अशोक गहलोत सरकार ने किए आज से बड़े बदलाव, आप भी देखिए बहुत जरूरी हैं

नेशनल दुनिया, जयपुर।

राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार ने कई बड़े बदलाव किए हैं, जिनके बारे में आम जनता को जानना बेहद जरूरी है। हम यहां पर राज्य सरकार के द्वारा किए गए 11 बड़े बदलाव के बारे में बता रहे हैं, जो आपको जानना आवश्यक है।

राजस्थान के नागरिकों को इन 11 परिवर्तनों के बारे में जानकारी होनी चाहिए

समाज में ऐसी महिला जिनकी आयु 55 वर्ष या जन्म तारीख 01/01/1965 है या इससे ज्यादा है और पुरूष जिनकी आयु 58 वर्ष या जन्म तारीख 01/01/1962 या इससे ज्यादा है वो ई मित्र पर भामाशाह कार्ड (31 मार्च 2020 बाद जन आधार कार्ड) ले जाकर अपना पेंशन आवेदन करावे ताकि उनको राज्य सरकार की तरफ़ से हर माह 750 पेंशन मिल सके।

जो समाज की महिला विधवा है, वो अपने पति का मृत्यु प्रमाण पत्र और भामाशाह कार्ड (31 मार्च 2020 बाद जन आधार कार्ड) ई मित्र पर ले जाकर पेंशन के लिए आवेदन कर सकते हैं।

जिस किसी के पेंशन आ रही है वो अपने भामाशाह कार्ड में अपनी सही आयु दर्ज करावे, ताकि उनकी पेंशन में नियमानुसार बढ़ोतरी होती रहे।


75 साल से ऊपर वृद्ध को 1000 रुपये, 60 साल से ऊपर विधवा को 1000 रुपये और 75 साल से ऊपर विधवा को 1500 रुपये प्रति माह मिलेंगे।

जो भाई विकलांग है, चाहे वो किसी भी प्रकार से विकलांग है, वो बन्धु ई मित्र पर जाकर अपना विकलांग पंजीकरण करावे, ताकि उसका विकलांग प्रमाण पत्र बन सके और फिर वो भी प्रमाण पत्र बना कर पेंशन के लिए आवेदन कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें :  राजस्थान सरकार में पूर्व मंत्री गुड्डा ने दिया मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को चैलेंज

पेंशन लेने वाली विधवा महिला, नाता जाने वाली माँ के बच्चे और विकलांग महिला पुरुष के बच्चे अगर स्कूल जाते हैं तो उसके बच्चों को पालने के लिए सरकार 0 से 5 साल तक 500 रुपये और 6 से 18 साल तक के बच्चों को 1000 रुपये हर माह मिलते हैं।

किसी भी महिला या पुरुष के नाम से कहीं पर भी जमीन है, तो वो ई मित्र पर बैंक, भामाशाह और जमीन के दस्तावेज ले जाकर प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत आवेदन करवाकर हर साल किस्तो में 6000 रुपये ले सकता है।

किसी भी योग्य राशन कार्ड के धारक को 2 रुपये किलो वाले सरकारी गेंहू नहीं मिलते हैं, तो वो ई मित्र पर जाकर खाद्य सुरक्षा फॉर्म भरा सकते हैं।

जिन किसानों के जमीन है, वो सोसायटी से अल्पकालीन ऋण आवेदन भी कर सकता हैं।

मजदूर वर्ग के लोग श्रम हिताधिकारी कार्ड बनवा कर रखें, उनको उसमें हिताधिकारी कार्ड की कई प्रकार की योजनाओं जैसे शुभ शक्ति योजना, छात्रवृति योजना, प्रसूति सहायता और हिताधिकरी की असामयिक मृत्यु होने पर मृत्युदावा के अलावा बहुत से फायदे ले सकते हैं।

विधवा महिला और BPL महिला या पुरुष अपने दो बेटी की शादी के लिए सहयोग योजना के तहत आवेदन करके सरकारी फायदा ले सकते हैं।

75% से अधिक अच्छे अंक प्राप्त करने वाली बालिका गार्गी पुरुस्कार और स्कूटी योजना का फॉर्म भर सकती हैं।

बच्चों के लिए आवश्यक दस्तावेज जैसे जाति प्रमाण पत्र, मूल निवास आय प्रमाण पत्र आदि समय पर बनाते रहें, ताकि एनवक्त पर इनके लिए भागना नहीं पड़े।

अपने बच्चों के 18 वर्ष पूर्ण होते ही BLO के पास तय दस्तावेज जमा करवा कर मतदान कार्ड बनावे, ताकि वो भी अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकें।

यह भी पढ़ें :  मध्य प्रदेश में भी जल्द बनेगी बीजेपी की सरकार

गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले परिवार के नाम मुख्यमंत्री आवास योजना में जुड़वाएं, ताकि उन्हें फायदा मिल सके।

जो बुड्ढे हैं और जिनके पेंशन आती है, वो अपने पेंशन की राशि समय समय पर खाते से निकालते रहें। पेंशन धारक की मृत्यु हो जाने पर उसके खाते में जमा हुई पेंशन वापिस सरकार में जमा करवानी पड़ती है, वो पैसा कोई दूसरा नहीं उठा सकता और अगर कैसे भी करके उठाता भी है तो भविष्य में वापिस ब्याज सहित जमा करवाना होता है।

जिस किसी के पास एटीएम कार्ड है वो अपने एटीएम से नियमित अंतराल में ट्रांसेक्शन करता रहें, ताकि उसमें दुर्घटना बीमा होता है वो दुर्घटना के समय क्लेम करने के लिए जरूरी होता है।

जिनके बैंक में खाता है वो अपने खाते में प्रधानमंत्री दुर्घटना बीमा योजना का फॉर्म भर करके दे और 12 रुपये 330 रुपये ओर 500 रुपये प्रति वर्ष में एक अच्छा दुर्घटना बीमा ले सकते हैं।

जिनके बेटियां हैं और उनका जन्म 2010 या उसके बाद में हुआ है वो अपने बेटियों के लिए सुकन्या समृद्धि योजना में खाता खुलवा कर एक तय राशि हर माह जमा करवा सकते हैं। इसमे 14 वर्ष तक पैसे भर कर 21 वर्ष बाद पैसे मिलेंगे, जो लड़की के काम आते हैं।

जो म्यूच्यूअल फंड में इन्वेस्टमेंट करने के इच्छुक हैं वो SBI और अन्य बैंकों से SIP (स्माल इन्वेस्टमेंट प्लान ) ले सकते हैं, इसकी जानकारी अपनी बैंक ब्रांच में जाकर ले सकते हैं।