बीते 10 दिन में भारत में बड़े 70% मरीज, सबसे ज्यादा महाराष्ट्र में मिले, सर्वाधिक मौत भी यहीं पर

वैश्विक महामारी कोविड-19 के 30 मार्च के बाद मरीजों की संख्या में तेजी से बढ़ोतरी हुई है। केंद्र सरकार की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 10 दिन के दौरान देश में 70% मरीज बढ़े। जिनमें से अधिकांश दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात के कार्यक्रम में शिरकत करके अपने-अपने प्रदेशों में लौटने वाले हैं।

आज की तारीख में देश में सर्वाधिक मरीज महाराष्ट्र में हैं, जबकि मृतकों की संख्या अभी महाराष्ट्र 100 से अधिक हो चुकी है। एक दिन पहले ही उड़ीसा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने राज्य में लॉक डाउन की तिथि 30 अप्रैल तक बढ़ाई थी। शुक्रवार को पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी 1 मई तक लॉक डाउन किए जाने की घोषणा कर दी है।

आज की तारीख में देश भर में 6700 से अधिक कोरोना पहुंची टीम मरीज मिल चुके हैं, जबकि पूरे देश भर में 215 से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है। 30 मार्च तक पूरे देश में मरीजों की संख्या करीब 1450 थी।

दुनिया भर के आंकड़ों से भारत के मरीजों की संख्या की तुलना की जाए तो अमेरिका और ब्रिटेन से भी ज्यादा औसत में भारत के मरीज जान गंवा रहे हैं। भारत में 5000 मरीजों पर 145 लोगों की जान जा चुकी है, जबकि अमेरिका में 5000 रोगियों पर केवल 34 लोग मौत के मुंह में समा रहे हैं।

भारत के सबसे गर्म प्रदेश के जाने वाली राजस्थान में मरीजों की संख्या दोपहर 2:00 बजे तक 520 हो चुकी थी, जबकि यहां पर अब तक 8 लोग अपनी जान गवां चुके हैं। पूरे देश में इस वक्त कोई भी ऐसा प्रदेश नहीं है, जहां पर कोरोनावायरस पॉजिटिव मरीज नहीं मिला हो।

यह भी पढ़ें :  पिंकी चौधरी की तरह भागकर शादी करने वाली लड़की की 10 साल पहले इसी लड़के से सगाई हुई थी