सोशल मीडिया पर हिंदू मुस्लिम नफरत के बीच जयपुर से आई अच्छी तस्वीर

रामगोपाल जाट

देश में कॉमेडी 19 के संकट के मद्देनजर जिस तरह से सोशल मीडिया पर नफरत परोसी जा रही है। उसके बीच हिंदू मुस्लिम एकता का एक जबरदस्त नमूना सामने आया है।

जयपुर में एक युवक की मृत्यु के बाद मुस्लिम परिवारों ने आगे बढ़कर न केवल युवक का अंतिम संस्कार किया है, बल्कि उसके परिवार की भी देख रहे कर रहे हैं।

प्रकरण जयपुर के भट्टा बस्ती थाना क्षेत्र के बजरंग नगर कच्ची बस्ती का है, जहां पर राजेंद्र नामक एक हिंदू युवक की कैंसर के चलते मौत हो गई। मौत के बाद यहां के मुस्लिम परिवारों ने न केवल मृतक राजेंद्र को कंधा दिया, बल्कि श्मशान घाट ले गए और पूरा अंतिम संस्कार भी हिंदू रीति रिवाज से किया गया।

जानकारी में आया है कि मृतक की कैंसर से पीड़ित था और दिहाड़ी पर मजदूर का कार्य करता था। जयपुर में सख्त लॉक डाउन होने के चलते घर पर ही उसकी तबीयत बिगड़ गई। अस्पताल नहीं ले जाया जा सका और मौत हो गई।

इस पर यहां पड़ोस में रहने वाले परिवारों ने मृतक राजेंद्र का अंतिम क्रिया कर्म किया। सोमवार को सुबह मुस्लिम परिवार के लोगों ने राजेंद्र की अंतिम यात्रा निकाली और श्मशान घाट जाकर अंतिम संस्कार किया।

इतना ही नहीं, बल्कि लॉक डाउन के चलते मृतक के परिवार पर आर्थिक संकट आने के कारण राशन वगैरह की सामग्री भी नहीं होने के कारण स्थानीय पड़ोसी मुस्लिमों ने दुख की घड़ी में परिवार के साथ खड़े होने की शपथ ली है।

बता दें कि मृतक राजेंद्र यहां अपनी मौसी के साथ रहता था। यहां पर मुस्लिम परिवार दुख की घड़ी में उनके साथ खड़े हैं। स्थानीय मुसलमानों का कहना है कि इंसानियत से बड़ा कोई धर्म नहीं होता है।

यह भी पढ़ें :  फूट पड़ा खून का फव्वारा, 7वीं बार में सफल हुआ brain tumor operation

यहां पर एक परिवार पर संकट आया है तो ऐसे संकट के समय वह सभी उस परिवार के साथ हैं और खाने-पीने से लेकर किसी भी तरह की दिक्कत नहीं आने दी जाएगी।