कर्नाटक और हिमाचल की सरकारों की तरह राजस्थान सरकार दे जनता के लिए राहत पैकेज : डॉ. सतीश पूनियां

सचिन पायलट मुख्यमंत्री से कहें कि राज्य के लोगों के लिए जारी करें राहत पैकेज: डॉ. सतीश पूनियां
भारत सरकार तो नागरिकों के लिए बहुत कुछ कर रही है, अब राज्य सरकार करे पैकेज की घोषणा: डॉ. सतीश पूनियां
मुख्यमंत्री को राज्य के लोगों की चिंता है तो तुरंत माफ करें तीन महीने के बिजली-पानी के बिल : डॉ. सतीश पूनियां

नेशनल दुनिया, जयपुर।

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मांग की है कि कोरोना संकट से उत्पन्न स्थिति के बाद वो राज्य की जनता के लिए राज्य सरकार की ओर से राहत पैकेज की घोषणा करें।


डॉ. सतीश पूनियां ने कहा कि कर्नाटक और हिमाचल की भाजपा सरकारें अपने नागरिकों के लिए राहत पैकेज की घोषणा कर चुकी हैं, अब राजस्थान की कांग्रेस सरकार भी उनकी तरह पैकेज की घोषणा करे।

कर्नाटक सरकार ने 1610 करोड़ रुपए के पैकेज का ऐलान किया है, लॉकडाउन की वजह से जिनकी आजीविका प्रभावित हुई है ऐसे नाई, धोबी, ऑटो और टैक्सी चालकों को वहां की सरकार प्रति व्यक्ति 5 हजार रुपये देगी।

उन्होंने कहा कि छोटे से राज्य हिमाचल प्रदेश की सरकार ने 500 करोड़ रुपए के राहत पैकेज का ऐलान किया है, जिसमें वो भवन निर्माण से जुड़े 1 लाख 50 हज़ार लोगों को 2 हज़ार रुपये दे रही है, साथ ही लक्षित कार्डधारकों को दो महीने का आटा और चावल सहित सारा राशन उपलब्ध करवा रही है।

डॉ. पूनियां का कहना है कि भारत सरकार से मांग करने वाले उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट अपने मुख्यमंत्री से कहें कि मोदी सरकार ने राजस्थान को बहुत कुछ दिया है, अब आप राज्य के लोगों के लिए पैकेज की घोषण करें।

यह भी पढ़ें :  विश्वविद्यालय ने घटाया 25-30 प्रतिशत शुल्क

उन्होंने कहा कि राजस्थान सरकार का सारा राहत अभियान ही भारत सरकार के दिए पैसे से चला है।

मोदी सरकार तो तीन महीने से राज्य के 1 करोड़ 52 लाख खातों में प्रतिमाह 500 रुपए डाल रही है, राज्य के 61 लाख परिवारों को तीन महीने से मुक्त गैस सलेंडर दे रही है, 50 लाख ज़्यादा किसानों के खाते में 2 हज़ार रुपए डाले हैं।

श्रमिकों को परिवार सहित 2 महीने का मुक्त राशन दे रही है । ठेले, रेहडी, फुटपाथ पर दुकान चलाने वाले छोटे कामगारों को 10 हज़ार रुपए का लोन अपनी गारंटी पर दे रही है।

नरेगा की मज़दूरी प्रतिदिन 182 रुपए से बढ़ा कर 202 रुपए की, नरेगा के पूर्व घोषित 61 हज़ार करोड़ रुपए के बजट को बढ़ाकर 1 लाख करोड़ से ज़्यादा किया है ।

नरेगा में काम करने वाले मज़दूर को भारत सरकार ने पूरे देश में कहीं भी रजिस्टर्ड होने की छूट दी है।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. पूनियां ने कहा कि भारत सरकार तो अपने नागरिकों के लिए बहुत कुछ कर रही है, अब बारी राज्य सरकार की है, उसे तुरंत तीन महीने के पानी-बिजली के बिल माफ़ करने की घोषणा करनी चाहिए, साथ ही समाज के हर वर्ग के लिए एक बड़े राहत पैकेज की घोषणा करनी चाहिए।