प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश के किसानों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए ऐतिहासिक फैसले लिये: डॉ. सतीश पूनियां

-मोदी सरकार का लक्ष्य, उन्नत खेती, खुशहाल किसान, फसल के बढ़िया दाम और पशुओं का अच्छा स्वास्थ्य: डॉ. सतीश पूनियां
-आत्मनिर्भर भारत दुनिया का सबसे बड़ा पीपीई किट उत्पादक देश बन जाएगा: डॉ. सतीश पूनियां
-हर देशवासी के लिए बड़ी उपलब्धि, नासा के लिए भारत की कंपनियां बनायेंगी वेंटिलेटर : डॉ. सतीश पूनियां
-प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की प्रतिबद्धता से भारत निश्चित ही विश्व शक्ति बनेगा : डॉ. सतीश पूनियां

नेशनल दुनिया, जयपुर।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मन की बात कार्यक्रम को लेकर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने कहा कि, आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मन की बात में सारगर्भित तरीके से कोविड-19 सहित भारत के भूतकाल, वर्तमान और भविष्य की संभावनाओं पर जो कहा वो वास्तव में अद्भुत है, अकल्पनीय है, आज प्रधानमंत्री की प्रतिबद्धता देखकर लगता है भारत निश्चित ही विश्व शक्ति बनेगा।


डॉ. सतीश पूनियां ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मन की बात में देश के सभी प्रमुख विषयों पर बात की, उन्होंने कोरोना से लड़ाई और लड़ाई में भारत की भूमिका पर विस्तार से प्रकाश डाला।

उन्होंने सेवा परमो धर्मं पर विशेष जोर कहा कि भारत ने इस कोरोना संक्रमण काल के दौरान सेवा की मिशाल पेश की है, इसको लेकर प्रधानमंत्री ने देशभर के अनेकों उदाहरण दिये।


भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. पूनियां का कहना है कि, केन्द्र की मोदी सरकार के तमाम नवाचारों, जिसमें उन्होंने आयुष्मान भारत योजना पर बात करते हुये इम्यूनिटी बढ़ाने को लेकर आयुष मंत्रालय की गाइडलाइन का पालन करने को कहा।

इसके अलावा देशवासियों से उन्होंने इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए योग को प्रतिदिन की जीवनचर्या में शामिल करने की अपील की।

उन्होंने कहा कि, आज का मन की बात वास्तव में भारत का रोडमैप है, सारगर्भित तरीके से प्रधानमंत्री ने देशहित से जुड़ी सभी बातों का जिक्र किया।

यह भी पढ़ें :  मॉडल को 4 साल तक बनाया हवस का शिकार, बच्चों का पिता निकला दुष्कर्मी


केन्द्र की मोदी सरकार की दूसरी पारी के एक वर्ष के कार्यकाल को स्वर्णिम बताते हुए डॉ. सतीश पूनियां का कहना है कि, 2014 से 2019 के कालखंड में देश के बुनियादी विकास को गति मिली थी और बड़े क्रांतिकारी परिवर्तन हुये थे।

करीब 135 करोड़ की आबादी वाले लोकतांत्रिक देश में चुनौतियां भी कम नहीं होती हैं, फिर जिन मुद्दों को लेकर पूरा देश आंदोलित होता था, जो प्रमुख मांगें थीं, उन सबका समाधान मोदी सरकार के नेतृत्व में तेजी से हो रहा है।

हम सभी देशवासियों की कल्पना थी, भगवान श्रीराम का अयोध्या में भव्य मंदिर बने, जिसके लिए आंदोलन हुए बलिदान हुए।

सभी देशवासियों की इस मांग का मोदी के नेतृत्व में मार्ग प्रशस्त हुआ और यह एक अदभुद ही संयोग था कि 2014 में 26 मई को नरेन्द्र मोदी ने प्रधानमंत्री पद की पहली बार शपथ ली और 26 मई 2020 वो दिन जब भगवान श्री रामलला के मंदिर का शिलान्यास हुआ।


मोदी सरकार के फैसलों को ऐतिहासिक बताते हुए डॉ. पूनियां ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून विभाजन से पहले की त्रासदी थी जिससे लोग त्रस्त थे।

अफगानिस्तान, पाकिस्तान और बांग्लादेश में तमाम विस्थापित हिन्दू जिल्लत की जिंदगी जी रहे थे, जिनको सम्मान और स्वाभामिमान का मार्ग मोदी सरकार ने प्रशस्त किया, वहीं तीन तलाक बिल लाकर मोदी सरकार ने मुस्लिम बहनों को सम्मान दिया और खुली सांस में जीने की आजादी का रास्ता दिखाया।


कोरोना पर नियंत्रण पाने को लेकर मोदी सरकार के प्रयासों को डॉ. सतीश पूनियां ने अभिनव बताते हुये काह कि, प्रधानमंत्री मोदी ने एक दूरदर्शी फैसला किया, जिसको लेकर मैं पीछे मुडकर देखता हूं तो देश को बहुत बुनियादी चीजों के समाधान से ले जाते हुये अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाना बड़ी चुनौती थी।

यह भी पढ़ें :  सचिन पायलट फैक्टर से कैसे निपटेगी कांग्रेस?

