महाविद्यालय और विश्वविद्यालय की परीक्षाओं को लेकर महत्वपूर्ण निर्णय

कोविड-19 वैश्विक महामारी के चलते राज्य के विद्यार्थियों को किसी प्रकार की परेशानी या अकादमिक हानि नहीं हो, इसे दृष्टिगत रखते हुए स्थगित परीक्षाओं एवं आगामी सत्र प्रारंभ करने के संदर्भ में भँवर सिंह भाटी, उच्च शिक्षा मंत्री, राजस्थान सरकार द्वारा निम्न निर्णय लिए गए हैं –

समस्त राजकीय एवं गैर राजकीय महाविद्यालयों में ग्रीष्मावकाश 16 अप्रैल से 31 मई 2020 तक घोषित किया जाए।

विश्वविद्यालयों की शेष रही स्नातक एवं स्नात्तकोत्तर की अंतिम वर्ष/सेमेस्टर की परीक्षाओं का आयोजन 1 जून, 2020 से एवं स्नातक प्रथम, द्वितीय वर्ष व स्नातकोत्तर पूर्वार्द्ध वार्षिक/सेमेस्टर परीक्षाओं सहित अन्य परीक्षाएं इनके पश्चात वरीयता के आधार पर आयोजित की जावें।

नवीन अकादमिक सत्र 01 जून, 2020 से आरम्भ किया जाए।

स्नातक प्रथम वर्ष व अन्य समकक्ष पाठ्यक्रमों में प्रवेश 15 जून 2020 से बोर्ड परीक्षाओं के परिणाम जारी होने के बाद आरम्भ किया जाए।

स्नातक द्वितीय एवं तृतीय वर्ष तथा स्नातकोत्तर उत्तरार्द्ध की कक्षाओं में विद्यार्थियों को अस्थाई प्रवेश देकर शिक्षण आरम्भ की जाए।

प्रोफेशनल पाठ्यक्रम-एजुकेशन, विधि एवं एम.बी.ए. की परीक्षाओं का आयोजन एवं उनके आगामी अकादमिक उनकी सम्बद्ध नियामक शीर्ष संस्थाओं के दिशा-निदेशों की अनुपालना सुनिश्चित की जाए।

स्नातकोत्तर स्तर पर विद्यार्थियों की विगत परीक्षाओं में प्राप्तांकों की मेरिट के आधार पर प्रवेश दिया जाए।

यह भी पढ़ें :  कोरोना वायरस से लड़ रहे योद्धाओं के लिए भाजपा अध्यक्ष डॉ सतीश पूनिया ने मां के साथ बजाई थाली