डीसीपी और महिला पुलिकर्मियों ने सड़क के बीच कराई डिलीवरी, जच्चा-बच्चा स्वस्थ हैं

नेशनल दुनिया, बाड़मेर।

कोविड-19 की वैश्विक महामारी के बीच सुरक्षा व्यवस्था संभाल रही पुलिस जहां कई बार लोगों के गुस्से का सामना करने के कारण परेशान रहती है, वहीं जोधपुर में सोमवार को पुलिस का ममतामयी चेहरा भी सामने आया।

बाड़मेर में डीसीपी प्रीति चंद्रा और उनकी सहयोगी पुलिस कांस्टेबल्स ने मिलकर प्रसव के लिए अस्पताल जाती महिला, जो गाड़ी खराब होने के कारण दर्द स्व तड़प रही थी, की बीच चौराहे पर डिलीवरी करवा कर पुलिस का एक नया रूप दिखाने में कामयाबी हासिल की।

मामला बाड़मेर के आखलिया चौराहे का है। यहां पर नैनू कंवर नामक एक महिला को उसका भाई डिलीवरी करवाने के लिए अस्पताल ले जा रहा था, लेकिन आखलिया चौराहे पर उसकी गाड़ी खराब हो गई।

इस बात की जानकारी पास में ही खड़ी डीसीपी प्रीति चंद्रा को चली तो उन्होंने अपनी गाड़ी से महिला को अस्पताल पहुंचाने के लिए प्रयास किया, लेकिन महिला की ऐसी स्थिति नहीं थी कि उसको दूसरी गाड़ी में शिफ्ट किया जा सके। इसलिए उन्होंने अपनी साथी कॉन्स्टेबल सुगना व शुशीला की सहायता से डिलीवरी करवा दी।

इस दौरान पुलिस के अन्य कॉन्स्टेबल और अधिकारियों ने टेंट लगाकर उसकी सुरक्षा की। बच्चे की नाल काटने के लिए देव नगर थाना अधिकारी सोमकरण पास ही स्थित एक निजी चिकित्सालय से डॉक्टर को 4 मिनट में ले आये और उसके बाद जच्चा-बच्चा को अस्पताल में भर्ती करवाया, जहां पर दोनों स्वस्थ हैं।

यह भी पढ़ें :  100 साल तक पश्चिमी राजस्थान में नहीं होगी पानी की किल्लत, 482 बिलियन क्यूबिक मीटर का जल भंडार बनाया जाएगा