Video: अशोक गहलोत के बंगले पर उड़ती टिड्डियां और गहरी नींद में सोई राजस्थान सरकार

नेशनल दुनिया, जयपुर।

पाकिस्तान से आने वाली टिड्डियां राजस्थान की मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के जयपुर में सिविल लाइन स्थित सरकारी बंगले पर भी उड़ रही हैं।

लगातार कई दिन से जैसलमेर, जोधपुर, बाड़मेर, नागौर, सीकर होते हुए जयपुर में भी सभी जगह पर टिड्डी अपने पांव पसार चुकी है। आज राजस्थान की राजधानी जयपुर में शहर के भीतर भी टिड्डी दल देखे गए।

शास्त्री नगर इलाके से गतिविधियों के कई दल शहर के बीच में बीच से होते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के सिविल लाइन स्थित सरकारी बंगले के ऊपर से भी निकले।

सरकार के तमाम आला अधिकारियों ने भी टिड्डी के इस खतरे को देखा, लेकिन लगता है बर्बाद होते किसानों को देखकर भी राज्य सरकार अभी तक भी गहरी नींद में सोई हुई है।

पश्चिमी राजस्थान के बाद अब जयपुर के आसपास के किसान भी टिड्डी दल के आक्रमण से अपनी फसलें बर्बाद होती हुई देख रहे हैं। किसानों के पास कोई साधन नहीं हैं। वे सरकार के भरोसे पर हैं।

केंद्र सरकार की तरफ से केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी ने कहा है कि राज्य सरकार को केंद्र हर संभव सहायता मुहैया करवाने को तैयार है, लेकिन राज्य सरकार किसानों के लिए कुछ भी नहीं कर रही है।

दूसरी तरफ मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने हमेशा की भांति एक बार फिर प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर टिट्टी दल से निपटने के लिए संसाधन मुहैया करवाने की बात कही है।

टिड्डी राजधानी जयपुर में शास्त्री नगर, वैशाली नगर, परकोटे के भीतर, सिविल लाइन, c-scheme, बजाज नगर, तिलक नगर, मानसरोवर, सांगानेर, प्रताप नगर सभी जगह पर देखी गई है। बड़े पैमाने पर 35 साल बाद टिड्डी को इस तरह से जयपुर में देखा गया है.

यह भी पढ़ें :  Ashok gehlot सरकार चलाने में विफल हैं, वो अपनी नाकामी छिपाना चाहते हैं

कृषि मंत्री लालचंद कटारिया ने टिड्डी पर नियंत्रण के लिए चल रहे कामों का मौके पर पहुंच कर जायजा लिया

सोमवार को अलसुबह सरना चौड़ सांचौती समेत कई गांव में किसानों के बीच में पहुंचकर उनके खेतों में टिड्डी से हुए नुकसान और उन पर नियंत्रण के लिए चल रहे उपायों का जायजा लिया।

किसानों की बातों को सुना, साथ ही मौके पर ही टिड्डी नियंत्रण में जुटे हुए कृषि विभाग के अधिकारी और प्रशासनिक अधिकारियों को किसानों की सलाह पर और उनकी मदद लेकर टिड्डी नियंत्रण को प्रभावी करने की बात कही।

इसके साथ ही कहा कि राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूरी सरकार किसानों के साथ है। टिड्डी नियंत्रण का कार्यक्रम केंद्र सरकार और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर किया जाता है।

केंद्र सरकार से भी बात की जा रही है, हम चाहते हैं कि हमारे अन्नदाताओं को कोई नुकसान नहीं हो।

इस मौके पर गांव वालों से कोरोना काल के दौरान कोई परेशानी नहीं हो, मंडियों में किसानों की उपज सही पहुंच रही है।

कटारिया ने कहा कि किसानों ने सरकार की ओर से उठाए जा रहे प्रयासों की सराहना की साथ ही कहा कि खरीफ की फसल के लिए खाद और बीज मिल रहे हैं।

इन्हें ग्राम सेवा सहकारी समिति के जरिए अगर भिजवाया जाए तो खाद बीज लेने के लिए हमें शहरों में नहीं जाना पड़ेगा।

इसपर मंत्री ने कहा कि रबी की तर्ज पर ही जल्द ही आप लोगों को जैसे चने, गेहूं, जौ और सरसों का बीज मिला था, वैसे ही खरीफ में मक्का, बाजरा, मूंगफली, तिल का बीज मिले इसके उपाय किए जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें :  आमेर विधानसभा क्षेत्र के विभिन्न राजकीय विद्यालयों में कक्षा कक्षों एवं शौचालयों का निर्माण कराने की मांग