राज्यवर्धन राठौड़ को है सबसे तेज़ धावक की तलाश, हर गांव, कस्बे, जिला स्तर पर होगी परख

जयपुर।

राजधानी जयपुर के जयपुर ग्रामीण लोकसभा सीट से सांसद राज्यवर्धन सिंह राठौड़ के प्रयासों से यहां पर लगातार तीसरे साल खेलों के महाकुंभ का आयोजन किया जा रहा है।

दौड़ और रस्साकशी के द्वारा जयपुर ग्रामीण लोकसभा क्षेत्र में 7.5 लाख रुपये की इनामी राशि के साथ सबसे तेज़ धावक की तलाश की जाएगी। इसमें विजेताओं को मोटरसाइकिल और स्कूटी समेत कुल 7.5 लाख की पुरुस्कार राशि दी जाएगी।

केंद्रीय युवा मामलात एवं सूचना और प्रसारण मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने इसकी घोषणा की। राठौड़ ने कहा कि 36 कौम को साथ लेकर यह खेल प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाएगा। जिसमें सामने आने वाली प्रतिभाओं को आगे बढ़ाया जाएगा।

11 फरवरी से “जयपुर महखेल-2019” की पंजीकरण प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। “खेलो इंडिया” से प्रेरित यह महाखेल होंगे, जिसमें दौड़ और रस्साकशी की प्रतियोगिताएं होंगी। 24 फरवरी 2019 तक इसका आयोजन किया जाएगा।

दौड़ में 100, 1500 और 3000 हज़ार मीटर की प्रतियोगिताएं होंगी। जयपुर ग्रामीण की 362 ग्राम पंचायतों में खेल होंगे। उसके बाद 16 से 18 फरवरी तक विजेता खिलाड़ियों की विधानसभा स्तर पर प्रतियोगिताएं होंगी। फाइनल मुकाबले 24 फरवरी 2019 को होंगे।

जयपुर में पत्रकारों से अनोपचारिक बात करते हुए कर्नल राज्यवर्धन राठौड़ ने बताया कि पिछले 5 वर्षों में जयपुर ग्रामीण लोकसभा क्षेत्र की 362 ग्राम पंचायत, 8 वार्डों, 7 नगर पालिकाओं में विकास के लिए बिना किसी भेदभाव के धनराशि दी गई है।

img 20190202 wa00118158224932602843427

उन्होंने बताया कि 8 और 8 करोड़ की लागत से क्षेत्र में 32 छोटे-बड़े स्टेडियम का निर्माण किया जा रहा है। राठौड़ ने बताया कि सेना के सहयोग से उन्होंने क्षेत्र में युवाओं को खेलों के प्रति जागरूक किया है।

यह भी पढ़ें :  प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनियां ने मास्क लगाकर की जनसुनवाई

अब वहां युवा नशा और ताशपत्ती खेलने के बजाए अपनी शारीरिक स्थिति में सुधार कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि जयपुर ग्रामीण में पहले से ही खेल मैदानों पर सेना भर्ती के लिए प्रशिक्षण दिया जाता रहा है, जिसकी बदौलत यहां से युवा सेना और पुलिस में जा रहे हैं।

राठौड़ ने बताया कि जयपुर महा खेल क्षेत्र के युवाओं में काफी लोकप्रिय हो चुका है। इसका मुख्य कारण है कि इसमें कबड्डी, खो-खो, वालीबॉल, दौड़, रस्साकशी जैसे खेलों को शामिल किया जाता है, जो ग्रामीण क्षेत्रों में अत्यधिक लोकप्रिय है।

राठौड़ ने बताया कि जल्द ही केंद्र सरकार एक एप्लीकेशन लांच करने वाली है। जिसके द्वारा पूरे देश के खेलों से संबंधित सभी प्रशिक्षणदाताओं की सूची उसमें अपलोड कर दी जाएगी। जिसको भी जिस क्षेत्र में आवश्यकता होगी, उसी क्षेत्र में वह उसकी तलाश कर सकेगा। दुनिया भर में पहली बार ऐसा भारत में होने जा रहा है।

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि देश में किसानों को बढ़ाने के लिए सरकार ने नीम कोटेड यूरिया के अलावा 32 फसलों पर एमएसपी के दाम बढ़ाए हैं। किसानों की फसलों के भंडारण और खरीद केंद्र बढ़ाने के लिए काम किया जा रहा है।

डिजिटल इंडिया की बात करते हुए राठौड़ ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद डिजिटल इंडिया के तहत न्यूज़ पोर्टल्स को मान्यता देने के साथ ही डीएवीपी से उनको अप्रूव्ड करने का काम करने के लिए कह चुके हैं। इस पॉलिसी को लागू कर दिया गया है और आवेदन मांगे जा रहे हैं।

खेलों को बढ़ावा देने के लिए खेल राज्य मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार एक फंड में 1000 करोड़ पर डालने का काम करेगी, जो 10 वर्ष तक के खिलाड़ियों की पहचान कर उनको वाले 8 साल तक के लिए प्रशिक्षण दिया जाएगा और खेल उपकरण उपलब्ध करवाए जाएंगे।

यह भी पढ़ें :  जमाती जहां भाग रहे हैं, वहीं पलसाना के क्वॉरेंटाइन सेंटर में ठहरे प्रवासी मजदूरों ने बेहतरीन उदाहरण पेश किया

केंद्र सरकार के द्वारा जीएसटी को लागू करने के बाद इसी माह टैक्स कलेक्शन एक लाख करोड रुपए से अधिक होने की बात कहते हुए उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने पहली बार रक्षा बजट को बढ़ाकर 3 लाख करोड़ रुपए से अधिक कर दिया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ करते हुए राज्यवर्धन राठौड़ ने कहा कि देश को पहली बार ऐसा प्रधानमंत्री मिला है, जो खुद 18-18 घंटे काम करता है और किसी मंत्री को भी चैन से नहीं बैठने देता है।

पिछले दिनों जयपुर में नेशनल लेवल की साइटलिस्ट के साथ रहने की सुविधा को लेकर राठौड़ ने कहा कि यह राज्य का विषय है और राज्य सरकारों को इसके ऊपर ध्यान देना चाहिए। यहां से जीतने के बाद विदेश स्तर पर जाने वाले खिलाड़ियों को संभालने का काम सेंट्रल गवर्नमेंट का है, और उस जिम्मेदारी को हम बखूबी निभा रहे हैं।

राठौड़ ने केंद्र सरकार द्वारा किए जा रहे कार्यों के बारे में भी विस्तार से चर्चा की। उन्होंने खुद के सीट बदलने की बात को सिरे से नकारते हुए कहा कि अच्छा काम किया है, और अच्छे काम के दम पर एक बार फिर से जयपुर ग्रामीण से लोकसभा का चुनाव लड़ने जा रहे हैं।