आरएलपी विधायक इंदिरा देवी बावरी धरने पर बैठीं, लोगों को नहीं मिल रहा था खाना

नागौर

कोरोना वायरस की त्रासदी में नागौर ज़िले के मेड़ता सिटी में ग़रीब परिवारों को खाना नहीं मिलने से ख़फ़ा आरएलपी की मेड़ता से विधायक इंदिरा देवी बावरी धरने पर बैठ गईं।

राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के विधायक ने मेड़ता सिटी के पुलिस थाने के पीछे कच्ची बस्ती के लोगों को पिछले कई दिनों से प्रशासन पर खाध्यान सामग्री नही देने का आरोप लगाया है।

उन्होंने आरोप लगाकर सभी ग़रीब परिवार के लोगों को खाना उपलब्ध कराने की मांग की है। मामले को लेकर विधायक इंदिरा देवी ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से भी मोबाइल से बात की और मुख्यमंत्री से ग़रीबों के साथ किए जा रहे भेदभाव रवेये को अन्याय पूर्ण बताया।

उन्होंने कहा कि खाने से महरूम ऐसे परिवारों को तत्काल खाध्यान उपलब्ध करवाई जाए। इस पर मामले को बढ़ता देख मेड़ता उपखंड अधिकारी एवं पुलिस के अधिकारियों ने मोके पर जाकर विधायक से वार्ता की व हर संभव मदद का भरोसा दिलाया।

इसके बाद विधायक ने अपनी मांगों पर अडिग रहते हुए प्रशासन को चेतावनी दी कि जब तक नागौर का जिला प्रसासन क़रीब 60-70 लोगों के ग़रीब परिवारों को खाने की सामग्री उपलब्ध नहीं कराएगा, वह धरने से नही उठेंगी।

इसके बाद मामले को बढ़ता देख मेड़ता उपखंड प्रशासन ने खाद्य सामग्री को मोके पर भेजकर ग़रीब परिवारों को सामग्री का वितरण कराया। विधायक ने इसको लेकर भविष्य में एसे परिवारों का विशेष ध्यान रखे जाने का निर्देश दिया।

यह भी पढ़ें :  पायलट की टक्कर में सरकार में नंबर दो मंत्री को उतारा