भीलप्रदेश: राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश से अलग राज्य बनाने की मांग ने किया ट्विटर ट्रेंड

नेशनल दुनिया, जयपुर।

राजस्थान, गुजरात, मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र के कई जिले जिनमें करीब 1 करोड लोगों की जनसंख्या आती है, इनको मिलाकर भीलप्रदेश के नाम से अलग राज्य बनाने की मांग जोर पकड़ती जा रही है।

डूंगरपुर से चुनाव लड़ चुके भारतीय ट्राइबल पार्टी के नेता कांतिलाल रोत (कांतिभाई आदिवासी रोत) के आव्हान पर इन राज्यों के जिलों में रहने वाले आदिवासी समाज के लोगों ने ट्विटर पर अलग से भीलप्रदेश बनाने की मांग की है।

img 20200525 wa00214909071458013056790

इसको लेकर बीटीपी के विधायक राजकुमार रोत ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह से अलग प्रदेश देने की मांग की है। ट्विटर पर लोगों ने कहा है कि उनकी जल, जंगल ज़मीन दूसरे लोग हड़प रहे हैं और वो लोग अपनी ही ज़मीन पर महरूम हैं।

img 20200525 wa0017315669039652408945

उनकी इस मांग में शामिल हैं भारतीय ट्राईबल पार्टी के तकरीबन सभी विधायक और दूसरे नेता। इनका कहना है कि जब गोवा, उत्तराखंड, नागालैंड और मिजोरम के अलावा सिक्किम जैसे छोटे राज्य बना सकते हैं, तो फिर भीलप्रदेश क्यों नहीं बना सकते हैं?

मजेदार बात यह है कि अलग प्रदेश की मांग करने वाले इन लोगों ने खुद को भारत का नागरिक नहीं भारत का मूल निवासी बताया है। राजस्थान, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और गुजरात के कई जिलों कोई इसमें शामिल करने की मांग की है।

img 20200525 wa00183824271258842554135

टि्वटर ट्रेंड में सातवें नंबर पर #WeWantSepreteBHILPRADESH के नाम से हैशटैग चलाया जा रहा है। गौरतलब है कि पूर्व में इन क्षेत्र को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने नक्सलवाद के बढ़ने की बात कही थी।

यह भी उल्लेखनीय है कि पश्चिमी राजस्थान में भी चूरू, नागौर, बीकानेर, बाड़मेर, जैसलमेर जैसे जिलों को मिलाकर मरुप्रदेश बनाने की भी मांग की जाती रही है।

यह भी पढ़ें :  पंडितजी बोले: "72 की उम्र में भी लोकतंत्र रक्षा के लिये लड रहा हूं"