कोरोना से लड़ने के लिए राजस्थान सरकार ने मांगे प्राइवेट हॉस्पिटल

प्रदेश के सभी निजी चिकित्सालय आपातकालीन स्थिति में स्वास्थ्य सेवाएं देने के लिए रहें तैयार -चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री

जयपुर, 27 मार्च।

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए राजस्थान सरकार ने प्राइवेट हॉस्पिटल की सेवाएं मांगी है। सरकार सभी अस्पतालों को अपने डॉक्टर, कंपाउंडर, लेब टेक्नीशियन की सेवाएं देने के लिए सहमति मांगी है।

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच प्रदेश के सभी निजी चिकित्सालयों के संचालकों, सोसायटी या ट्रस्ट द्वारा चलाए जा रहे निजी व अन्य चिकित्सालयों से कोविड-19 से संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए अपने चिकित्सालयों को आंशिक या पूर्ण रूप उपलब्ध कराने और संस्थानों में कार्यरत चिकित्सक, नर्सिग कर्मी एवं अन्य पैरामेडिकल स्टाफ द्वारा पूर्ण सहयोग करने का आग्रह किया है।

डॉ. शर्मा ने कहा कि विश्व भर में कोरोना वायरस से संक्रमण के चलते विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इसे महामारी घोषित कर दिया है।

उन्होंने बताया कि राजस्थान में संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए सभी जन साधारण को चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग, राजस्थान सरकार द्वारा दिशा-निर्देश जारी किए जा चुके हैं।

चिकित्सा मंत्री ने बताया कि राज्य सरकार द्वारा कोविड-19 से संक्रमित मरीजों के उपचार के लिए यथासम्भव प्रयास किए जा रहे हैं।

संक्रमण की आशंका को ध्यान मे रखते हुए वैकल्पिक व्यवस्थाएं भी की जा रही हैं। संक्रमण की आशंका को देखते हुए राज्य सरकार ने राजकीय चिकित्सा संस्थानों पर उपलब्ध उपचार की सुविधाओं के साथ ही वैकल्पिक व्यवस्थाओ की पूर्व तैयारी आवश्यक हैं।

डॉ. शर्मा ने कहा कि निजी चिकित्सालय तथा निजी क्षेत्र मे कार्यरत चिकित्सक, नर्सिंग कर्मी एवं अन्य पैरामेडिकल स्टाफ के संबध में सूचना विभागीय वेबसाइट www.raiswasthya.nic. in पर उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए हैं। हैं।

यह भी पढ़ें :  सचिन पायलट बनेंगे मुख्यमंत्री, गहलोत कांग्रेस अध्यक्ष होंगे