अशोक गहलोत सरकार के मंत्री ने फिर तरेरी आंखें, तीसरी बार अपनी ही सरकार को लिया निशाने पर

नेशनल दुनिया, जयपुर।

राजस्थान में चुरू जिले के राजगढ़ में सर्किल इंचार्ज विष्णुदत्त विश्नोई के द्वारा सुसाइड किए जाने के मामले में राज्य की अशोक गहलोत सरकार के एक कैबिनेट मंत्री ने फिर से अपनी ही सरकार को निशाने पर लिया है।

देवस्थान में पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने अशोक गहलोत सरकार की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए विष्णुदत्त विश्नोई के मामले में निष्पक्ष जांच के लिए मामला सीबीआई को सौंपे जाने की वकालत की है।

विश्वेंद्र सिंह ने ट्वीट करके यह तीसरा मौका है जब अपनी ही सरकार को निशाने पर लिया है। इससे पहले बॉलीवुड की हिट मूवी जिसमें भरतपुर के संस्थापक महाराजा सूरजमल के गलत चित्रण को लेकर भी सरकार पर खूब दबाव बनाया था।

करीब 1 साल से नागौर के सांसद हनुमान बेनीवाल और भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ सतीश पूनिया के साथ आत्मीय संवाद के कारण गहलोत सरकार के मंत्री विश्वेंद्र सिंह पर राजनीतिक तौर पर चर्चाएं बनी रहती हैं।

उल्लेखनीय है कि 23 मई को राजगढ़ सर्किल इंचार्ज विष्णुदत्त विश्नोई के द्वारा अपने सरकारी क्वार्टर में फंदा लगाकर आत्महत्या किए जाने का मामला राजस्थान की राजनीति में जोरदार उछल रहा है।

इस मामले को लेकर सतीश पूनिया और नागौर के सांसद राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक हनुमान बेनीवाल समेत भारतीय जनता पार्टी के तमाम छोटे-बड़े नेताओं ने सीबीआई जांच की मांग की है।

भाजपा नेताओं में केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी, नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल ने भी सीबीआई जांच की मांग कर रहे हैं।

ध्यान रहे विश्वेन्द्र सिंह को उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के खेमे से माना जाता है। पायलट और गहलोत में राजनीतिक प्रतिस्पर्धा जगजाहिर है।

यह भी पढ़ें :  “रोडवेज़ घाटे में 7वां वेतनमान नहीं”, ऐसा कहना सरकार की हटधर्मिता - तिवाड़ी