राजस्थान में 836 मरीज पाॅजीटिव से नेगेटिव, तेजी से बढ़ते मरीजों में नेगेटिव होते मरीजों की संख्या राहतभरी

-हॉटस्पॉट क्षेत्रों पर है विभाग का विशेष फोकस

नेशनल दुनिया, जयपुर।

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डाॅ. रघु शर्मा ने बताया कि प्रदेश में गुरुवार 2 बजे तक 2556 कोरोना संक्रमित चिन्हित किए गए हैं।

इनमें से 836 मरीज पाॅजीटिव से नेगेटिव भी हो चुके हैं, जिनमें से 600 लोगों को डिस्चार्ज भी कर दिया गया है।

डॉ शर्मा ने बताया कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण का खतरा दिन ब दिन कम होता जा रहा है।

केवल 7 जिले ही ऐसे हैं, जहां संक्रमितों की संख्या लगभग 100 या अधिक है। इन जिलों पर विभाग पूरी तरह फोकस कर काम कर रहा है।

डाॅ. शर्मा ने बताया कि प्रदेश के 3 जिलों प्रतापगढ़, बीकानेर व चुरू में संक्रमण की संख्या शून्य जो चुकी है, जबकि 4 जिले कोरोना संक्रमण से अब तक मुक्त हैं।

इस तरह प्रदेश के 7 जिलों के कोरोना से संक्रमित एक भी मरीज नहीं है। उन्होंने बताया कि प्रदेश के 19 जिलों में कोरोना पॉजिटिव मामले हैं, वे भी उपचार के बाद तेजी से स्वस्थ हो रहे हैं।

चिकित्सा मंत्री ने बताया कि 1 हजार से ज्यादा कोरोना डेडिकेटेड अस्पतालों के वार्डों में व करीब 4800 से ज्यादा मरीज सामान्य अस्पतालों में भर्ती हैं। आईसीयू के केवल 9 लोग हैं व उनमें से केवल 2 लोग वेंटिलेटर पर हैं।

उन्होंने कहा कि राज्य में जांच की क्षमता में लगातार इजाफा किया जा रहा है। वर्तमान में 8800 जांच प्रतिदिन करने की क्षमता विभाग ने विकसित कर ली है।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में अभी तक 1 लाख से ज्यादा सैंपल लेकर राजस्थान देश के सर्वाधिक सैंपल लेने वाले राज्यों में शुमार हो गया है।

यह भी पढ़ें :  अशोक गहलोत सरकार के मंत्री ने फिर तरेरी आंखें, तीसरी बार अपनी ही सरकार को लिया निशाने पर

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि विभाग ने जांच की क्षमता में तो इजाफा कर लिया लेकिन आएनए एक्सट्रेक्शन किट और पीसीआर किट बराबर संख्या में मिलती रही तो सैंपल्स की पेडेंसी नहीं रहेगी और इससे कोरोना संक्रमितों की वास्तविक सख्ंया का पता चल सकेगा।

उन्होंने कहा कि जितनी ज्यादा जांचें होंगी उतनी ही जल्दी हम इस महामारी से छुटकारा पा सकेंगे।