कोरोना से निपटने को जमीनी स्तर पर जागरूकता जरूरीः हरीश चौधरी

गर्मी के मौसम को देखते हुए जलाशय के विशेष इंतजाम करने के निर्देश दिए गए हैं।

बाड़मेर, 26 मई। राजस्व मंत्री हरीश चौधरी ने मंगलवार को बायतु विधानसभा के बुठसरा, नोसर और सिनाधरी पंचायत समिति के सनापा में जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों से मुलाकात के दौरान वैश्विक महामारी कोरोना से आमजन का बचाव करने के लिए जमीनी स्तर पर सामूहिक जिम्मेदारी निभाते हुए जनता को जागरूक करने का आहवान किया। किया। राजस्व मंत्री चौधरी ने कहा कि कोरोना की अभी तक कोई दवा नहीं है। ऐसे में बचाव ही उपचार है।
इस दौरान राजस्व मंत्री हरीश चौधरी ने विभागीय अधिकारियों को भीषण गर्मी में ग्रामीण क्षेत्रों में निर्बध विद्युत और पेयजल आपूर्ति बनाये रखने के निर्देश दिए। उन्होंने पेयजल आपूर्ति की समीक्षा करते हुए कहा कि बायतु विधानसभा क्षेत्र के नोसर, बोड़वा, भोजासर, सेवनियाला सहित अन्य गांवों में पेयजल सुविधा उपलब्ध करवाना सुनिश्चित करें। उन्होंने जलदाय विभाग की पेयजल योजनाओं की समीक्षा करते हुए आमजन को पीने का पानी समय पर उपलब्ध हो, इसके लिए आगे आकर काम करने का निर्देश दिया।
इस दौरान राजस्व मंत्री चौधरी ने बायतु के नोसर ग्राम पंचायत मुख्यालय पर आयोजित बैठक में विद्युत, जल, जन निर्माण विभाग और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक की। उन्नावे सिनाधरी पंचायत समिति के सनापा ग्राम पंचायत मुख्यालय पर अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों के साथ बैठक कर पानी-बिजली और नहरी पानी की आपूर्ति की समीक्षा की और उन्हें आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। इस दौरान बायतु उपखंड अधिकारी विवेक व्यास, सिंहधरी उपखंड अधिकारी कंचन राठौड़, तहसीलदार ममता लहुआ सहित विभिन्न विभागीय अधिकारी एवं जन प्रतिनिधि उपस्थित रहे।

जलाशय बाधित नहीं हो, टैंकरों से जलापूर्ति करें: राजस्व मंत्री हरीश चौधरी ने ग्रामीण क्षेत्रों में गर्मी के मौसम के दौरान जलाशयों के लिए विशेष व्यवस्थाजाम करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि किसी भी स्थिति में जलाशय बाधित नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा कि जिन गांवो में पेयजल की समस्या है, वहां टैंकरों के माध्यम से पेयजल आपूर्ति की व्यवस्था की जानी चाहिए।

कोरोनावायरस संक्रमण के प्रति आमजन को करें सावधान: राजस्व मंत्री चौधरी ने जनप्रतिनिधियों से कहा कि सभी अपने-अपने तरीके से इस बीमारी से बचने के उपाय बता रहे हैं। पंचायतीराज जन प्रतिनिधित्व लोगों को जागरूक करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। उन्होंने कहा कि गांवों में बाहर से आने वाले लोगों ने नजर रखी और इसकी सूचना स्थानीय प्रशासन को दी जाए। कोरोनावायरस संक्रमण के संबंध में जारी एडवाइजरी की हम सभी को पालना चाहिए। गाँवों में मनरेगा के तहत चालू कार्यों पर श्रमिक लगे हुए हैं, उनकी भी सामाजिक दूरी बनाये रखने के लिए सुनिश्चितता की जाए।
खाद्य सुरक्षा योजना के माध्यम से आमजन को राहत प्रदान करें:राजस्व मंत्री चौधरी ने अधिकारियों से कहा कि कोविड -19 के कारण उत्पन्न स्थितियों को ध्यान में रखते हुए गेहूं का आवंटन कर खाद्य सुरक्षा योजना से वंचित गरीबों को राहत प्रदान की जाए। उन्होंने उत्तर प्रदेश में प्रवासी मजदूरों और लॉकडाउन के कारण प्रभावित हुए विशेष श्रेणी के परिवारों के चिन्हीकरण के कार्य में तेजी लाकर राहत पहुंचाने के निर्देश दिए।

यह भी पढ़ें :  झोटवाड़ा के चहुंमुखी विकास के लिए करूंगा काम : कटारिया