सीबीआई जांच के बहाने रालोपा ने दिखाई अपनी पुरानी ताकत

-राजगढ़ सीआई की आत्महत्या प्रकरण को लेकर आरएलपी पार्टी ने प्रदेशव्यापी ज्ञापन देकर सीबीआई जांच की मांग की।
-पार्टी संयोजक व नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल के आह्वान पर सभी जिला मुख्यालयों सहित दर्जनों उपखण्ड मुख्यालयों पर दिया ज्ञापन
National dunia, Jaipur.

नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल के नेतृत्व वाली राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के द्वारा राजस्थान में बुधवार को एकबार फिर से अपनी ताकत का अहसास करवाया।

पार्टी के पदाधिकारियों तथा कार्यकर्ताओं ने बुधवार को राजगढ़ में कार्यरत रहे पुलिस अधिकारी विष्णुदत्त विश्नोई द्वारा आत्महत्या कर लेने के प्रकरण की जांच सीबीआई से करवाने की मांग को लेकर प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों तथा दर्जनों उपखंड मुख्यालयों पर ज्ञापन दिए।

पार्टी संयोजक तथा नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल के आह्वान पर जिला मुख्यालयों पर दिए गए ज्ञापन और उसके साथ किए गए सांकेतिक प्रदर्शन में पार्टी ने उक्त प्रकरण की जांच सीबीआई से करवाने की मांग को लेकर मुख्यमंत्री को संबोधित करते हुए संबंधित जिला प्रशासन के माध्यम से ज्ञापन प्रेषित किया।

ज्ञापन में पार्टी ने थाना अधिकारी पर मानसिक तनाव के कारणों का हवाला देते हुए निष्पक्ष जांच की मांग के लिए सीबीआई से तफ्तीश करवाने को लेकर शीघ्रता से आदेश करने की मांग की।

सांसद हनुमान बेनीवाल ने पार्टी द्वारा दिए गए ज्ञापन कार्यक्रमों पर प्रेस वक्तव्य जारी करके कहा कि जिन परिस्थितियों में विष्णु दत्त ने आत्महत्या की, उसपर बहुत बड़ा सवाल राजस्थान की जनता के मन में है।

क्योंकि जिला पुलिस अधीक्षक को संबोधित करते हुए उन्होंने मानसिक दबाव का हवाला दिया। साथ ही रोजनामचे की रपट में भी उन्होंने समय-समय पर उन पर व्याप्त मानसिक दबाव का हवाला दिया।

यह भी पढ़ें :  बेनीवाल बोले: "नागौर का मान तो बढ़ गया, जब विश्व की सबसे बड़ी पार्टी के घटक दल का उम्मीदवार बन गया"

ऐसे में जिन परिस्थितियों के रहते हुए उन्होंने जिम्मेदार और कृतव्यनिष्ठ अफसर ने आत्महत्या जैसा कदम उठाया, उसकी निष्पक्ष जांच अत्यंत आवश्यक है।

साथ ही बेनीवाल ने कहा कि राज्य सरकार की कोई भी एजेंसी इस मामले में निष्पक्ष जांच नहीं कर पाएगी। इसलिए मुख्यमंत्री को नैतिकता के नाते इस प्रकरण की जांच सीबीआई को प्रेषित कर देनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि मंगलवार को पार्टी ने डेढ़ लाख से अधिक ट्वीट करके मुख्यमंत्री का ध्यान आकर्षित करवाया। उसके बावजूद मुख्यमंत्री का बयान तक नहीं आना लोकतांत्रिक व्यवस्था का अपमान है।

साथ ही कहा कि इस मामले में सरकार ने शीघ्रता से कोई निर्णय नहीं लिया तो राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी बड़े आंदोलन की रणनीति बनायेगी।

सांसद ने कहा कि मामले में 3 दिन से भी अधिक का समय व्यतीत हो जाने के बावजूद किसी भी स्तर पर कोई खुलासा नहीं होना तथा चूरू के जिला पुलिस अधीक्षक को अभी तक नहीं हटाना मामले में कई तरह की पेंचीदगीया खड़ी कर सकता है।

ऐसे में सरकार को चूरू पुलिस अधीक्षक को या तो छुटी पर भेज देना चाहिए या फिर कोई नया एसपी चूरू जिले में लगा देना चाहिए।


पार्टी द्वारा दिए गए ज्ञापन में अजमेर संभाग मुख्यालय पर पार्टी के पदाधिकारी तथा मेड़ता विधायक इंदिरा देवी बावरी मौजूद रहीं।

जोधपुर संभाग मुख्यालय पर पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष तथा भोपालगढ़ विधायक पुखराज गर्ग मौजूद रहे। नागौर जिला मुख्यालय पर पार्टी से खिंवसर विधायक नारायण बेनीवाल मौजूद रहे।

साथ ही विभिन्न जिला मुख्यालयों पर पार्टी के पदाधिकारियों ने ज्ञापन के कार्यक्रम की कमान संभाली। पार्टी के द्वारा दिए गए ज्ञापनों में सोशल डिस्टेंस की भी प्रभावी पालना की गई।

यह भी पढ़ें :  केंद्र सरकार ने राजस्थान को नरेगा के लिए 2870 करोड़ दे दिए: डॉ पूनिया