े जिले को संभालने में एसपी पूरी तरह से नाकाम हैं। साथ ही जिले के पुलिस कप्तान होने के बावजूद स्व-विवेक से निर्णय लेने में सक्षम नहीं हैं।

उन्होंने कहा इस तरह 2 दलित युवकों की हत्या हो जाना इस बात की और इंगित करता है कि जिले में पुलिस का इकबाल खत्म हो गया।

उन्होंने नागौर के करणु में घटित नायक समाज के युवकों के साथ अमानवीय कृत्य, पुलिस अफसरों से पीड़ित होकर पुलिस कार्मिक गेनाराम मेघवाल द्वारा परिजनों सहित आत्महत्या कर लेने के प्रकरण और हाल ही में एसपी ऑफिस में कार्यरत एक दलित कार्मिक द्वारा प्रताडित होकर आत्महत्या कर लेने के प्रकरण सहित जिले में घटित दलित अत्याचार के मामलो पर प्रकाश डालते हुए कहा कि दलित हितेषी शासन का ढोंग करने वाले गहलोत के शासन में जिले में दलितों पर अत्याचार की घटनाएं बढ़ी हैं।

यह भी पढ़ें :  अशोक गहलोत को सबक सिखाने की जरूरत है-विधायक

सांसद ने मामले में राज्य के मुख्य सचिव डीबी गुप्ता, एडीजी क्राइम से एसपी को हटाने की मांग की साथ ही घटना स्थल से जुड़े थाना अधिकारी व अन्य अधिकारियों की भी जिम्मेदारी तय करने की मांग की। साथ ही उच्च स्तरीय जांच करके दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही के निर्देश दिए।


इस प्रकरण को लेकर भी की एडीजी व आईजी से दूरभाष पर वार्ता

सांसद ने 6 मई को जिले के पिलवा पुलिस स्टेशन में नाबालिंग लड़की के साथ हुए बलात्कार के मामले में अभी तक मुलजिम की गिरफ्तारी नहीं होने को लेकर सांसद ने रोष व्यक्त किया।

शुक्रवार को पीड़ित पक्ष के परिजनों से सांसद से मुलाकात की उसके बाद बेनीवाल ने अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक अपराध बीएल सोनी व अजमेर रेंज आईजी हवासिंह घुमरिया से दूरभाष पर वार्ता करके मामले में आरोपी की गिरफ्तारी करने की मांग की। साथ ही चेतावनी देते हुए कहा कि आगामी 3 दिवस में मुलजिम गिरफ्तार नहीं हुआ तो वो स्वयं पिलवा थाने के बाहर धरने पर बैठेंगे।