प्रशासनिक कार्यों और सामाजिक सरोकार की अनूठी मिसाल बने चाकसू एसडीएम व उनकी धर्मपत्नी विकास सहारण

जरूरतमंदों तक पहुंचा रहे मदद।


मदन कोथुनियां
कोविड-19 की वैश्विक महामारी से उपजे संकट के इस दौर में हर सक्षम व्यक्ति तन-मन-धन से जरूरतमंद का मददगार बनकर अपना राष्ट्रधर्म निभा रहा है। ऐसा ही उदाहरण बनकर समाज को दिशा देने का काम कर रहे हैं राजधानी जयपुर में एक एसडीएम और उनकी धर्मपत्नी।

जयपुर जिले की चाकसू तहसील के उपखंड अधिकारी ओमप्रकाश सहारण जहां अपने प्रशासनिक दायित्वों को निभा रहे हैं, वहीं उनकी धर्मपत्नी विकास सहारण लॉकडाउन के इस दौर में रोजाना 100 जरूरतमंद दिहाड़ी मजदूरों को खाना खिलाकर अपने सामाजिक सरोकार को निभा रही हैं।           

उच्च शिक्षा प्राप्त विकास सहारण अलसुबह उठती हैं। खुद सब्जी काटती हैं, आटा गूथती हैं, चावल पकाती हैं और फिर तैयार खाने को पैकेट में डालने तक का काम भी वो खुद ही करती हैं।            

इस काम में उनकी दो बेटियां नव्या और पूर्वा भी हाथ बंटाती हैं। पूरा सहारण परिवार सुबह के चार घंटे खाना बनाने में लगाता है।

सुबह के आठ बजते-बजते उपखंड अधिकारी सहारण जरुरतमंद 100 लोगों का खाना लेकर रवाना होते हैं।           

सामाजिक सरोकार से निवृत्त होने के उपरांत एसडीएम ओमप्रकाश सहारण अपने प्रशासनिक दायित्वों का निर्वाह भी मुस्तैदी के साथ कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें :  गर्भवती महिला से 5 लोगों ने किया दुष्कर्म, पेट में ही नष्ट हो गया भूर्ण