कांग्रेस उपाध्यक्ष डॉ अर्चना शर्मा ने जयपुरिया अस्पताल को सामान्य आपातकालीन अस्पताल बनाए रखने के लिए लिखा पत्र

नेशनल दुनिया

कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष और मीडिया चेयरपर्सन डॉ अर्चना शर्मा ने राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को एक पत्र लिखकर जयपुरिया अस्पताल को सामान्य आपातकालीन अस्पताल बनाए रखने की अपील की है।

उन्होंने अपने पत्र में लिखा है कि चिकित्सा विभाग द्वारा मालवीय नगर स्थित राजकीय जयपुरिया अस्पताल को कोविड-19 के संक्रमित मरीजों हेतु सेंटर बनाए जाने से क्षेत्र में चिकित्सा सेवाएं प्रभावित हो रही है।

मालवीय नगर के साथ ही आस पड़ोस के क्षेत्र की लगभग 5 से अधिक आबादी को आपातकालीन सुविधाएं जयपुरिया अस्पताल से प्राप्त होती है।

जयपुरिया अस्पताल को कोविड-19 के संकेत करते संपूर्ण अस्पताल की हजारों की संपत्ति रही है।

साथ ही पूर्व से बीमारी के कारण सामान्य अस्पताल आपातकाल के मरीज आवश्यक सुविधा से वंचित हो रहे मरीजों का लॉक डाउन के कारण इलाज हेतु दूसरे स्थान पर जाना भी मुश्किल हो गया है।

उन्होंने लिखा है कि कोरोनावायरस पीड़ित मरीजों के साथ ही अन्य लोगों को भी चिकित्सा सुविधा देना हमारा ही दायित्व है।

ऐसे में मात्र 5 बिस्तरों को कोविड-19 मरीजों हेतु आरक्षित करना क्षेत्र की जनता के साथ अन्याय होगा। कोविड-19 हेतु जिन अस्पतालों को चिन्हित किया हुआ है। यदि वहीं पर बिस्तरों की क्षमता में वृद्धि कर दी जाए तो बेहतर रहेगा।

जयपुर अस्पताल के आसपास की रिहायशी कॉलोनियों में भी इस अस्पताल की व्यवस्था को लेकर काफी रोष और भय व्याप्त हो रहा है तथा यहां की जनता प्रतिदिन सैकड़ों की संख्या में उनसे खुद से मिलकर अपनी बात मुख्यमंत्री तक पहुंचाने का अनुरोध कर रही है।

आरयूएचएस को भी कोविड-19 का आइसोलेशन सेंटर बनाया गया है। अतः उनका निवेदन है कि इस क्षेत्र के एक अस्पताल आरयूएचएस को ही कोविड-19 हेतु आरक्षित रखा जाए तो सभी तरह से बेहतर रहेगा, जिससे आमजन को किसी का ने आपातकाल की स्थिति में जयपुरिया अस्पताल की सुविधाएं मिल सके।

यह भी पढ़ें :  राजस्थान में एक दिन में सर्वाधिक 47 नए मामले, अब तक 253 लोग कोरोनावायरस पॉजिटिव

डॉ अर्चना शर्मा ने लिखा है कि इसको भी कोविड-19 का सेंटर बनाया गया है।मुख्यमंत्री से निवेदन है कि इस क्षेत्र के एक अस्पताल को आमजन को किसी अन्य आपातकाल की स्थिति में अस्पताल की सुविधा मिल सके।

यह अस्पताल मालवीय नगर, बगरू, सांगानेर सभी विधानसभाओं के स्थित होने से आमजन को भी ऐसी स्थिति में तो इसकी पालना में भी मरीजों का यहां पहुंचना सुगम रहता है।

उन्होंने अनुरोध किया है कि व्यापक जनहित में क्षेत्र की जनता की ओर से इस निवेदन को मानते हुए उचित कार्रवाई करें।