प्रवासियों के लिए गृह मंत्रालय ने जारी की गाइडलाइन, नरेन्द्र मोदी एवं अमित शाह का अभिनंदन: डॉ. सतीश पूनियां

-अभिनेता इरफान खान का निधन प्रदेश, देश व फिल्म जगत के लिए बड़ी क्षति है: डॉ. सतीश पूनियां
राजस्थान में भाजपा के सेवा कार्यों को लेकर वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से की समीक्षा
डॉ. सतीश पूनियां ने द राजस्थान एसोसिएशन यूके के सेवा कार्यों की प्रशंसा की

जयपुर, 29 अप्रैल।

अपने गंतव्य तक आने जाने के लिए प्रवासियों के लिए गृह मंत्रालाय द्वारा गाइडलाइन जारी की गई है, जिसको लेकर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने ट्वीट कर बताया कि, अब लॉकडाउन में रुके प्रवासी श्रमिक, तीर्थयात्री, पर्यटक, विद्यार्थी और अन्य व्यक्ति केन्द्रीय गृह मंत्रालय द्वारा जारी आदेश और निर्देशों का पालन करते हुए अपने अपने गंतव्य की ओर आ जा सकेंगे, प्रवासियों के हित में बड़ा फैसला लेने पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह का बहुत-बहुत अभिनंदन।


राजस्थान की माटी के लाल, मशहूर अभिनेता इरफान खान के निधन पर डॉ. सतीश पूनियां ने गहरा शोक व्यक्त किया है।

डॉ. सतीश पूनियां ने कहा कि जिंदगी में किरदार ऐसा निभाओ कि पर्दा गिरने के बाद भी तालियां बजती रहें, अभिनेता इरफान खान का किरदार भी कुछ ऐसा ही था, एक सामान्य परिवार में जन्मे इरफान ने अपनी मेहनत से बहुत कम समय में अच्छा मुकाम बनाया, बॉलीवुड से लेकर ऑस्कर तक और हॉलीवुड तक का उनका शानदार सफर रहा।

पूनियां ने कहा कि स्लमडॉग मिलिनेयर, पान सिंह तोमर, लाइफ इन मेट्रो ये ऐसी उनके चित्रण वाली फिल्में थी, जिनके कारण उन्होंने विशेष छाप छोड़ी, उनके अभिनय में विशेष अंदाज, खनकती आवाज खास बातें थी।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि इरफान का निधन प्रदेश, देश व फिल्म जगत के लिए बड़ी क्षति है, प्रदेश भारतीय जनता पार्टी परिवार की तरफ से हार्दिक श्रद्धांजलि देता हूं, उनका अभिनय देश हमेशा याद रखेगा।

यह भी पढ़ें :  राजस्थान में कोरोना: 75 मौत, 3009 पॉजिटिव, जयपुर के बाद जोधपुर की हालात खराब


लंदन एवं यूरोप में राजस्थान के लोगों द्वारा किए जा रहे सेवा कार्यों को लेकर डॉ. पूनियां ने कहा कि, वैश्विक महामारी के संकट में भारत की परंपरा को लोग जानते ही हैं कि किस तरह लोग संकट में एक-दूसरे की मदद कर रहे हैं।

राजस्थान की परंपरा में भी यह शामिल है कि आतिथ्य सत्कार से लेकर मुश्किल घड़ी में जरूरतमंद की मदद करना, साथ ही सात समंदर पार भारत एवं राजस्थान की इसी सेवा भावना को जीवंत रखने का काम द राजस्थान एसोसिएशन यूके ने किया है।

हरेन्द्र सिंह जोधा, कुलदीप सिंह शेखावत सहित तमाम मित्र मंडली के वो लोग, जिनसे कुछ महीनों पहले मैं रू-ब-रू हुआ, ये सभी लोग अपने देश-प्रदेश से दूर रहकर भी लोगों के हमदर्द बनकर खड़े रहते हैं।

पिछले दिनों महामारी के दौरान इन्हीं मित्रों से वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से मेरा संवाद हुआ तो इनसे मैंने गुजारिश की थी प्रवासी राजस्थानी व भारतीय को किसी भी प्रकार की मदद की जरूरत हो तो जरूर मदद करें।

मैं द राजस्थान एसोसिएशन यूके की इस उद्दात भावना का अभिनंदन करता हूं, उनके सफल एवं यशस्वी होने की कामना करता हूं, वैश्विक महामारी में सेवा कार्य कर रहे इन सभी साथियों का यह प्रशंसनीय कार्य सदैव याद रखा जाएगा, सभी का अभिनंदन करता हूं।


पूनियां ने कहा कि, द राजस्थान एसोसिएशन यूके ने सात समंदर पार भी राजस्थान के सेवा के संस्कारों को जीवंत रखा है। वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण के समय प्रतिबद्धता से सेवारत आपकी संस्था और सहयोगियों का ह्रदय से कृतज्ञ आभार।


वैश्विक महामारी कोरोना के खिलाफ राजस्थान में भाजपा द्वारा किए जा रहे सहयोग कार्य और व्यवस्थाओं को लेकर बुधवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से समीक्षा बैठक हुई, जिसमें केंद्रीय मंत्री श्री रमेश पोखरियाल निशंक, प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनियां, प्रदेश प्रभारी अविनाश खन्ना, संगठन महामंत्री चंद्रशेखर की ऑनलाइन उपस्थिति में गजेंद्र सिंह शेखावत, अर्जुन राम मेघवाल, कैलाश चौधरी एवं राजेन्द्र राठौड़ ने भी भाग लिया।

यह भी पढ़ें :  दिल्ली में महिलाओं को मेट्रो और डीटीसी में यात्रा फ्री


भाजयुमो द्वारा वरिष्ठ नागरिक, दिव्यांग सेवा, फ़ेसकवर निर्माण एवं वितरण, आभार अभियानों को लेकर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से समीक्षा बैठक में भाजपा राजस्थान के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनियां, प्रदेश संगठन महामंत्री चंद्रशेखर एंव भाजयुमो अध्यक्ष अशोक सैनी ने संबोधित किया।


वहीं, बुधवार को संवाद श्रृंखला की कड़ी में राजस्थान भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने ‘भाजपा का इतिहास, विकास और ध्येय यात्रा’ पर राजस्थान भाजपा के फेसबुक पेज के माध्यम से अपना वक्तव्य दिया।

जनसंघ से लेकर भारतीय जनता पार्टी तक के पूरे सफर पर पूनियां ने विस्तार से वक्तव्य दिया।

उन्होंने भारत की सनातन परंपरा पर बात करते हुए स्व. डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी, स्व. पंडित दीनदयाल उपाध्याय, स्व. अटल बिहारी वाजपेयी, लालकृष्ण आडवाणी, स्व. सुंदर सिंह भंडारी, स्व. भैरोंसिंह शेखावत, स्व. ललित किशोर चतुर्वेदी, स्व. जेपी माथुर, स्व. किशन कुमार गोयल जैसे तमाम गणमान्य नेताओं व कार्यकर्ताओं के जीवन संघर्ष पर विस्तार से प्रकाश डाला।

उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कुशल एवं मजबूत नेतृत्व पर भी विस्तार से बात की।