कोरोना से लड़ाई लड़ने के दौरान मोदी सरकार के आत्मनिर्भर भारत अभियान पैकेज से देश के हर वर्ग को ताकत मिली।


उन्होंने कहा कि, प्रधानमंत्री मोदी ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के लिये एक करोड़ 70 लाख के पैकेज के ऐलान किया था, उस पैकेज से ताकत मिली और इससे भी बढ़कर 20 लाख करोड़ के आत्मनिर्भर भारत अभियान के पैकेज ने देश की दशा एवं दिशा बदलने का बड़ा काम किया।


डॉ. सतीश पूनियां का कहना है कि मोदी सरकार की योजनाओं से भारत के लघु, सूक्ष्म एवं मध्यम उद्योगों को नई मजबूती मिल रही है, इन यूनिटस में 12 करोड़ से अधिक लोग काम करते हैं, कोरोना काल में इन सभी पर संकट था, कर्जे थे तो ऐसे में इस सैक्टर को मजबूत करने के लिए 20 लाख करोड़ के पैकेज में विशेष ध्यान दिया गया है।


मोदी सरकार की किसानों की योजनाओं को लेकर डॉ. सतीश पूनियां ने कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी के बाद नरेन्द्र मोदी ने देश के किसानों को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में ऐतिहासिक फैसले लिये हैं।

2.5 करोड़ नये किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड की सहूलियत मिलेगी, खेती के साथ पशुधन को संबल देने के लिए मोदी सरकार ने इसी तर्ज पर भारत के 53 करोड़ पशुधन के लिए 10 हजार करोड़ का प्रावधान उनके टीकाकरण के लिये किया है।

कृषि अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए मोदी सरकार का लक्ष्य है, उन्नत खेती, खुशहाल किसान, फसल की अच्छी कीमत और पशुओं का अच्छा स्वास्थ्य।


वन नेशन वन राशन कार्ड मोदी सरकार का क्रांतिकारी फैसला है, जिससे कोई भी व्यक्ति देश के किसी भी राज्य में राशन प्राप्त कर सकता है, यह कहना है कि डॉ. पूनियां का।

यह भी पढ़ें :  सीबीआई जांच करवा लो फांसी पर लटका दो, लेकिन मैं मानेसर नहीं गया डॉ. पूनियां

उन्होंने कोरोना पर नियंत्रण को लेकर मोदी सरकार के प्रयासों की प्रशंसा करते हुए कहा कि मोदी का लक्ष्य था कि, जान है तो जहान है, लोग बचेंगे तो अर्थव्यवस्था बचेगी।

हमारे प्रधानमंत्री ने लोगों की जान की चिंता ज्यादा की, जिससे हमारे यहां मानव हानि कम हुई, जो हम सबके लिए सुखद है।


उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना पर नियंत्रण को लेकर जिस तरह से प्रयास किये उनके लिए पूरी दुनिया में प्रशंसा हो रही है, और यही कारण है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन का भारत कार्यकारी अध्यक्ष बना है।

और इसी कालखंड में भारत आत्मनिर्भर बनने की दिशा में तेजी से आगे कदम बढ़ा रहा है, जिसका सबसे बड़ा उदाहरण हमारे यहां पीपीई किट का बड़े स्तर पर बनना, इससे पहले इसके बारे में हम सुनते थे।

जरूरत पड़ने पर हमें आयात करनी पड़ती थी, लेकिन अब हमारे देश में पीपीई किट बनने लगे हैं जिससे देशभर की जरूरत पूरी हो रही है और चंद दिनों में भारत दुनिया का सबसे बड़ा पीपीई किट उत्पादक देश बन जाएगा, जिसका निर्यात भी होने लगेगा, जिससे देश की अर्थव्यवस्था भी मजबूती होगी।


डॉ. पूनियां का कहना है कि, कोरोना को लेकर स्वास्थ्य के क्षेत्र में इन्फ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करना ये जब दिखाई देता है तो इसको लेकर सुखद बात और उपलब्धि यह है कि नासा के लिये वेंटिलेटर भारत बनायेगा।

इससे बड़ी उपलब्धि क्या हो सकती है कि दुनिया का सबसे बड़ा देश भारत, जो दुनिया की सबसे बड़ी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के लिए भारत की कंपनियां वेंटिलेटर बनायेंगी।

साथ ही मोदी सरकार के नेतृत्व में भारतवासी स्वदेशी और स्वावलंबन की दिशा में तेजी से आगे बढ़ने लगे हैं।