एमएसएमई सेक्टर के लिए सरकार ने खोला ख़ज़ाना- डॉ.पूनियाँ

-वित्त मंत्री की सारी घोषणाएँ बाज़ार में पैसे की तरलता लाने पर केंद्रित -डा.पूनियाँ
-200 करोड़ तक के सरकारी टेंडर ग्लोबल नहीं होंगे , इससे भारतीय कंपनियों को होगा ज़बरदस्त फ़ायदा-डा.पूनियाँ

जयपुर, 13 मई।

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डा.सतीश पूनियाँ ने केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा की गई वित्तीय घोषणाओं का स्वागत करते हुए कहा है की इन घोषणाओं से आत्मनिर्भर भारत बनने का मार्ग प्रशस्त होगा ।


डा.पूनियाँ ने कहा की वित्तमंत्री की सारी घोषणायें बाज़ार में पैसे की लिक्विडिटी बढ़ाने पर केंद्रित है , बाज़ार में लिक्विडिटी बढ़ने से अर्थव्यवस्था में नई जान आएगी ।

एमएसएमई सेक्टर के लिए की गई क्रांतिकारी घोषणाएँ इस सेक्टर की दिशा बदल देंगी । एमएसएमई अब 29 फ़रवरी तक कुल बकाया लोन का 20 प्रतिशत तक आपातकालीन लोन बिना कोलैटरल के ले सकेंगे , इस सुविधा का लाभ 31 अक्तूबर तक लिया जा सकेगा ।

एक साल तक इसकी क़िस्तें भी नहीं देनी पड़ेगी । सरकार ने इसके लिए अलग से फ़ंड की व्यवस्था की है । सरकार उनके क़र्ज़ की गारंटी देगी । 45 लाख एमएसएमई इकाइयों को इसका लाभ मिलेगा ।

एनपीए हो चुकी एमएसएमई भी अब नया लोन ले सकेगी ,जिसकी गारंटी भी सरकार देगी ,मुश्किल में फँसी इन कम्पनियों को उबारने के लिए भी सरकार ने 20 हज़ार करोड़ रुपए के पैकेज का एलान किया है । इससे एनपीए हो चुकी 2 लाख कंपनियों को फ़ायदा होगा ।

सरकार द्वारा एमएसएमई की नई परिभाषा तय की गई है , पहले 10 करोड़ तक की कम्पनी इसके दायरे में आती थी अब 20 करोड़ तक की कंपनियाँ आएगी , इससे बड़े टर्नआवर की कम्पनियों को भी फ़ायदा होगा ।

यह भी पढ़ें :  प्रदेश की बहन-बेटियों को सुरक्षा देने में मुख्यमंत्री एवं गृहमंत्री अशोक गहलोत पूरी तरह विफल


डा.पूनियाँ ने कहा की मध्यम , लघु एवं सूक्ष्म इकाइयों के लिए जारी इस ऐतिहासिक आर्थिक पैकेज से रोज़गार के नए अवसर पैदा होंगे । बाज़ार में पैसा आएगा ।

200 करोड़ तक के सरकारी टेंडर में अब केवल भारतीय कम्पनियाँ ही भाग ले सकेंगी , इससे स्वदेशी कंपनियों को लाभ होगा ।

सरकार ने घोषणा की है की किसी भी कम्पनी का सरकारी कम्पनी में किए हुए काम का पैसा 45 दिन में रिलीज़ कर दिया जाएगा , इससे निजी कंपनियों के पास पैसा आएगा और वो अपने व्यापार और कर्मचारियों पर उसे खर्च कर पाएँगी ।

सरकार द्वारा बिजली कम्पनियों को 90 हज़ार करोड़ और निजी फ़ाइनेंस कम्पनियों को 3 हज़ार करोड़ की वित्तीय मदद देने की घोषणा सराहनीय है ।

इंकमटेक्स की रिटर्न फ़ाइल करने की डेट 30 नवम्बर तक बढ़ा कर सरकार ने राहत दी है । साथ ही इंकमटेक्स और टीडीएस का रिटर्न तुरंत जारी करने की घोषणा से खातों में पैसा आएगा ।