नई दिल्ली

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) की अगुवाई वाली केंद्र सरकार ने कोरोना वायरस (Coronavirus) से लड़ते हुए देश को बड़े राहत पैकेज की घोषणा की है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitaraman) और वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर के द्वारा बताई गई घोषणाओं में देश के प्रत्येक व्यक्ति को राहत मिलती हुई नजर आ रही है।

केंद्र सरकार ने पूरे देश के करीब 1.30 अरब लोगों के लिए 1.70 लाख करोड़ रुपये के राहत पैकेज का एलान किया है। इस तरह से देखा जाए तो देश के हर नागरिक के हिस्से में लगभग 1.30 लाख रुपये आते हैं।

महिलाओं के लिए

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत देश की 20 करोड़ महिलाओं के खातों में अगले 3 माह तक हर महीने 500 रुपये मिलेंगे।

किसानों के लिए

देश के प्रत्येक किसान को अगले 3 माह तक उनके खातों में 2000-2000 रुपये देगी। वर्तमान में करीब 14 करोड़ किसान हैं।

कर्मचारियों के लिए

संगठित क्षेत्र के 80 लाख कर्मचारियों को भविष्य निधि का 12% पैसा जमा नहीं कराना पड़ेगा। उनके चार लाख लाख नियोक्ताओं को भी 12% भविष्य निधि का पैसा नहीं देना पड़ेगा, दोनों का 24% पैसा सरकार देगी।

इसके साथ ही ऐसे कर्मचारियों को 75% non-refundable भविष्य निधि का पैसा भी निकालने की अनुमति होगी, किंतु यह रुपैया 3 महीने की वेतन से अधिक नहीं होना चाहिए। यह सुविधा 4.80 करोड़ कर्मचारियों के लिए है।

असंगठित क्षेत्र के मजदूरों के लिए

केंद्र सरकार ने असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले करीब 3.50 करोड़ मजदूरों के लिए भी 31000 करोड़ के राहत पैकेज का एलान किया है।

7 करोड़ स्ववित्तपोषित के लिए

सरकार ने स्ववित्तपोषित 7 करोड़ लोगों के लिए भी दीन दयाल उपाध्याय योजना के तहत लोन देने की राशि बढ़ाकर दोगुनी कर दी है। अब तक इन लोगों को 10 लाख रुपये की राशि मिलती थी, जो 20 लाख की गई है।

बुजुर्गों, महिलाएं और विकलांग के लिए

सरकार ने करीब 3 करोड़ बुजुर्ग, महिला और विकलांग श्रेणी के लोगों को भी अगले 3 माह की एडवांस पेंशन देने का एलान किया गया है।

डॉक्टरों के लिए

कोरोनावायरस का उपचार कर रहे डॉक्टरों, नर्सिंगकर्मियों, वार्ड ब्वॉय, लैब टेक्नीशियन और अन्य सफाई कर्मियों को भी 50 लाख रुपये का बीमा देने का ऐलान किया है।

मरीजों के लिए

सरकार ने मरीजों के उपचार, टेस्टिंग और दवाओं के लिए राज्य सरकारों से डिस्ट्रिक्ट मिनरल फंड में से उपलब्ध कराने को कहा है।

सरकारी कर्मचारियों के लिए

सरकारी कर्मचारियों को लॉक डाउन के तहत छुट्टी दे दी गई है, लेकिन उनके वेतन में कोई कटौती नहीं होगी। उनको घर बैठे भी वेतन मिलेगा।