ओपीडी बंद करने वाले प्राइवेट अस्पताल के खिलाफ होगी सख्त कार्रवाई

-निजी अस्पतालों में चिकित्सकीय सेवाएं जारी रखने के निर्देश

जयपुर, 13 अप्रेल। कोरोना वायरस की वैश्विक महामारी के बीच कई प्राइवेट अस्पतालों ने ओपीडी सेवा बंद कर दी है। इसके चलते आमतौर पर आने वाले मरीज सीधे सरकारी अस्पतालों में जा रहे हैं। जिसके कारण वहां पर भीड़ बढ़ रही है और कोरोनावायरस के खिलाफ जंग लड़ रहे सरकारी अस्पतालों और डॉक्टरों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

इसको ध्यान में रहते हुए राजस्थान सरकार ने प्राइवेट अस्पतालों के लिए आज एक एडवाइजरी जारी कर दी गई है। अतिरिक्त मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के रोहित कुमार सिंह ने प्रदेश के सभी निजी चिकित्सालयों में चिकित्सकीय सेवाएं प्रदान करने के निर्देश दिए हैं।

उन्होंने कहा कि निर्देशों की पालना नहीं होने की स्थिति में अस्पताल संचालकों के विरुद्ध नियमानुसार कार्यवाही की जा सकती है। सिंह ने बताया कि लाॅकडाउन के दौरान यह बात सामने आई कि कुछ निजी अस्पतालों ने सामान्य ओपीडी, आईपीडी सहित आपातकालीन सेवाएं बंद कर दी हैं। इससे मरीजों को भारी असुविधा का सामना करना पड़ रहा है।

उन्होंने स्पष्ट किया कि राजस्थान स्टेट हैल्थ एश्योरेंस एजेंसी ने एक अप्रेल को ही ओपीडी सेवाएं निर्बाध रूप से जारी रखने के लिए दिशा-निर्देश जारी कर दिए थे ।

इसके उपरान्त भी कई निजी अस्पतालों द्वारा मरीजों को आवश्यक सेवाएं प्रदान नही की जा रही हैं और सरकारी अस्पताल में मरीजों को रैफर किया जा रहा है।

इससे मरीजों को भी परेशानी हो रही है और राजकीय चिकित्सालयों पर भी अनावश्यक रूप से कार्यभार बढ़ रहा है। इसे ध्यान में रखते हुए निजी अस्पतालों को पुनः स्पष्ट निर्देश दिए गए हैं।

यह भी पढ़ें :  कांग्रेस के टिकट पर एक और वकील मैदान में उतरने को तैयार, सीकर से जताई दावेदारी