आपदा में राजनीति भारी, विधायक समर्थक ने फोड़ा सिर, बचाने थाने पहुंचे MLA

नेशनल दुनिया डेस्क

कोविड-19 की महामारी के बीच राजनीति करने वाले लोग लगातार अपनी रोटियां सेकने में लगे हुए हैं। राजस्थान के कई विधायक राहत पहुंचाने के नाम अपने नाम और फोटो चस्पा कर खाने के पैकेट समेत अन्य खाद्य सामग्री अपने-अपने विधानसभा क्षेत्र में बांटकर इस महामारी के बीच भी प्रचार करने में जुटी हुए हैं, तो दूसरी तरफ उनके समर्थक भी इस धारा में उनसे आगे निकलते हुए नजर आ रहे हैं।

आज की इस खबर में हम जयपुर के चुनिंदा विधायकों की कहानी और वो करतूत बताएंगे, जिसमें उनके द्वारा अपने नाम के बैग, फोटो लगे सैनिटाइजर मशीनें और दूसरी कई तरह के प्रचार सामग्री विधायक कोष के द्वारा जनता के बीच प्रचार करने का माध्यम बनाकर जुटे हुए हैं।

जेम्स बांड बन गए हवामहल के विधायक महेश जोशी

जब राजस्थान समेत पूरे देश में लोग डाउन शुरू हुआ तो उसके बाद मानव जनप्रतिनिधियों के बीच जनता में जाकर उनकी सेवा करने की एक होड़ सी लग गई। राजस्थान विधानसभा में मुख्य सचेतक और हवामहल क्षेत्र से विधायक महेश जोशी ने इस मामले में सभी विधायकों को पीछे छोड़ते हुए नगर निगम की सैनिटाइज करने वाली गाड़ी के बोनट पर बैठकर जेम्स बॉन्ड की स्टाइल में सैनिटाइजर का छिड़काव किया।

इतना ही नहीं विधायक कोष से अपने विधानसभा क्षेत्र में सैनिटाइजर और मास्क बांटने की घोषणा में भी विधायक महोदय ने सबको पीछे छोड़ दिया। महेश जोशी ने सैनिटाइजर की जो मशीनें बांटी उन सब पर खुद के फोटो और नाम के स्टीकर चस्पा कर दिए। सोशल मीडिया में जब विधायक की किरकिरी हुई तो उन्होंने कदम पीछे खींच लिए।

यह भी पढ़ें :  Panchayat chunav-2020: पहले चरण में सरपंच के लिए 17,242 उम्मीदवार डटे हैं मैदान में

हवामहल विधायक अमीन कागजी ने भी जमकर किया प्रचार-प्रसार

महेश जोशी के बगल वाली सीट हवा महल से पहली बार विधानसभा पहुंचे अल्पसंख्यक समाज से आने वाले अमीन कागज़ी ने महेश जोशी से भी आगे निकलते हुए न केवल सैनिटाइजर और मास्ट पर अपने फोटो और नाम चश्मा कर प्रचार प्रसार किया, बल्कि गुरुवार को राहत सामग्री बांटने के नाम पर जमकर तुष्टीकरण किया और महाकर्फ्यू के बीच सारे नियम कायदे ताक में रख दिए।

कानून व्यवस्था का जमकर मखौल उड़ाया

इस दौरान विधायक अमीन कागज़ी ने न केवल कानून व्यवस्था की धज्जियां उड़ाई, बल्कि कई जगह कानून व्यवस्था संभाल रहे पुलिसकर्मियों को भी धमकाने का काम किया और अपने समर्थकों के साथ सोशल डिस्टेंसिंग का जमकर मखौल उड़ाया। बावजूद इसके विधायक किया उनके किसी समर्थन के खिलाफ मामला दर्ज नहीं किया गया है।

सिविल लाइन क्षेत्र के प्रताप सिंह खाचरियावास ने भी एक करोड़ रुपए का प्रचार किया!

