बेनीवाल ने सामूहिक दुष्कर्म मामले में कार्रवाई नहीं करने और पायलट की खामोशी पर लगाया प्रश्नचिन्ह

Jaipur/ Tonk

राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक व नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल ने टोंक जिले में हुए सामूहिक दुष्कर्म की घटना पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि इस तरह की जघन्य घटनाओं का समाज में कोई स्थान नहीं है।

उन्होंने कहा कि ऐसे आपराधिक तत्वों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही होनी चाहिए और मामले को फ़ास्ट ट्रेक में सुनवाई करते हुए पीड़िता को आर्थिक पैकेजे सरकार की तरफ से देना चाहिए।

सांसद ने मामले में एक के बाद एक तीन ट्वीट करते हुए टोंक से स्थानीय विधायक और राज्य के उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट पर भी सवालिया निशान खड़े किए।

बेनीवाल ने ट्वीट में लिखते हुए कहा कि टोंक जिले में एक पुलिसकर्मी की हत्या और एक सरपंच की हत्या के मामले में आज तक खुलासा नहीं हुआ। विगत दिनों कोरोना योद्धाओं पर हमला हुआ और टोंक जिले में लगातार जघन्य अपराधों में बढ़ोतरी हो रही है।

ऐसे में क्षेत्रीय विधायक होने के साथ-साथ राज्य के उपमुख्यमंत्री और सत्तारूढ़ पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष का दायित्व होने के बावजूद सचिन पायलट का मामले में अपराधियों के खिलाफ कठोर कार्यवाही करवाना तो दूर अजीब सी चुप्पी साधे रखना उनके नैतिक दायित्व के प्रति सवालिया निशान खड़ा करता है।

उल्लेखनीय है कि मंगलवार को सोच के लिए जाती हुई एक नाबालिग लड़की को कार सवार चार जनों ने जबरन गाड़ी में डालकर उसके साथ बारी-बारी से गैंगरेप किया था।

इतना ही नहीं, बल्कि उसके साथ मारपीट की गई और इसके कारण लड़की लहूलुहान हो गई। अपराधी लड़की को दूसरे दिन सुनसान जगह पटक गए थे। उसने अपने परिजनों को सारी बात बताई, तब एफआईआर दर्ज करवाई गई थी।

यह भी पढ़ें :  बुलबुल पाठक का राष्ट्रीय अवार्ड के लिए चयन, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद देंगे राष्ट्रीय पुरस्कार

मामला विवादित होने पर उच्च अधिकारी हरकत में आये और सांसद हनुमान बेनीवाल के ट्वीट के बाद डिग्गी और पचेवर थानों की संयुक्त टीम ने एक नाबालिग समेत 4 अपराधियों को दबोचा है।

जिनको पकड़ा गया है, उनमें नाबालिग के अलावा निसार खान पुत्र बाबू खान, सलमान खान पुत्र हुसैन खान और जाकिर खान पुत्र मिश्री खान शामिल हैं।