लॉक डाउन में हर रोज सवा 2 लाख पैकेट बांटे जा रहे हैं

लॉक डाउन का पूरी तरह हो पालन इसलिए असहायो तक घर-घर पहुंचाई जा रही है सूखी राशन सामग्री

-अब तक 24 हजार 199 परिवारों तक पहुंचाई जा चुकी है राशन सामग्री
2 लाख 25 हजार से ज्यादा फूड पैकेट भी रोज वितरित किए जा रहे हैं
जयपुर।

कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए सरकार द्वारा जारी किए गए लॉकडाउन के निर्देशों का पूरी तरह पालन सुनिश्चित कराने के लिए जिला प्रशासन एवं नगर निगम जयपुर ग्रेटर एवं हेरिटेज असहाय एवं निराश्रित लोगों के घरों तक सूखी राशन सामग्री पहुंचा रहा है।

प्राधिकारी एवं आयुक्त नगर निगम जयपुर विजय पाल सिंह ने बताया कि अब तक 24199 परिवारों/ लोगों तक सूखी राशन सामग्री पहुंचाई जा चुकी है।

img 20200409 wa00206108664320338700765


नगर निगम जोन उपायुक्त एवं अन्य अधिकारियों द्वारा विधानसभा वार सूखी राशन सामग्री वितरित करवाई जा रही है। नगर निगम के अधिकारियों एवं सिविल डिफेंस पर्सन्स द्वारा नगर निगम क्षेत्र में सूखी राशन सामग्री का वितरण किया जा रहा है।

आयुक्त ने बताया कि गुरुवार को 10 विधानसभा क्षेत्रों में 3 हजार 883 एवं बुधवार को 1 हजार 327 परिवारों /लोगो को सूखी राशन सामग्री पहुंचाई गई। उन्होंने बताया कि इससे पूर्व 18 हजार 989 परिवारों / लोगों तक सूखी राशन सामग्री पहुंचाई जा चुकी थी।


आयुक्त विजय पाल सिंह ने बताया कि जिला प्रशासन एवं अन्य स्रोतों से असहाय एवं निराश्रित लोगों की जो सूची प्राप्त हुई उसका वेरिफिकेशन करवाने के बाद राशन सामग्री का वितरण करवाया जा रहा है।

आयुक्त ने बताया कि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना के तहत जिन लाभार्थी परिवारों को सीधे राशन की दुकानों से राशन सामग्री मिल रही है उनके अतिरिक्त अन्य लोगों को सूखी राशन सामग्री उपलब्ध करवाई जा रही है।

यह भी पढ़ें :  नाबालिग लड़की से गैंगरेप मामले में अलवर में थानाधिकारी सहित 4 पुलिसकर्मी लाइन हाजिर

उन्होंने बताया कि इस कार्य में लगे अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि यदि उन्हें कोई निराश्रित या असहाय लोग मिलते हैं या इसकी सूचना मिलती है तो उनका वेरिफिकेशन करके उन्हें तुरंत सूची में शामिल करें और उन्हें सुखी राशन सामग्री उपलब्ध कराएं।

img 20200409 wa00194798057758471098469


रोज सवा दो लाख से ज्यादा फूड पैकेट भी वितरित किए जा रहे हैं


आयुक्त ने बताया कि इसके अतिरिक्त रोज सवा दो लाख से ज्यादा तैयार भोजन के पैकेट भी लोगों तक पहुंचाए जा रहे हैं।