प्रदेश की यातायात एवं सैनिक कल्याण मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने राजस्थान के सभी विधायकों को पीछे छोड़ते हुए अपने क्षेत्र में सैनिटाइजर और मास्क बांटने के लिए एक करोड़ पर विधायक कोष से देने का ऐलान किया।

इतना ही नहीं, उन्होंने जो सैनिटाइजर मशीनें और राहत सामग्री के साथ खाद्य सामग्री अपने क्षेत्र में जनता में बांटी, उसमें सब पर जमकर चुनाव प्रचार करने का काम किया अपने फोटो और नाम के थैले छपाई और जनता में बांटकर सरकारी धन का दुरुपयोग किया।

सांगानेर विधायक अशोक लाहोटी ने खाने के पैकेट पर भी प्रचार करने में कसर नहीं छोड़ी

सांगानेर विधानसभा क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी की विधायक अशोक लाहोटी ने अपने क्षेत्र में जनता के बीच राहत सामग्री विधायक कोष से जमकर बांटी। इस दौरान उन्होंने खाने के पैकेट से लेकर सैनिटाइजर और मास्क समेत तमाम चीजों पर अपने नाम और फोटो का चस्पा कर प्रचार करने में कोई कसर नहीं छोड़ी।

यह भी पढ़ें :  आरएलपी पार्टी का स्थापना दिवस आज: प्रदेशभर में सामाजिक सरोकार के कार्यों के साथ मनाया जा रहा है

सांगानेर विधानसभा क्षेत्र से ही विधायक अशोक लाहोटी के प्रतिद्वंदी रहे कांग्रेस के उम्मीदवार पुष्पेंद्र भारद्वाज ने भी राहत सामग्री पर अपने फोटो और नाम का खूब उपयोग किया। खाने के पैकेट से लेकर सैनिटाइजर और मास्टर उम्मीदवार ने नाम और फोटो चस्पा कर जनता में राहत के नाम पर बांटे।

समर्थक भिड़े, उम्मीदवार के समर्थक का सिर फोड़ा, थाने में हुआ समझौता

शुक्रवार को मानसरोवर में विधायक अशोक लाहोटी और कांग्रेस के उम्मीदवार रहे पुष्पेंद्र भारद्वाज के समर्थक आपस में भिड़ गए। राहत सामग्री और खाने के पैकेट बांटते समय दोनों के समर्थकों में भिड़ंत हो गई। इस दौरान अशोक लाहोटी के एक समर्थक मुकेश लखयानी ने पुष्पेंद्र भारद्वाज के समर्थक का सिर फोड़ दिया।

पार्षद उम्मीदवार भी प्रचार करने में जमकर लगे हुए हैं

विधायक और मंत्री ही नहीं बल्कि राजधानी जयपुर में पार्षद बनने का सपना पाले कई संभावित उम्मीदवार अपने-अपने क्षेत्र में राहत सामग्री के नाम पर चुनाव प्रचार करने में जुटी हुए हैं। सोशल मीडिया पर फोटो वीडियो डालने से लेकर राहत सामग्री और खाने के पैकेट पर भी अपने फोटो और नाम चश्मा कर जनता के बीच जा रहे हैं।

img 20200410 wa00088250025449758994696
मंत्री की गाड़ी में बिना मास्क लगाए बैठे उनके सहयोगी।

मंत्री की गाड़ी में बैठे समर्थक ने मास्क लगाते हैं ना उनको कोई डर

सबसे गंभीर मामला शुक्रवार को तब सामने आया, जब चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा की गाड़ी में बैठे उनके सहयोगी बिना मास्क लगाए दिखाई दिए। चिकित्सा मंत्री एक टीवी चैनल के साथ गाड़ी में बैठे बात कर रहे थे, तो उनके पीछे बैठे से सहयोगी बिना मास्क के ही बैठे हुए थे। ऐसा लग रहा है कि मंत्री के सहयोगी होने के कारण उनको मास्क नहीं लगाने की छूट दी गई है।

यह भी पढ़ें :  भाजपा प्रदेश युवा मोर्चा की दौड़ में राजेश गुर्जर सबसे आगे, 5 नाम अन्य भी हैं

सरकार ने कहा था शहर के सभी लोग मास्क का प्रयोग करें

इससे पहले गुरुवार को ही राजस्थान सरकार ने राज्य के सभी जिलों के शहरों में रहने वाले लोगों को बाहर निकलने के दौरान चेहरे पर मास्क लगाने के निर्देश दिए थे। इसके साथ ही सरकार ने कहा था कि जो व्यक्ति मास्क का प्रयोग नहीं करेगा उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी। क्या अब मंत्री के सहयोगियों के खिलाफ भी कानूनी कार्रवाई की जाएगी?